हार्ट ऑफ एशिया कॉन्फ्रेंस: मोदी ने की गनी से मुलाकात, पाक को बताया आतंकियों का पनाहगाह

अमृतसर| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी के बीच रविवार को हार्ट ऑफ एशिया मंत्री स्तरीय सम्मेलन शुरू होने से पहले द्विपक्षीय मुलाकात हुई| इसके बाद मोदी सभी देशों के डेलिगेशन से मिले| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अफगानिस्तान को बेहद जरूरी पड़ोसी मानते हुए हर संभव मदद का भरोसा दिया| साथ ही इशारों-इशारों में पाकिस्तान का नाम लिये बगैर उस पर निशाना साधा और कहा कि वहां आतंकवाद को बढ़ावा देने वालों की पहचान करनी होगी|




मोदी ने कहा कि आतंक के खात्मे के लिए हमें मिलकर कदम बढ़ाना होगा| इच्छाशक्ति दिखानी होगी| सीमापार बैठे आतंक और उनके आकाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी होगी| सिर्फ बात करने से कुछ नहीं होगा| आतंकवाद पर चुप रहने से इसे बढ़ावा मिलता है| आतंक की फंडिंग पर भी रोक जरूरी है|

मोदी ने आगे कहा कि अफगानिस्तान में शांति के लिए आतंकी नेटवर्क को खत्म करना जरूरी है| पीएम ने कहा कि सीमापार से चल रहे आतंकवाद की पहचान करनी होगी और इससे मिलकर लड़ना जरूरी है| उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में शान्ति के के लिए हमें मिलकर कदम उठाने होंगे| हमें आतंकवाद के खिलाफ ही नहीं कदम नहीं उठाना है बल्कि उन लोगों के खिलाफ भी कदम उठाना है जो इन संगठनों को फाइनेंशियल सपोर्ट देने के साथ आसरा भी देर रहे हैं|

मोदी ने कहा, “हमारी कोशिश और एक्शन अफगानिस्तान में सुरक्षा को बढ़ाना है| अफगानिस्तान के सामने चुनौतियां हैं लेकिन हम मिलकर उनसे निपटेंगे| हम सभी को मिलकर अफगानिस्तान और दूसरे देशों के कनेक्टिविटी बनाए रखने के लिए मजबूती से काम करना होगा|”