देवगौड़ा बोले- कर्नाटक में कभी भी हो सकते हैं मध्यावधि चुनाव

devgauda
देवगौड़ा बोले- कर्नाटक में कभी भी हो सकते हैं मध्यावधि चुनाव

नई दिल्ली। कर्नाटक में जेडीएस और कांग्रेस गठबंधन के बीच लंबे समय से चल रही खींचतान अब निर्णायक मोड़ पर पहुंच गई है। पूर्व प्रधानमंत्री और जनता दल सेक्युलर (JDS) चीफ एचडी देवगौड़ा ने कहा कि कर्नाटक में कभी भी मध्यावधि चुनाव तय है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का जिस तरह का बर्ताव है, वह जनता देख रही है। मैं कह नहीं सकता कि यह सरकार कब तक टिकेगी।

Hd Devegowda Wanted Mallikarjun Kharge As Cm But Congress Insisted On Kumaraswamy :

देवगौड़ा ने कहा, “मैंने नहीं कहा कि यह गठबंधन होना चाहिए। मैं यह आज कह रहा हूं और कल भी कहूंगा। वे (कांग्रेस) हमारे पास आए और कहा कि आपका बेटा मुख्यमंत्री बनेगा, चाहे जो हो जाए। तब मैं यह नहीं जानता था कि उनके सभी नेताओं के बीच सहमति थी या नहीं। लोकसभा चुनाव के बाद लगता है कि उन्होंने (कांग्रेस) अपनी ताकत खो दी है”।

उन्होंने आगे कहा, “हमारी तरफ से कोई खतरा नहीं है। मुझे नहीं पता कि यह सरकार कब तक टिकेगी। यह कुमारस्वामी के नहीं बल्कि कांग्रेस के हाथ में है। हमने कैबिनेट में अपनी एक जगह भी उन्हें दे दी। उन्होंने जो कहा, सब कुछ हमने किया”। पूर्व पीएम ने कहा, “इसमें कोई शक नहीं कि मध्यावधि चुनाव होंगे। वे कहते हैं कि 5 साल हमें समर्थन देंगे। लेकिन लोग उनके बर्ताव को देख रहे हैं।”

राहुल से भी देवगौड़ा ने की शिकायत

उधर, देवगौड़ा कांग्रेस के नेताओं के बयानबाजी से आहत दिखे और उन्होंने राहुल से इसकी शिकायत भी की। राहुल को दी गई शिकायत में देवगौड़ा ने कहा, ‘मैं पहले दिन से देख रहा हूं, मैं बहुत आहत हूं। यह पहली बार है जब मैं आपको यह कह रहा हूं। आप कोई निर्णय कीजिए। कृपया कर्नाटक के अपने सभी नेताओं से कहिए कि सरकार के बारे में सार्वजनिक रूप से नहीं बोलें।’

कांग्रेस नेताओं पर भी बरसे देवगौड़ा

इस दौरान देवगौड़ा ने राज्य कांग्रेस के नेताओं को भी निशाने पर लिया। उन्होंने साफ कहा कि उनके नेता कभी ऐसा बयान नहीं देते जिससे सरकार असहज हो लेकिन कांग्रेस के नेताओं को भी ऐसा करना होगा।

नई दिल्ली। कर्नाटक में जेडीएस और कांग्रेस गठबंधन के बीच लंबे समय से चल रही खींचतान अब निर्णायक मोड़ पर पहुंच गई है। पूर्व प्रधानमंत्री और जनता दल सेक्युलर (JDS) चीफ एचडी देवगौड़ा ने कहा कि कर्नाटक में कभी भी मध्यावधि चुनाव तय है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का जिस तरह का बर्ताव है, वह जनता देख रही है। मैं कह नहीं सकता कि यह सरकार कब तक टिकेगी। देवगौड़ा ने कहा, "मैंने नहीं कहा कि यह गठबंधन होना चाहिए। मैं यह आज कह रहा हूं और कल भी कहूंगा। वे (कांग्रेस) हमारे पास आए और कहा कि आपका बेटा मुख्यमंत्री बनेगा, चाहे जो हो जाए। तब मैं यह नहीं जानता था कि उनके सभी नेताओं के बीच सहमति थी या नहीं। लोकसभा चुनाव के बाद लगता है कि उन्होंने (कांग्रेस) अपनी ताकत खो दी है"। उन्होंने आगे कहा, "हमारी तरफ से कोई खतरा नहीं है। मुझे नहीं पता कि यह सरकार कब तक टिकेगी। यह कुमारस्वामी के नहीं बल्कि कांग्रेस के हाथ में है। हमने कैबिनेट में अपनी एक जगह भी उन्हें दे दी। उन्होंने जो कहा, सब कुछ हमने किया"। पूर्व पीएम ने कहा, "इसमें कोई शक नहीं कि मध्यावधि चुनाव होंगे। वे कहते हैं कि 5 साल हमें समर्थन देंगे। लेकिन लोग उनके बर्ताव को देख रहे हैं।" राहुल से भी देवगौड़ा ने की शिकायत उधर, देवगौड़ा कांग्रेस के नेताओं के बयानबाजी से आहत दिखे और उन्होंने राहुल से इसकी शिकायत भी की। राहुल को दी गई शिकायत में देवगौड़ा ने कहा, ‘मैं पहले दिन से देख रहा हूं, मैं बहुत आहत हूं। यह पहली बार है जब मैं आपको यह कह रहा हूं। आप कोई निर्णय कीजिए। कृपया कर्नाटक के अपने सभी नेताओं से कहिए कि सरकार के बारे में सार्वजनिक रूप से नहीं बोलें।' कांग्रेस नेताओं पर भी बरसे देवगौड़ा इस दौरान देवगौड़ा ने राज्य कांग्रेस के नेताओं को भी निशाने पर लिया। उन्होंने साफ कहा कि उनके नेता कभी ऐसा बयान नहीं देते जिससे सरकार असहज हो लेकिन कांग्रेस के नेताओं को भी ऐसा करना होगा।