1. हिन्दी समाचार
  2. स्वास्थ्य मंत्रालय का दावा- मुंह के स्वाद और सूंघने की क्षमता में कमी भी कोरोना संक्रमण का लक्षण

स्वास्थ्य मंत्रालय का दावा- मुंह के स्वाद और सूंघने की क्षमता में कमी भी कोरोना संक्रमण का लक्षण

Health Ministry Claims Reduction In Taste And Smell Of Mouth Is Also A Symptom Of Corona Infection

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को यह जानकारी दी कि अब सूंघने और स्वाद की क्षमता में कमी को भी कोरोना वायरस का लक्षण समझना होगा। इस मुद्दे पर राष्ट्रीय टास्क फोर्स द्वारा चर्चा की गई थी, जिसके बाद इस बारे में निर्णय लिया गया है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) में इस मुद्दे को कोविड से संबंधित मामलों में राष्ट्रीय टास्क फोर्स में लाया गया था। ऐसा इसलिए किया गया था क्योंकि कोरोना के मामलों में पाया गया है कि रोगियों के सूंघने और स्वाद महसूस करने की क्षमता में कमी आई है।

पढ़ें :- पढाई का ऐसा जुनून रोज बॉर्डर पार करके स्कूल जाते है बच्चे, साथ रखते हैं पासपोर्ट

वर्तमान में किसी शख्स का कोरोना टेस्ट लेने के संदर्भ में 13 क्लीनिकल सिंपटम (लक्षण) और संकेत हैं जो पिछले महीने संशोधित किए गए थे। इन लक्षणों में बुखार, खांसी, दस्त, उल्टी, पेट में दर्द, सांस फूलना, नौसिया, रक्तगुल्म (खून का ऊपर उठना), शरीर में दर्द, गले में खराश, सीने में दर्द, नाक से पानी निकलने को शामिल किया गया है। एक या अधिक लक्षणों वाले किसी भी रोगी को टेस्ट की अनुमति दी जाती है।

स्वाद और गंध के नुकसान को भी इस सूची में जोड़ा दिए जाने के बाद से अब एक रोगी को परीक्षण करने के लिए एक या उससे अधिक 15 लक्षणों की सूचना देनी होगी। राष्ट्रीय टास्क फोर्स के सदस्य परीक्षण मानदंडों के लिए दुनिया भर में मौजूद नवीनतम दैनिक ​​डाटा को देखते हैं।

अप्रैल में, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कई यूरोपीय संघ (ईयू) के देशों, संयुक्त राज्य अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के साथ मिलकर कोविड -19 के प्रमुख लक्षणों में से एक के रूप में गंध और स्वाद की कमी को जोड़ा था। यूनाइटेड किंगडम ने 18 मई को कोविड -19 लक्षण की अपनी सूची में इसे (सूंघने और स्वाद की क्षमता में कमी) शामिल किया था।

पढ़ें :- यूपी : 31661 सहायक शिक्षकों की भर्ती का योगी सरकार ने जारी किया आदेश

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...