रुपयों को लेकर जेल में मिलाई करने में दीवार बने सिपाही

हरदोई: जहां एक तरफ मोदी सरकार 500-1000 के नोट बंद कर देश से भ्रष्टाचार मिटाने का प्रयास कर रही है। और काले धन या अवैध रूप से कमाई करने वालों पर सरकार नकेल कसने में पीछे नहीं हट रही है। वही अब भी सरकारी विभागों में 500 और 1000 के नोट की जगह अब 50 के और 100 के नोट वसूलना शुरू कर दिए गए हैं।





ताजा मामला उत्तर प्रदेश की राजधानी से सटे हुए हरदोई जिले का है जिला जेल में अपने परिजनों से मिलाई करने के लिए आए। कुछ लोगों को सिपाही ने इसलिए वहां से भगा दिया। कि उनके पास पैसे नहीं थे सिपाही को देने के लिए जिसके बाद उन लोगों ने आला अधिकारियों से शिकायत भी की मगर अभी तक आरोपी सिपाही के ऊपर कोई कार्यवाही नहीं हुई है।

यह सभी लोग जनपद उन्नाव से हरदोई जिला जेल में बंद अपने परिजनों से मिलने के लिए आए थे इनमें ज्यादातर महिलाएं थी। कोई अपने भाई तो कोई अपने पति से मिलने के लिए सिपाही से फरियाद करती रही। मगर सिपाही ने एक ना सुनी यह लोग सपा नेता का पैड भी ले कर गए मगर सिपाही ने इन्हें उनके परिजनों से नहीं मिलने दिया जिसके बाद उन्होंने कई अधिकारियों से गुहार भी लगाई। मगर अभी तक उनकी कही सुनवाई नहीं हुई है।




जिसके बाद सपा के जिला उपाध्यक्ष अजय पाल का कहना है कि वह इस बात की शिकायत मुख्यमंत्री और जेल मंत्री से करेंगे। ताकि भ्रष्ट कारागार कर्मियों के खिलाफ कठोर कार्यवाही हो। ताकि कैदियों के घरवालों से मिलने के लिए पैसों को लेकर बीच में दीवार ना बने क्योंकि जिला कारागार में इस समय भ्रष्टाचारी चरम सीमा पर पहुंच चुकी है और कारागार के वरिष्ठ अधिकारी कोई भी कार्रवाई करने से साफ मुकर रहे हैं। जिसको लेकर कैदियों और उनके परिजनों में रोष व्याप्त है।

Loading...