1. हिन्दी समाचार
  2. हरियाणा चुनाव: खट्टर को भारी पड़ी जाटों की नाराजगी, जाट लैण्ड में जीते कांग्रेस-जेजेपी

हरियाणा चुनाव: खट्टर को भारी पड़ी जाटों की नाराजगी, जाट लैण्ड में जीते कांग्रेस-जेजेपी

By बलराम सिंह 
Updated Date

Haryana Elections Jat Resentment Over Khattar Congress Jjp Won In Jat Land

नई दिल्ली। हरियाणा विधानसभा चुनाव के नतीजे अंतिम चरण में हैं। जाट बहुल 32 सीटों में 15 कांग्रेस के खाते में जाती दिख रही हैं, वहीं नवगठित जेजेपी भी 10 सीटों पर आगे चल रही है। पिछली बार 15 सीटों तक सिमटी कांग्रेस को इस बार 35 सीटों पर बढ़त मिलती दिख रही है। रुझानों के विश्लेषण से पता चलता है कि कांग्रेस को इस बार सबसे ज्यादा फायदा राज्य के जाटलैंड और ग्रामीण इलाकों से हुआ है। उधर, 10 महीने पहले बनी जननायक जनता पार्टी (जजपा) को भी सभी 10 सीटों पर बढ़त जाट बहुल इलाकों से मिली है।

पढ़ें :- ब्रह्ममुहूर्त में खोले गए बदरीनाथ धाम के कपाट, सीएम ने की कोरोना महामारी से मुक्ती की प्रार्थना

हरियाणा की राजनीति के जानकार बताते हैं राज्य के गठन के बाद से ही हर चुनाव में जाट ही हरियाणा का सीएम तय करते थे। हालांकि 2014 की मोदी लहर में सारे समीकरण ध्वस्त हो गए और बीजेपी ने 90 सीटों वाली विधानसभा में 47 सीटें हासिल। पार्टी हाईकमान ने जाटों को दरकिनार कर गैर जाट वर्ग के मनोहर लाल खट्टर को हरियाणा का सीएम बना दिया। इसके बाद जाट आरक्षण आंदोलन समेत कई मसलों को सही ढंग से न निपटाने के कारण खट्टर की छवि जाट विरोधी होती गई। आखिरकार चुनाव में जाटों ने अपनी नाराजगी दिखाई और बीजेपी बहुमत से दूर हो गई।

हरियाणा में 2019 लोकसभा चुनाव में भाजपा 58% वोट हासिल हुए थे, जबकि विधानसभा चुनावों में भाजपा को महज 36% वोट मिले। 5 महीने बाद हुए इन चुनावों में भाजपा को 22% वोटों का नुकसान हुआ है। हालांकि, 2014 विधानसभा चुनाव के मुकाबले भाजपा का वोट शेयर 3% बढ़ा है।
जाट बहुल 32 सीटों में 15 कांग्रेस के खाते में जाती दिख रही हैं, वहीं नवगठित जेजेपी भी 10 सीटों पर आगे चल रही है।

अनुच्छेद 370 पर भारी पड़ी जाटों की नाराजगी

हरियाणा जैसे राज्य जहां बहुत बड़ी संख्या में सेना और सुरक्षाबल में काम करते हैं। उन पर भी जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने का बहुत ज्यादा असर नहीं हुआ है। इसी के दम पर बीजेपी दावा कर रही थी कि उसे राज्य में 75 सीटें ज्यादा मिलेंगी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ पीएम मोदी, पार्टी अ​ध्यक्ष अमित शाह समेत दिग्गजों की मेहनत के बाद भी बीजेपी बहुमत से दूर रह गई।

पढ़ें :- देश में कोरोना संक्रमण की रफ्तार हुई कम, 24 घंटे में मिले 2.6 लाख केस, 3719 लोगों की गई जान

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X