1. हिन्दी समाचार
  2. सरकार के दावों पर भारी खनन माफिया: अवैध खनन से थमने लगी बांदा की ‘केन नदी’ की सांसें

सरकार के दावों पर भारी खनन माफिया: अवैध खनन से थमने लगी बांदा की ‘केन नदी’ की सांसें

Heavy Mining Mafia On Government Claims Bandas Breath Of Cane River Stopped By Illegal Mining

By शिव मौर्या 
Updated Date

बांदा। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अवैध खनन पर रोक लगाने का दावा कर रही है लेकिन खनन माफिया सरकार के दावों पर भारी पड़ रहे हैं। खनन माफिया एक खंड का पट्टा लेकन तीन जगहों पर अवैध खनन कर रहे हैं। यह सब बांदा में में हो रहा है लेकिन सरकार इन खनन माफियों पर अंकुश लगाने में फेल साबित हो रही है। बंदा में मौरंग के अंधाधुंध हो रहे अवैध खनन से वहां की ‘केन नदी’ की भी सांसे थमने लगीं हैं।

पढ़ें :- भूत के साथ 15 साल रिलेशनशिप में थी महिला, रोज बनाते थे शारीरिक संबंध, अब चाहती है ब्रेकअप

खनन माफिया नदी की जलधार को जगह-जगह से मोड़कर और उसमें अवैध पुल बनाकर खनन करवा रहे हैं। केन नदी पर सैकड़ों जेसीबी और पोकलैंड मशीनें 24 घंटे चल रही हैं। केन नदी से हर दिन दो से तीन हजार ट्रक मौरंग निकाली जा रही है। इस अंधाधुंध खोदाई से नदी किनारे पाई जाने वाली कई वनस्पतियां और जलीय जीवों की जान जा रही है। बंदा के भुरेडी (सोना) मौरंग खदान में एक खंड के पट्टे पर तीन जगहों पर अवैध खनन किया जा रहा है।

बताया जा रहा है कि दो खंड़ों में वहां के जिला प्रशासन की सरपरस्ती में अवैध खनन किया जा रहा है। सूत्रों की माने तो मौरंग लेकर जाने वाले ज्यादातर ट्रक इस खदान से बिना रवन्ना के पास करवाए जा रहे हैं। इसके साथ ही भुरेड़ी मौरंग खदान की तर्ज पर केन नदी की दुरेड़ी मौरंग खदान के भी तीनों खंड प्रशासनिक सांठ-गांठ से चलाए जा रहे हैं। यहां बंदा जिला प्रशासन की सरपरस्ती से खुलेआम जेसीबी और पोकलैंड मीशने चलाई जा रहीं हैं।

सूत्रों ने बताया कि केन नदी के किनारे कई अवैध खदानें चल रहीं हैं, जिसमें नसेनी, पथरी, उजरेहटा, अमलोर, जरर जैसी खदाने हैं। नसेनी में खदान का अवैध संचालन कराने वालों ने केन नदी की जलधारा में अवैध रूप पुल भी बना डाला है। इन अवैध खदानों से सैकड़ों ट्रैक्टर मौरंग निकाली जा रही है। अछरौड़ खदान का संचालन मुरैना के शर्मा बंधु कर रहे हैं। खदान संचालक ने इस खदान का रास्ता अछरौड़ से बनाकर उजरेहटा घाट से बनाया है।

सीसीटीवी दावों की खुल रही पोल
अवैध खनन और ओवरलोडिंग रोकने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा था कि सभी खदानों पर सीसीटीवी कैमरे और धर्मकांटे अनिवार्य रूप से लगाए जायेंगे। खदान संचालकों ने सीसीटीवी और धर्मकांटे तो लगाए लेकिन उसमें भी खनन माफियाओं ने खेल कर दिया। जिस रास्ते में धर्मकांटा लगवाया गया उससे ट्रक न निकलकर दूसरे रास्ते से पार करवा दिया जाता है। सीसीटीवी कैमरे लगाए तो गए लेकिन उनका ऐंगल टेढ़ा कर दिया गया, जिससे ओवरलोड ट्रकों पर नजर न पड़े।

पढ़ें :- श्वेता तिवारी की माली हालत हुई खस्ता, 2 साल से नहीं दी स्टाफ को सैलरी, मांगने पर कर दिया ब्लॉक

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...