यादव सिंह की जमानत याचिका पर हाईकोर्ट आज ही करे फैसला: सुप्रीम कोर्ट

yadav singh

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट को आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक सम्पत्ति अर्जित करने और भ्रष्टाचार के कई मामलों के आरोपी नोएडा के पूर्व मुख्य अभियंता यादव सिंह की जमानत याचिका का बुधवार को ही निपटारा करने का आदेश दिया।

High Court Should Decide On Yadav Singhs Bail Plea Today Supreme Court :

न्यायमूर्ति रोहिंगटन एफ नरीमन, न्यायमूर्ति नवीन सिन्हा और न्यायमूर्ति बी आर गवई की खंडपीठ ने यादव सिंह की जमानत याचिका पर बुधवार को ही सुनवाई करने का हाईकोर्ट को निर्देश दिया। न्यायमूर्ति नरीमन ने कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट से आज ही जमानत याचिका की सुनवाई करेगा और आज ही उसका निपटारा करेगा।

यादव सिंह ने हाईकोर्ट के हर रोज वीडियो कांफ्रेंसिंग से सुनवाई करने के आदेश के खिलाफ शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया है। आपको बता दें कि आठ जून को हुई सुनवाई के दौरान न्यायमूर्ति नरीमन ने यादव सिंह से कहा था कि वह अपनी आपत्ति 12 जून को हाईकोर्ट में होने वाली सुनवाई के दौरान दर्ज कराएं।

इसके बाद न्यायालय ने मामले की सुनवाई स्थगित कर दी थी। यादव सिंह के खिलाफ 2004 और 2015 के बीच अकूत सम्पत्ति अर्जित करने का आरोप है। केंद्रीय जांच ब्यूरो इस मामले की जांच कर रहा है।

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट को आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक सम्पत्ति अर्जित करने और भ्रष्टाचार के कई मामलों के आरोपी नोएडा के पूर्व मुख्य अभियंता यादव सिंह की जमानत याचिका का बुधवार को ही निपटारा करने का आदेश दिया। न्यायमूर्ति रोहिंगटन एफ नरीमन, न्यायमूर्ति नवीन सिन्हा और न्यायमूर्ति बी आर गवई की खंडपीठ ने यादव सिंह की जमानत याचिका पर बुधवार को ही सुनवाई करने का हाईकोर्ट को निर्देश दिया। न्यायमूर्ति नरीमन ने कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट से आज ही जमानत याचिका की सुनवाई करेगा और आज ही उसका निपटारा करेगा। यादव सिंह ने हाईकोर्ट के हर रोज वीडियो कांफ्रेंसिंग से सुनवाई करने के आदेश के खिलाफ शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया है। आपको बता दें कि आठ जून को हुई सुनवाई के दौरान न्यायमूर्ति नरीमन ने यादव सिंह से कहा था कि वह अपनी आपत्ति 12 जून को हाईकोर्ट में होने वाली सुनवाई के दौरान दर्ज कराएं। इसके बाद न्यायालय ने मामले की सुनवाई स्थगित कर दी थी। यादव सिंह के खिलाफ 2004 और 2015 के बीच अकूत सम्पत्ति अर्जित करने का आरोप है। केंद्रीय जांच ब्यूरो इस मामले की जांच कर रहा है।