तिहाड़ जेल के मुस्लिम कैदी की पीठ पर दागा गया ओम, HC से मिले जांच के आदेश

tihar jail
तिहाड़ जेल के मुस्लिम कैदी की पीठ पर दागा गया ओम, HC से मिले जांच के आदेश

नई दिल्ली। दिल्ली के तिहाड़ जेल से एक हैरान करने वाली खबर सामने आई है। एक मुस्लिम आराेपी नब्बीर उर्फ पोपा ने कड़कड़डूमा कोर्ट में शिकायत की है कि जेल सुपरिटेंडेंट राजेश चौहान ने उसकी पीठ पर ‘ओम’ गोदवा दिया है। पीड़ित नब्बीर ने काेर्ट काे तिहाड़ जेल पुलिस पर मारपीट करने, गर्म धातु से ओम दागने और जबरन उपवास रखवाने के आराेप लगाए। कैदी के मुताबिक, यह 17 अप्रैल की घटना है।

Hc Orders Inquiry On The Incident Of Writing Om On The Back Of A Muslim Prisoner In Tihar Jail :

दरअसल, ये मामला तब प्रकाश में आया जब नब्बीर को न्यायिक हिरासत की अवधि बढ़ाने के लिए गुरुवार काे काेर्ट में पेश किया गया था। वह अवैध हथियार का डीलर होने के आरोप में जेल में बंद है। नब्बीर ने कोर्ट में अपने टॉर्चर की दास्तां बयां की। उसने ड्यूटी मैजिस्ट्रेट रिचा पाराशर के सामने अपनी शर्ट उतार दी और उन्हें अपनी पीठ पर यातना के निशान दिखाए।

वहीं, मजिस्ट्रेट रिचा पाराशर ने अपने आदेश में कहा ‘नब्बीर द्वारा लगाए गए आरोप गंभीर प्रकृति के हैं और इसमें तत्काल दखल की जरूरत है। इसके मद्देनजर, डीजीपी प्रिजन को नोटिस जारी किया जाता है। आरोपी नब्बीर का मेडिकल एग्जामिनेशन तत्काल प्रभाव से कराया जाए। लॉकअप के अंदर ही कैदी की पीठ पर दागे गए ओम के निशान के फोटो खिंचवाए औैर तिहाड़ प्रशासन को 24 घंटे में जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया।’

बता दें, नब्बीर पूर्वी दिल्ली के न्यू सीलमपुर इलाके का रहने वाला है औैर हथियार सप्लाई मामले में जेल में बंद है। उसे जेल नंबर 4 के ज्यादा जोखिम वाले वार्ड में रखा गया था। घटना सामने आने के बाद उसे जेल नंबर 4 से जेल नंबर 1 के हाई सिक्योरिटी वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है।

कैसे दिया इस खौफनाक वारदात को अंजाम

पीड़ित नब्बीर काे जेल अधीक्षक के चेंबर में दागा गया था। चैंबर में ही जोत जल रही थी। वहां ओम निशान वाली धातु रखी थी। जेल अधीक्षक का सेवादार भास्कर भी साथ था। उसी ने जेल अधीक्षक के कहने पर दागने में मदद की। मामले की जांच जी जिम्मेदारी जेल के एआईजी राजकुमार को दी गई है। 2 हफ्ते में जांच रिपोर्ट देनी है। तिहाड़ में इससे पहले एक बार एक कैदी के निजी अंगों को गर्म पानी से जलाने का मामला सामने आया था।

नई दिल्ली। दिल्ली के तिहाड़ जेल से एक हैरान करने वाली खबर सामने आई है। एक मुस्लिम आराेपी नब्बीर उर्फ पोपा ने कड़कड़डूमा कोर्ट में शिकायत की है कि जेल सुपरिटेंडेंट राजेश चौहान ने उसकी पीठ पर 'ओम' गोदवा दिया है। पीड़ित नब्बीर ने काेर्ट काे तिहाड़ जेल पुलिस पर मारपीट करने, गर्म धातु से ओम दागने और जबरन उपवास रखवाने के आराेप लगाए। कैदी के मुताबिक, यह 17 अप्रैल की घटना है। दरअसल, ये मामला तब प्रकाश में आया जब नब्बीर को न्यायिक हिरासत की अवधि बढ़ाने के लिए गुरुवार काे काेर्ट में पेश किया गया था। वह अवैध हथियार का डीलर होने के आरोप में जेल में बंद है। नब्बीर ने कोर्ट में अपने टॉर्चर की दास्तां बयां की। उसने ड्यूटी मैजिस्ट्रेट रिचा पाराशर के सामने अपनी शर्ट उतार दी और उन्हें अपनी पीठ पर यातना के निशान दिखाए। वहीं, मजिस्ट्रेट रिचा पाराशर ने अपने आदेश में कहा 'नब्बीर द्वारा लगाए गए आरोप गंभीर प्रकृति के हैं और इसमें तत्काल दखल की जरूरत है। इसके मद्देनजर, डीजीपी प्रिजन को नोटिस जारी किया जाता है। आरोपी नब्बीर का मेडिकल एग्जामिनेशन तत्काल प्रभाव से कराया जाए। लॉकअप के अंदर ही कैदी की पीठ पर दागे गए ओम के निशान के फोटो खिंचवाए औैर तिहाड़ प्रशासन को 24 घंटे में जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया।' बता दें, नब्बीर पूर्वी दिल्ली के न्यू सीलमपुर इलाके का रहने वाला है औैर हथियार सप्लाई मामले में जेल में बंद है। उसे जेल नंबर 4 के ज्यादा जोखिम वाले वार्ड में रखा गया था। घटना सामने आने के बाद उसे जेल नंबर 4 से जेल नंबर 1 के हाई सिक्योरिटी वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। कैसे दिया इस खौफनाक वारदात को अंजाम पीड़ित नब्बीर काे जेल अधीक्षक के चेंबर में दागा गया था। चैंबर में ही जोत जल रही थी। वहां ओम निशान वाली धातु रखी थी। जेल अधीक्षक का सेवादार भास्कर भी साथ था। उसी ने जेल अधीक्षक के कहने पर दागने में मदद की। मामले की जांच जी जिम्मेदारी जेल के एआईजी राजकुमार को दी गई है। 2 हफ्ते में जांच रिपोर्ट देनी है। तिहाड़ में इससे पहले एक बार एक कैदी के निजी अंगों को गर्म पानी से जलाने का मामला सामने आया था।