1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. हरियाणा : इनेलो सुप्रीमो ओम प्रकाश चौटाला दो जुलाई को तिहाड़ जेल से होंगे रिहा

हरियाणा : इनेलो सुप्रीमो ओम प्रकाश चौटाला दो जुलाई को तिहाड़ जेल से होंगे रिहा

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री व इंडियन नेशनल लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश चौटाला शुक्रवार 2 जुलाई को सुबह 9.30 बजे अपनी रिहाई के लिए तिहाड़ जेल में पहुंचेंगे। यह जानकारी इनेलो के प्रदेशाध्यक्ष नफे सिंह राठी ने दी। उन्होंने कहा कि इनेलो सुप्रीमो जेल में पहुंच कागजी कार्रवाई पूरी कर रिहाई के फार्म पर हस्ताक्षर करने के बाद सुबह 10 बजे तिहाड़ जेल से प्रस्थान करेंगे।

By संतोष सिंह 
Updated Date

हरियाणा । हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री व इंडियन नेशनल लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश चौटाला शुक्रवार 2 जुलाई को सुबह 9.30 बजे अपनी रिहाई के लिए तिहाड़ जेल में पहुंचेंगे। यह जानकारी इनेलो के प्रदेशाध्यक्ष नफे सिंह राठी ने दी। उन्होंने कहा कि इनेलो सुप्रीमो जेल में पहुंच कागजी कार्रवाई पूरी कर रिहाई के फार्म पर हस्ताक्षर करने के बाद सुबह 10 बजे तिहाड़ जेल से प्रस्थान करेंगे।

पढ़ें :- दिल्ली: तिहाड़ जेल में गैंगस्टर अंकित गुर्जर की हत्या, परिजनों ने जेल प्रशासन पर लगाया आरोप

इस दौरान उनके पोते कर्ण चौटाला उनके साथ रहेंगे। तिहाड़ जेल से रिहाई के बाद इनेलो सुप्रीमो गुरुग्राम स्थित अपने आवास के लिए रवाना होंगे। पूरे हरियाणा से हजारों की संख्या में इनेलो पार्टी के कार्यकर्ता अपने नेता का स्वागत करने के लिए दिल्ली-गुरुग्राम बार्डर पर पहुंचेंगे। राठी ने बताया कि सभी वर्ग के लोग बेहद उत्सुकता के साथ इनेलो सुप्रीमो की रिहाई का इंतजार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि 2013 के बाद यह पहला ऐसा मौका होगा जब हरियाणा की राजनीति में एक नए युग की शुरुआत होगी।

जेबीटी (जूनियर बेसिक ट्रेनिंग) भर्ती घोटाले में सजा काट रहे हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला की सजा पूरी हो चुकी है। यह जानकारी तिहाड़ जेल प्रशासन की तरफ से चौटाला के वकील अमित साहनी को दी गई थी। उनके वकील ने बताया कि कल रात को चौटाला की सजा पूरी हो गई है। कुछ कागजी कार्रवाई बची हुई है। वह पूरी होते ही आधिकारिक तौर पर रिहाई के आदेश जारी हो जाएंगे। वहीं चौटाला के बाहर आने से हरियाणा में सियासी पारा चढ़ने की संभावनाएं बढ़ गई हैं। हालांकि, पहले से ही चौटाला पैरोल पर हैं, लेकिन वे जेल नियमों के कारण खुलकर बाहर नहीं निकल पा रहे थे। अब वह खुलकर राजनीतिक मैदान में उतरेंगे, जिससे वे न केवल अपने संगठन को दोबारा से मजबूत करने पर जोर देंगे, बल्कि सरकार पर भी जोरदार तरीके से हमलावर होंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...