आप भी जान लीजिए केले के पत्ते पर खाना खाने के अनोखे फायदे

जैसा की हम सभी जानते हैं कि केला स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक होता है। ज्यादातर लोग आज के समय में सुबह-सुबह केला दूध खाना पसंद भी करते है क्योंकि केला-दूध शरीर के लिए काफी फायदेमंद होता है, मगर क्या आप जानते हैं कि केले के अलावा उसके पत्तों का हमारे स्वस्थ्य पर क्या असर पड़ता है। यदि नही तो फ़िक्र ना करे हम आपको बताते है केले के पत्तों से आपको होने वाले फायदे को बारे में-

आपने साउथ इंडिया में देखा होगा कि वहां के लोग केले के पत्तों पर खाना खाया करते है। इतना ही नहीं यहां पर मेहमानों को पत्तियों के ऊपरी भाग में और परिवार के सदस्यों को निचले हिस्सों में खाना दिया जाता है। केले के पत्तेत पर खाना खाने के लिए सब लोग एक साथ जमीन पर बैठकर और हाथों से खाना खाते है।

{ यह भी पढ़ें:- खाने के साथ शरीर की इन जरूरतों को पूरा करता है 'केला' }

पत्ते पर गर्म खाने से होते है कई फायदे  : केले के पत्ते पर गर्म खाना परोसने से यह पत्ते में मौजूद पोषक तत्व भी खाने में मिल जाते हैं जो कि स्वास्थ्य के लिए अच्छा है। ऐसा माना जाता है कि केले के पत्ते पर खाया गया खाना ज्यादा लाभदायक और स्वास्थ्यवर्धक होता है। खास बात तो यह है कि केले के पत्ते में ऐसे कई सारे गुण होते है जो कि ग्रीन टी में पाए जाते है। इसमे मौजूद पॉलीफिनॉल एक प्राकृतिक एंटीऑक्सीेडेंट और इसके फायदे सीधे आपके स्वास्थ्य पर होते है।

बीमारी मुक्त तो होते है आप : केले के पत्ते पर रोजाना खाना खाने से आप बीमारी मुक्त तो होते ही साथ ही स्वस्थ भी रहते है। केले का पत्ता एंटी बैक्टीरिया किटाणुओं को मारता है। जिस वजह से आप कम बीमार होते है। केले के पत्ते पर खाना खाने पर आपकी स्किन भी साफ़ होती है क्योंकि केले के पत्तों में प्रचुर मात्रा में एपिगालोकेटचीन गलेट और इजीसीजी जैसे पॉलीफिनॉल्स पाये जाते हैं और शायद यही वजह है कि साऊथ इंडिया के लोग इस पर भोजन करना सही समझते है।

{ यह भी पढ़ें:- नाश्ते में ओट्स खाने से क्या वास्तव में आप वजन कम कर सकते है ? }

पर्यावरण के लिए भी है सही : केले के पत्ते के एक अलग ही खुशबू होती है जब आप केले के पत्ते पर खाना खाते है तब आपको अलग तरह का स्वाद मिलता है और इसकी खुशबू भी अलग ही होती है। वही पर्यावरण के लिए भी है यह सही है। इसके अलावा केला का पत्ता काफी स्वच्छ होता है और सिर्फ थोड़े से पानी की से साफ करने के बाद यह उपयोग के लिए तैयार हो जाता है।

बर्तनों के तरह इस में कोई केमिकल नही होता : सबसे अच्छी बात तो यह है कि इस में बर्तनों के तरह इस में कोई केमिकल नही होता है और ना ही आपको इसे धोने के लिए कोई साबुन की जरूरत पड़ती है। हालांकि धीरे-धीरे केला के पत्ते पर खाना खाने की प्रथा समाप्त होती जा रही है, लेकिन साऊथ इंडिया में इसका चलन आज भी आपको देखने को मिल जायेगा।

{ यह भी पढ़ें:- अखबार में आप भी पैक करते हैं खाना तो एक बार जरूर पढ़ लें यह खबर }

Loading...