महाराष्ट्र में कम्युनिटी ट्रांसमिशन हुआ है या नहीं? जानें क्या बोले स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे

14-3

मुंबई: महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं और गुरुवार को कोविड 19 संक्रमित मरीजों की संख्या एक लाख 80 हजार के पार हो गई है। वहीं महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने गुरुवार को स्पष्ट किया है कि राज्य में वायरस का कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं हुआ है। उन्होंने दावा किया कि ज्यादातर नए मामले ऐसे लोगों के हैं जो या तो इनसिट्यूशनल क्वारंटाइन हैं या होम क्वारंटाइन या किसी के संपर्क में आने का हिस्ट्री है।

Has Community Transmission Occurred In Maharashtra Or Not Learn What Health Minister Rajesh Tope Said :

स्वास्थ्य मंत्री टोपे ने मुंबई में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि मुझे नहीं लगता कि राज्य में कम्युनिटी ट्रांसमिशन है। कम से कम आज के रूप में हमारा विचार है कि हमारे यहां समुदाय प्रसार (कम्युनिटी ट्रांसमिशन) नहीं हुआ है। अधिकांश मामले जो पॉजिटिव आ रहे हैं, वे ऐसे लोगों के हैं जो या इनसिट्यूशनल क्वारंटाइन में हैं या होम क्वारंटाइन में है या किसी के संपर्क में आने का हिस्ट्री है।

उन्होंने कहा कि हम बहुत सी जगहों को देख रहे हैं कोरोना वायरस के मामले कम हो रहे हैं जैसे सांगली, मालेगांव और सोलापुर आदि। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के मामले बढ़े है ये सच है लेकिन हम इसके लिए सभी आर्थिक गतिविधियों को रोकने सहित सब कुछ बंद नहीं कर सकते। वहीं कई जगह कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए स्थानीय लॉकडाउन लगाया गया है।

उन्होंने कहा कि यह ज़रूरी नहीं है कि लॉकडाउन को फिर से लगाया जाए। हम अब लॉकडाउन मे छूट देने की प्रक्रिया को आने वाले फेज में लागू कर रहे हैं। हम आने वाले दिनों में चरण-वार अनलॉक देखेंगे।

कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र ही है। यहां कोरोना से अब तक 8,053 लोगों की मौत हो चुकी है और वहीं कोरोना संक्रमण के 1,80,298 मामले हैं। मंत्री ने कहा कि आगामी दो दिनों में सभी जिलों में रेमडेसिवीर और फेविपिराविर की दवाएं उपलब्ध होंगी।

उन्होंने कहा कि हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि ये दवाएं केवल अमीर और प्रभावशाली लोगों के लिए उपलब्ध नहीं हो। वे सभी के लिए उपलब्ध होंगी। सरकारी अस्पतालों में वे मुफ्त और निजी और ट्रस्ट अस्पतालों में भी सुनिश्चित करेंगे कि कम से कम दाम में उपलब्ध हों।

मुंबई: महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं और गुरुवार को कोविड 19 संक्रमित मरीजों की संख्या एक लाख 80 हजार के पार हो गई है। वहीं महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने गुरुवार को स्पष्ट किया है कि राज्य में वायरस का कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं हुआ है। उन्होंने दावा किया कि ज्यादातर नए मामले ऐसे लोगों के हैं जो या तो इनसिट्यूशनल क्वारंटाइन हैं या होम क्वारंटाइन या किसी के संपर्क में आने का हिस्ट्री है। स्वास्थ्य मंत्री टोपे ने मुंबई में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि मुझे नहीं लगता कि राज्य में कम्युनिटी ट्रांसमिशन है। कम से कम आज के रूप में हमारा विचार है कि हमारे यहां समुदाय प्रसार (कम्युनिटी ट्रांसमिशन) नहीं हुआ है। अधिकांश मामले जो पॉजिटिव आ रहे हैं, वे ऐसे लोगों के हैं जो या इनसिट्यूशनल क्वारंटाइन में हैं या होम क्वारंटाइन में है या किसी के संपर्क में आने का हिस्ट्री है। उन्होंने कहा कि हम बहुत सी जगहों को देख रहे हैं कोरोना वायरस के मामले कम हो रहे हैं जैसे सांगली, मालेगांव और सोलापुर आदि। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के मामले बढ़े है ये सच है लेकिन हम इसके लिए सभी आर्थिक गतिविधियों को रोकने सहित सब कुछ बंद नहीं कर सकते। वहीं कई जगह कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए स्थानीय लॉकडाउन लगाया गया है। उन्होंने कहा कि यह ज़रूरी नहीं है कि लॉकडाउन को फिर से लगाया जाए। हम अब लॉकडाउन मे छूट देने की प्रक्रिया को आने वाले फेज में लागू कर रहे हैं। हम आने वाले दिनों में चरण-वार अनलॉक देखेंगे। कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र ही है। यहां कोरोना से अब तक 8,053 लोगों की मौत हो चुकी है और वहीं कोरोना संक्रमण के 1,80,298 मामले हैं। मंत्री ने कहा कि आगामी दो दिनों में सभी जिलों में रेमडेसिवीर और फेविपिराविर की दवाएं उपलब्ध होंगी। उन्होंने कहा कि हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि ये दवाएं केवल अमीर और प्रभावशाली लोगों के लिए उपलब्ध नहीं हो। वे सभी के लिए उपलब्ध होंगी। सरकारी अस्पतालों में वे मुफ्त और निजी और ट्रस्ट अस्पतालों में भी सुनिश्चित करेंगे कि कम से कम दाम में उपलब्ध हों।