वैज्ञानिकों का दावा- इसलिए ठीक होने के बाद दोबारा कोरोना पाॅजिटिव आती है रिपोर्ट

corona

नई दिल्ली। कोरोना मरीजों के स्वस्थ होने के साथ ही उनके दोबारा पाॅजिटिव होने के भी मामले भी लगातार सामने आ रहे हैं। कई देशों में मरीजों की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद दोबारा पाॅजिटिव आने के मामले में बढ़त भी हुई है। वहीं इस पर कई रिसर्च भी की गई है। वहीं इन रिसर्च में जानकारों का कहना है कि रिकवर होने के बाद हफ्तों बाद आई मरीज की रिपोर्ट पॉजिटिव आने से कोई खतरा नहीं है।

Hence Corona Positive Comes Back After Recovery :

दरअसल साउथ कोरिया के सेंटर ऑफ डिसीज कंट्रोल एन्ड प्रिवेंशन के वैज्ञानिकों ने अपनी रिसर्च में बताया है कि इलाज के बाद ठीक हुए कोरोना के मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आती हैं। इसका कारण उनके शरीर में मौजूद कोरोना वायरस के मृत कण हो सकते हैं लेकिन इस से संक्रमण का कोई खतरा नहीं होगा। इस रिसर्च के लिए 285 मरीजों का सैंपल लिया गया था। इन सैंपल की जांच के दौरान वायरस में किसी तरह का विकास नहीं दिखा। जिससे ये साबित हुआ कि इससे संक्रमण नहीं फैल सकता।

बता दें कि सबसे ज्यादा मामले अब तक साउथ कोरिया में ही देखने को मिले। यहां कई मरीज ऐसे थे जो कोरोना से पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद दोबारा कोरोना पाॅजिटिव पाए गए। वैज्ञानिकों के अनुसार वायरस शरीर में कोरोना वायरस जिंदा है या नहीं इसका पता लगाने के लिए कई स्टडी की गई हैं। जिसमें स्वस्थ हो चुके मरीज को अगर 3 दिन तक कोई लक्षण नहीं दिखते हैं तो उसके गले से सैंपल लेकर वायरस को कल्चर किया जाता है।

अगर कल्चर करने पर ये वायरस अपने जैसे और वायरस पैदा करता है तो इसका मतलब है कि वो जिंदा हैं लेकिन अगर ऐसा नहीं होता तो शरीर में मौजूद वायरस मरा हुआ होता है। और मरे हुए जिवाणु से शरीर को कोई खतरा नहीं रहता। हालांकि भारत में भी ऐसे कई मामले देखे जा रहे हैं जिसमें मरीज के स्वस्थ होने के बाद भी वह कोरोना पाॅजिटिव पाया जा रहा है।

शादी की बात पर मलाइका-अर्जुन ने तो’ड़ी चु’प्पी, मलाइका शादी के बाद नहीं करेगी ये काम!

नई दिल्ली। कोरोना मरीजों के स्वस्थ होने के साथ ही उनके दोबारा पाॅजिटिव होने के भी मामले भी लगातार सामने आ रहे हैं। कई देशों में मरीजों की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद दोबारा पाॅजिटिव आने के मामले में बढ़त भी हुई है। वहीं इस पर कई रिसर्च भी की गई है। वहीं इन रिसर्च में जानकारों का कहना है कि रिकवर होने के बाद हफ्तों बाद आई मरीज की रिपोर्ट पॉजिटिव आने से कोई खतरा नहीं है। दरअसल साउथ कोरिया के सेंटर ऑफ डिसीज कंट्रोल एन्ड प्रिवेंशन के वैज्ञानिकों ने अपनी रिसर्च में बताया है कि इलाज के बाद ठीक हुए कोरोना के मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आती हैं। इसका कारण उनके शरीर में मौजूद कोरोना वायरस के मृत कण हो सकते हैं लेकिन इस से संक्रमण का कोई खतरा नहीं होगा। इस रिसर्च के लिए 285 मरीजों का सैंपल लिया गया था। इन सैंपल की जांच के दौरान वायरस में किसी तरह का विकास नहीं दिखा। जिससे ये साबित हुआ कि इससे संक्रमण नहीं फैल सकता। बता दें कि सबसे ज्यादा मामले अब तक साउथ कोरिया में ही देखने को मिले। यहां कई मरीज ऐसे थे जो कोरोना से पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद दोबारा कोरोना पाॅजिटिव पाए गए। वैज्ञानिकों के अनुसार वायरस शरीर में कोरोना वायरस जिंदा है या नहीं इसका पता लगाने के लिए कई स्टडी की गई हैं। जिसमें स्वस्थ हो चुके मरीज को अगर 3 दिन तक कोई लक्षण नहीं दिखते हैं तो उसके गले से सैंपल लेकर वायरस को कल्चर किया जाता है। अगर कल्चर करने पर ये वायरस अपने जैसे और वायरस पैदा करता है तो इसका मतलब है कि वो जिंदा हैं लेकिन अगर ऐसा नहीं होता तो शरीर में मौजूद वायरस मरा हुआ होता है। और मरे हुए जिवाणु से शरीर को कोई खतरा नहीं रहता। हालांकि भारत में भी ऐसे कई मामले देखे जा रहे हैं जिसमें मरीज के स्वस्थ होने के बाद भी वह कोरोना पाॅजिटिव पाया जा रहा है। शादी की बात पर मलाइका-अर्जुन ने तो’ड़ी चु’प्पी, मलाइका शादी के बाद नहीं करेगी ये काम!