उत्तर भारत में गर्मी ने तोड़े सारे पुराने रिकॉर्ड, जानें कब मिलेगी गर्मी से राहत?

Heatwave-India

जयपुर: राजस्थान सहित पूरे उत्तर भारत में प्रचंड गर्मी और लू के कारण लोगों के हाल बेहाल हो चुके हैं। राजस्थान के चूरू में तो तापमान 50 डिग्री पर पहुंच गया। गर्मी के सीजन में पिछले 4 साल में तीसरी बार चूरू में पारा रिकाॅर्ड स्तर पर पहुंचा है। यहां 2 जून 2019 काे पारा 50.8 और 19 मई 2016 काे 50.2 डिग्री दर्ज हुआ था।

Heatwave In India 2020 Full News Update :

अब हीट स्ट्रोक या लू (तापघात) का खतरा बढ़ गया है। प्रशासन ने मंगलवार काे शहर की सड़काें पर पानी का छिड़काव कराया। सोमवार को चूरू में अधिकतम तापमान 47.5 डिग्री रहा था। मंगलवार को देश-दुनिया के सबसे गर्म 10 शहराें में 4 राजस्थान के रहे। फलौदी में 19 मई 2016 को 51 डिग्री तापमान दर्ज हुआ था, जो राज्य में सर्वाधिक तापमान है। लेकिन यह मौसम विभाग के रिकॉर्ड में नहीं है। एेसे में चूरू का 50.8 डिग्री तापमान ही आलओवर सर्वाधिक तापमान का रिकॉर्ड है।

प्रदेश के 23 जिले रेड अलर्ट पर हैं। इनमें अलवर, झालावाड़, कोटा, बूंदी, बारां, भरतपुर, चित्तौड़गढ़, दौसा, झुंझुनूं, करौली, सवाईमाधोपुर, टोंक, धौलपुर, बीकानेर, चूरू, हनुमानगढ़, श्रीगंगानगर, बाड़मेर, जालौर, जोधपुर, जैसलमेर, नागौर और पाली शामिल हैं। इन जिलों में 48 घंटे तक प्रचंड लू की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार अगले 48 घंटे में लोगों को भीषण गर्मी से राहत के कोई आसार नहीं है। बुधवार और गुरुवार को भी लोगों को भीषण गर्मी से दो-चार होना पड़ेगा। इसके बाद 29 मई और 30 मई को पश्चिमी विक्षोभ के चलते मौसम में बदलाव होगा और तापमान में कुछ गिरावट के साथ कई जगह हल्की बारिश से लोगों को प्रचंड गर्मी से राहत मिल सकती है।

कब मिलेगी गर्मी से राहत?
वहीं, मौसम विभाग के मुताबिक, अगर दिल्ली-एनसीआर में आज तापमान 46 डिग्री से ऊपर दर्ज किया जाता है तो, साल 2002 का गर्मी का रिकॉर्ड टूट जाएगा। आज सुबह न्यूनतम तापमान 28 डिग्री दर्ज किया गया जो सामान्य से दो डिग्री ज्यादा है जबकि अधिकतम तापमान सामान्य से 6 डिग्री ज्यादा ही बना रहेगा। मौसम विभाग का पुर्वानुमान है कि 29-30 मई को धूल भरी आंधी चलने की संभावना है, जिसके बाद तापमान में गिरावट हो सकती है। साथ ही 31 मई को बारिश की भी संभावना मौसम विभाग ने जताई है।

जयपुर: राजस्थान सहित पूरे उत्तर भारत में प्रचंड गर्मी और लू के कारण लोगों के हाल बेहाल हो चुके हैं। राजस्थान के चूरू में तो तापमान 50 डिग्री पर पहुंच गया। गर्मी के सीजन में पिछले 4 साल में तीसरी बार चूरू में पारा रिकाॅर्ड स्तर पर पहुंचा है। यहां 2 जून 2019 काे पारा 50.8 और 19 मई 2016 काे 50.2 डिग्री दर्ज हुआ था। अब हीट स्ट्रोक या लू (तापघात) का खतरा बढ़ गया है। प्रशासन ने मंगलवार काे शहर की सड़काें पर पानी का छिड़काव कराया। सोमवार को चूरू में अधिकतम तापमान 47.5 डिग्री रहा था। मंगलवार को देश-दुनिया के सबसे गर्म 10 शहराें में 4 राजस्थान के रहे। फलौदी में 19 मई 2016 को 51 डिग्री तापमान दर्ज हुआ था, जो राज्य में सर्वाधिक तापमान है। लेकिन यह मौसम विभाग के रिकॉर्ड में नहीं है। एेसे में चूरू का 50.8 डिग्री तापमान ही आलओवर सर्वाधिक तापमान का रिकॉर्ड है। प्रदेश के 23 जिले रेड अलर्ट पर हैं। इनमें अलवर, झालावाड़, कोटा, बूंदी, बारां, भरतपुर, चित्तौड़गढ़, दौसा, झुंझुनूं, करौली, सवाईमाधोपुर, टोंक, धौलपुर, बीकानेर, चूरू, हनुमानगढ़, श्रीगंगानगर, बाड़मेर, जालौर, जोधपुर, जैसलमेर, नागौर और पाली शामिल हैं। इन जिलों में 48 घंटे तक प्रचंड लू की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार अगले 48 घंटे में लोगों को भीषण गर्मी से राहत के कोई आसार नहीं है। बुधवार और गुरुवार को भी लोगों को भीषण गर्मी से दो-चार होना पड़ेगा। इसके बाद 29 मई और 30 मई को पश्चिमी विक्षोभ के चलते मौसम में बदलाव होगा और तापमान में कुछ गिरावट के साथ कई जगह हल्की बारिश से लोगों को प्रचंड गर्मी से राहत मिल सकती है। कब मिलेगी गर्मी से राहत? वहीं, मौसम विभाग के मुताबिक, अगर दिल्ली-एनसीआर में आज तापमान 46 डिग्री से ऊपर दर्ज किया जाता है तो, साल 2002 का गर्मी का रिकॉर्ड टूट जाएगा। आज सुबह न्यूनतम तापमान 28 डिग्री दर्ज किया गया जो सामान्य से दो डिग्री ज्यादा है जबकि अधिकतम तापमान सामान्य से 6 डिग्री ज्यादा ही बना रहेगा। मौसम विभाग का पुर्वानुमान है कि 29-30 मई को धूल भरी आंधी चलने की संभावना है, जिसके बाद तापमान में गिरावट हो सकती है। साथ ही 31 मई को बारिश की भी संभावना मौसम विभाग ने जताई है।