1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर रहना होगा सतर्क, स्कूलों में कोविड प्रोटोकॉल के बारे में किया जाए जागरूक: सीएम योगी

बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर रहना होगा सतर्क, स्कूलों में कोविड प्रोटोकॉल के बारे में किया जाए जागरूक: सीएम योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) ने कोरोना के बढ़ते केस को लेकर सख्त निर्देश दिए हैं। टीम—9 के साथ बुधवार को उन्होंने बैठक की। इस दौरान उन्होंने कहा कि स्कूलों में कोविड प्रोटोकॉल (covid protocol) को लेकर जागरूकता अभियान चलाया जाए। दरअसल, एनसीआर के जिलों में कोरोना केस में वृद्धि हुई है। कोरोना संक्रमित मरीजों में बच्चे भी इसकी चपेट में आए हैं।

By शिव मौर्या 
Updated Date

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) ने कोरोना के बढ़ते केस को लेकर सख्त निर्देश दिए हैं। टीम—9 के साथ बुधवार को उन्होंने बैठक की। इस दौरान उन्होंने कहा कि स्कूलों में कोविड प्रोटोकॉल (covid protocol) को लेकर जागरूकता अभियान चलाया जाए। दरअसल, एनसीआर के जिलों में कोरोना केस में वृद्धि हुई है। कोरोना संक्रमित मरीजों में बच्चे भी इसकी चपेट में आए हैं।

पढ़ें :- BBC Documentary Controversy: दिल्ली से लेकर मुंबई तक बीबीसी डॉक्यूमेंट्री पर हंगामा

इसको देखते हुए मुख्यमंत्री ने सख्ती से कोविड नियमों का पालन करने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि, बच्चों की स्वास्थ्य सुरक्षा को लेकर हमें सतर्क रहना होगा। स्कूलों में कोविड प्रोटोकॉल के बारे में बच्चों को जागरूक किया जाए। पब्लिक एड्रेस सिस्टम का प्रभावी ढंग से इस्तेमाल किया जाए।

वहीं, टीम—9 की बैठक के दौरान बताया गया कि, 30.86 करोड़ से अधिक कोविड टीकाकरण के साथ ही 18+ आयु वर्ष की पूरी आबादी को टीके की कम से कम एक डोज लग चुकी है, जबकि 86.69% से अधिक वयस्क लोगों को दोनों खुराक मिल चुकी है। 15 से 17 आयु वर्ग में 94.26% किशोरों को पहली खुराक मिल चुकी है। इसके साथ ही 18+ आयु के लोगों को बूस्टर डोज लगाए जाने में तेजी की अपेक्षा है।

प्रत्येक दशा में यह सुनिश्चित किया जाए कि एक भी नागरिक टीकाकवर से वंचित न रहे। बूस्टर डोज की महत्ता और बूस्टर टीकाकरण केंद्रों के बारे में आमजन को जागरूक किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि, कोविड टीकाकरण अभियान की प्रगति संतोषप्रद है। किंतु बच्चों के टीकाकरण को और तेज करने की आवश्यकता है। 12 से 14 आयु वर्ग के बच्चों को पहली डोज के बाद अब पात्रता के अनुसार दूसरी डोज भी दी जाए।

पढ़ें :- Hindenburg Research Report से शेयर बाजार में मचा तहलका, अडानी ग्रुप में जानें कितना लगा है सरकारी पैसा, सकते में LIC और बड़े बैंक
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...