स्वास्थ्य विभाग की पोल खोलती तस्वीर, बेटी की लाश को रिक्शे पर समेटता बेबस बाप

हमीरपुर। यूपी के हमीरपुर जिले में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही ने एक बार फिर इंसानियत को शर्मसार किया है। जहां एक बाप इतना बेबस हो गया कि उसे अपनी बेटी की लाश को रिक्शे पर ले जाना पड़ा। पीड़ित बाप का आरोप है कि लाश ले जाने के लिए प्रशासन की तरफ से कोई वाहन नहीं मिलने के बाद मजबूरन उसे यह कदम उठाना पड़ा। चूंकि लाश का पोस्टमार्टम हुआ था इस वजह से लाश पूरी तरह बिखर चुकी थी इसलिए इस लाचार बाप को रिक्शे पर बेटी की लाश समेटने में काफी मशक्त करनी पड़ी। दृश्य इतना भयावह था कि देख किसी का भी कलेजा पसीज जाए लेकिन बेशर्म पुलिस प्रशासन तमाशबीन बनी रहीं और अब मामला तूल पकड़ते देख बहाने गिना रही है।

दरअसल जिले के मौदहा इलाके में शिवशरण यादव की 19 वर्षीय बेटी सोना ने शादी लगभग 6 महीने बाद सुसाइड कर लिया। इस दौरान वह दो महीने से प्रेग्नेंट भी थी, लेकिन पता नहीं क्या हुआ कि बुधवार को उसने फांसी लगा ली। मैंने तुरंत उसके पति को सूचना दी। वो भी यहां रोता हुआ भागा-भागा आया। चूंकि उसने सुसाइड किया था, इसलिए पुलिस आई और बेटी की बॉडी को पोस्टमॉर्टम के लिए हमीरपुर ले गई। पुलिस डेडबॉडी हॉस्पिटल तक तो ले गई, लेकिन घर ले जाने के लिए न उसे एंबुलेंस मिली और न कोई पुलिस की गाड़ी। उसने बताया कि हमने अस्पताल वालों से एंबुलेंस देने को कहा, लेकिन उन्होंने यह कहकर मना कर दिया कि शव घर से जाने के लिए एंबुलेंस नहीं मिलती। पुलिस ने भी कोई गाड़ी मुहैया नहीं करवाई। परेशान होकर मैं बेटी को रिक्शे पर ही घर ले गया।

{ यह भी पढ़ें:- शहीद का शव देख पत्नी बोली- दोनों बेटों को भी सेना में भेजूंगी }

जहां- जहां से रिक्शा गुजरा लोग ये दृश्य देख हैरान हो गए। किसी ने पुलिस की लापरवाही पर जमकर कोसा तो कोई बेबस पिता के दर्द में उसका सहभागी बना। शिवशरन ने बताया कि उन्हें यह नहीं पता था कि अस्पताल से वाहन मिलता है। ‌क‌िसी ने भी इस बारे में उसे कोई जानकारी नहीं दी। ‌क‌‌िसी भी स्वास्थ्य अ‌ध‌िकारी और कर्मचारी ने उसकी कोई भी मदद नही की।

क्या कहते है जिम्मेदार
सीएमओ डॉ. सीपी कश्यप का कहना है कि अस्पताल में मौत होने पर ही परिजनों को एंबुलेंस दी जाती है। सिर्फ पोस्टमॉर्टम के लिए आई बॉडी के लिए ऐसी कोई सुविधा नहीं है। यह जिम्मेदारी पुलिस की होती है। वहीं मौदहा इंस्पेक्टर का कहना है पीएम के लिए सिपाही और होम गार्ड को साथ भेजा गया था। होमगार्ड मौके पर मौजूद था, लेकिन सिपाही गायब था। वो कहां चला गया इसकी जांच करवाई जा रही है।

{ यह भी पढ़ें:- यूपी: पुलिस की पिटाई से युवक की आंख निकल आई }