अनुच्छेद 370 पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टली, सीजेआई ने दोबारा याचिका दायर करने को कहा

sc
अनुच्छेद 370 पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टली, सीजेआई ने दोबारा याचिका दायर करने को कहा

नई दिल्ली। अनुच्छेद 370 से संबंधित सुनवाई को सुप्रीम कोर्ट ने टाल दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि, अनुच्छेद 370 से संबंधित सभी याचिकाओं को एक साथ सुना जायेगा। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा है कि याचिका को दोबारा दायर किया जाए। दरअसल, आज कोर्ट ने इस मामले पर दायर दो याचिकाओं पर सुनवाई की गई। इसमें पहली याचिका में अनुच्छेद 370 हटाए जाने का विरोध किया गया है।

Hearing Postponed In Supreme Court On Article 370 :

वहीं, दूसरी याचिका में कश्मीर में पत्रकारों से सरकार का नियंत्रण हटाने की मांग की गई है। जो पहली याचिका है, उसे वकील एमएल शर्मा ने दायर किया है। जिसमें कहा गया है कि अनुच्छेद 370 को हटाकर सरकार ने मनमानी की है। इसमें कहा गया है कि, सरकार ने संसदीय रास्ता नहीं अपनाया है। इस याचिका में राष्ट्रपति के आदेश को भी असंवैधानिक बताया गया है।

शर्मा की याचिका पर सुनवाई करते हुए गोगोई ने उन्हें फटकार लगाते हुए कहा कि ये किस तरह की याचिका है। मुझे समझ ही नहीं आ रही है। उन्होंने फिर पूछा कि याचिकाकर्ता कैसी राहत चाहते हैं। वहीं दूसरी याचिका कश्मीर टाइम्स की संपादक अनुराधा भसीन ने दायर किया है।

जिसमें कहा गया है कि, अनुच्छेद 370 खत्म होने के बाद पत्रकारों पर लगाए गए नियंत्रत को खत्म किया जाए। इससे पहले दाखिल एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करते हुए कहा था कि जम्मू-कश्मीर का मामला संवेदनशील है। इसपर केंद्र सरकार को थोड़ा वक्त देना होगा।

नई दिल्ली। अनुच्छेद 370 से संबंधित सुनवाई को सुप्रीम कोर्ट ने टाल दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि, अनुच्छेद 370 से संबंधित सभी याचिकाओं को एक साथ सुना जायेगा। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा है कि याचिका को दोबारा दायर किया जाए। दरअसल, आज कोर्ट ने इस मामले पर दायर दो याचिकाओं पर सुनवाई की गई। इसमें पहली याचिका में अनुच्छेद 370 हटाए जाने का विरोध किया गया है। वहीं, दूसरी याचिका में कश्मीर में पत्रकारों से सरकार का नियंत्रण हटाने की मांग की गई है। जो पहली याचिका है, उसे वकील एमएल शर्मा ने दायर किया है। जिसमें कहा गया है कि अनुच्छेद 370 को हटाकर सरकार ने मनमानी की है। इसमें कहा गया है कि, सरकार ने संसदीय रास्ता नहीं अपनाया है। इस याचिका में राष्ट्रपति के आदेश को भी असंवैधानिक बताया गया है। शर्मा की याचिका पर सुनवाई करते हुए गोगोई ने उन्हें फटकार लगाते हुए कहा कि ये किस तरह की याचिका है। मुझे समझ ही नहीं आ रही है। उन्होंने फिर पूछा कि याचिकाकर्ता कैसी राहत चाहते हैं। वहीं दूसरी याचिका कश्मीर टाइम्स की संपादक अनुराधा भसीन ने दायर किया है। जिसमें कहा गया है कि, अनुच्छेद 370 खत्म होने के बाद पत्रकारों पर लगाए गए नियंत्रत को खत्म किया जाए। इससे पहले दाखिल एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करते हुए कहा था कि जम्मू-कश्मीर का मामला संवेदनशील है। इसपर केंद्र सरकार को थोड़ा वक्त देना होगा।