J&K: जम्मू-कश्मीर के इन दो एयरबेस पर जारी हुआ हाई अलर्ट, आतंकी हमले की आशंका

jammu kashmir
J&K: जम्मू कश्मीर के इन दो एयरबेस पर जारी हुआ हाई अलर्ट, आतंकी हमले की आशंका

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में हालत लगातार नाजुक बने हुए हैं। आतंकी हमलों पर रोक लगाने के लिए सेना के जवान डटे हुए हैं। सुरक्षा सूत्रों के मुताबिक, एयरबेस पर हमलों को लेकर अलर्ट जारी किया गया है। आशंका है कि आतंकवादी जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर और अवंतीपुरा एयरबेस पर हमलों को अंजाम दे सकते हैं। ऐसे में हाई अलर्ट जारी कर दिया है, जिसमें श्रीनगर और अवंतीपुरा एयरबेस के चारो ओर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। इन एयर बेसों के आस पास सुरक्षा बलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। बता दें कि इससे पहले इसी हफ्ते सुंजुवान आर्मी कैंप के बाहर एक संदिग्ध को पकड़ा गया था।

High Alert On These Two Airbase Of Jammu Kashmir :

दरअसल, पुलवामा आतंकी हमले के बाद सुरक्षा बलों और सेनाओं की जवाबी कार्रवाइयों के बाद आतंकियों में बौखलाहट है। इसकी वजह से बीते कुछ दिनों से कश्‍मीर में आतंकी ज्‍यादा सक्रिय नजर आ रहे हैं। सुरक्षा बल भी मुस्‍तैद हैं और मुठभेड़ों में आतंकियों को मार गिराया जा रहा है। अभी कल ही दक्षिण कश्मीर के पुलवामा और शोपियां में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में छह आतंकियों को मार गिराया था।

वहीं इस हमले में पुलवामा जिले के डलीपोरा में जैश कमांडर और 15 लाख के इनामी खालिद समेत उसके दो साथियों को मार गिराया गया। इस दौरान सुरक्षा बलों के दो जवान भी शहीद हो गए, जबकि एक अन्य जख्मी हुए है। वहीं, क्रॉस फायरिंग में एक स्थानीय युवक की भी मौत हो गई। शहीद जवान की पहचान संदीप (28), गांव-बेहलबा, तहसील-रोहतक, जिला-रोहतक, हरियाणा के रूप में हुई है। मुठभेड़ में कानपुर देहात के डेरापुर कस्‍बे के रोहित यादव घायल हो गए थे जिनकी इलाज के दौरान मौत हो गई थी।

सूत्रों की मानें तो सुरक्षा बलों ने पुलवामा हमले के 45 दिन के भीतर ही इसमें शामिल जैश-ए-मोहम्मद की पूरी टीम को निष्क्रिय कर डाला था। सुरक्षा बलों ने टेक्निकल और ह्यूमन इंटेलिजेंस ऑपरेशनों की मदद से आतंकियों को निष्क्रिय किया था। इन आतंकियों को अलग-अलग ऑपरेशनों में मार गिराया था, वहीं कुछ आतंकी गिरफ्तार भी हुए थे। इसके बाद सेना की 15वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लो ने बताया था कि कश्‍मीर में 2019 में 69 आतंकी मारे जा चुके हैं और जैश-ए-मुहम्मद का नेटवर्क लगभग तबाह हो चुका है।

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में हालत लगातार नाजुक बने हुए हैं। आतंकी हमलों पर रोक लगाने के लिए सेना के जवान डटे हुए हैं। सुरक्षा सूत्रों के मुताबिक, एयरबेस पर हमलों को लेकर अलर्ट जारी किया गया है। आशंका है कि आतंकवादी जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर और अवंतीपुरा एयरबेस पर हमलों को अंजाम दे सकते हैं। ऐसे में हाई अलर्ट जारी कर दिया है, जिसमें श्रीनगर और अवंतीपुरा एयरबेस के चारो ओर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। इन एयर बेसों के आस पास सुरक्षा बलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। बता दें कि इससे पहले इसी हफ्ते सुंजुवान आर्मी कैंप के बाहर एक संदिग्ध को पकड़ा गया था। दरअसल, पुलवामा आतंकी हमले के बाद सुरक्षा बलों और सेनाओं की जवाबी कार्रवाइयों के बाद आतंकियों में बौखलाहट है। इसकी वजह से बीते कुछ दिनों से कश्‍मीर में आतंकी ज्‍यादा सक्रिय नजर आ रहे हैं। सुरक्षा बल भी मुस्‍तैद हैं और मुठभेड़ों में आतंकियों को मार गिराया जा रहा है। अभी कल ही दक्षिण कश्मीर के पुलवामा और शोपियां में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में छह आतंकियों को मार गिराया था। वहीं इस हमले में पुलवामा जिले के डलीपोरा में जैश कमांडर और 15 लाख के इनामी खालिद समेत उसके दो साथियों को मार गिराया गया। इस दौरान सुरक्षा बलों के दो जवान भी शहीद हो गए, जबकि एक अन्य जख्मी हुए है। वहीं, क्रॉस फायरिंग में एक स्थानीय युवक की भी मौत हो गई। शहीद जवान की पहचान संदीप (28), गांव-बेहलबा, तहसील-रोहतक, जिला-रोहतक, हरियाणा के रूप में हुई है। मुठभेड़ में कानपुर देहात के डेरापुर कस्‍बे के रोहित यादव घायल हो गए थे जिनकी इलाज के दौरान मौत हो गई थी। सूत्रों की मानें तो सुरक्षा बलों ने पुलवामा हमले के 45 दिन के भीतर ही इसमें शामिल जैश-ए-मोहम्मद की पूरी टीम को निष्क्रिय कर डाला था। सुरक्षा बलों ने टेक्निकल और ह्यूमन इंटेलिजेंस ऑपरेशनों की मदद से आतंकियों को निष्क्रिय किया था। इन आतंकियों को अलग-अलग ऑपरेशनों में मार गिराया था, वहीं कुछ आतंकी गिरफ्तार भी हुए थे। इसके बाद सेना की 15वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लो ने बताया था कि कश्‍मीर में 2019 में 69 आतंकी मारे जा चुके हैं और जैश-ए-मुहम्मद का नेटवर्क लगभग तबाह हो चुका है।