1. हिन्दी समाचार
  2. यूक्रेन का यात्री विमान गिराने पर बोले हसन रूहानी- दोषियों को सजा मिलनी ही चाहिए

यूक्रेन का यात्री विमान गिराने पर बोले हसन रूहानी- दोषियों को सजा मिलनी ही चाहिए

Hassan Rouhani Said After Dropping Ukraines Passenger Plane The Culprits Must Be Punished

By बलराम सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने मंगलवार को कहा कि पिछले सप्ताह यूक्रेन के विमान को गिराने के आरोपियों को सजा मिलनी ही चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी भी स्तर पर लापरवाही करने वालों को सजा दी जानी चाहिए। एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में ईरानी राष्ट्रपति ने कहा कि जो सजा का भागी है उसे सजा मिलनी ही चाहिए।

पढ़ें :- राहुल गांधी का केंद्र सरकार पर हमला, कहा-मोदी सरकार की क्रूरता के ख़िलाफ़ देश का किसान डटकर खड़ा है

मिसाइल हमले में यूक्रेन के यात्री विमान गिराए जाने के मामले में ईरान ने कार्रवाई करना शुरू कर दिया है। ईरान की न्यायपालिका ने बताया है कि इस मामले में कुछ गिरफ्तारियां की गई हैं। समाचार एजेंसी एपी के हवाले से बताया गया कि गत आठ जनवरी को ईरान ने गलती से अपनी मिसाइल से तेहरान से उड़ान भरने वाले यूक्रेनी विमान को मार गिराया था। इसमें 176 लोगों की मौत हो गई थी। ईरान के राष्ट्रपति ने कहा है कि मामले की जांच के लिए विशेष अदालत का गठन किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि न्यायपालिक को बड़े जजों की एक स्पेशल कोर्ट बनानी चाहिए जिसमें बड़ी संख्या में विशेषज्ञ हों। बता दें कि बीते बुधवार को तेहरान ने यूक्रेन एयरलाइन के एक विमान को मिशाइन से गिरा दिया थे। इस दुर्घटना में 176 यात्रियों की मौत हो गई थी। हालांकि ईरान ने पहले कई दिनों तक अमेरिकी खुफिया जानकारी के आधार पर पश्चिमी दावों का खंडन किया कि मिसाइल के जरिए उसने ही यूक्रेन का विमान गिराया था।

उधर यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने शनिवार को मांग की कि ईरान यूक्रेनी एयरलाइनर को गिराने के लिए जिम्मेदार लोगों को दंडित करे और इसके लिए मुआवजे का भुगतान करे। उन्होंने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि ईरान आरोपियों को ढूंढ निकाले। उन्होंने अपने फेसबुक वॉल पर लिखा कि नुकसान के मुआवजे का भुगतान भी किया जाए।

बता दें कि तेहरान ने शनिवार को स्वीकार किया था कि उसने बुधवार को भूल से यूक्रेन इंटरनेश्नल एयरलाइन के हवाईजहाज को गिरा दिया है। जिसके कारण विमान में बैठे सभी 176 लोगों की मौत हो गई। इराक में अमेरिकी बलों की मेजबानी करने वाले ठिकानों पर मिसाइलों के प्रक्षेपण के दौरान ये भूल हुई।

पढ़ें :- सम-विषम परिस्थितियों में भी भारतीय संविधान हमें प्रेरणा प्रदान करता है : सीएम योगी

उन्होंने लिखा कि हमें उम्मीद है कि जांच बिना किसी देरी के और बिना किसी बाधा के आगे बढ़ाई जाएगी। उन्होंने 45 यूक्रेनी विशेषज्ञों की पूरी जांच तक पहुंच का आग्रह किया। ईरानी राष्ट्रपति हसन रूहानी ने शनिवार को कहा था कि तेहरान को “इस विनाशकारी गलती का गहरा अफसोस है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...