तीस हजारी मामले में हाईकोर्ट ने पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी पर लगाई रोक, अगली सुनवाई 23 दिसम्बर को

Tis Hazari Case
तीस हजारी मामले में हाईकोर्ट ने पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी पर लगाई रोक, अगली सुनवाई 23 दिसम्बर को

नई दिल्ली। देश की राजधानी में तीस हजारी कोर्ट में वकीलों और पुलिस के बीच हुए मामले में दिल्ली पुलिस को हाईकोर्ट से राहत मिली है। कोर्ट ने पुलिस की याचिका पर सुनवाई करते हुए आरोपित पुलिस कर्मियों की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। यही नही कोर्ट ने मामले की सुनवाई के लिए अब अगली तारीख 23 दिसम्बर दी है, जिसके लिए हाईकोर्ट ने सभी बार काउंसिल को नोटिस भी जारी किया है।

High Court Stays The Arrest Of Policemen In Tis Hazari Case Next Hearing On 23 December :

हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डीएन पटेल और जस्टिस सी हरिशंकर की बेंच के सामने इस मामले की सुनवाई हुई। इस दौरान कोर्ट ने कहा कि ज्यूडिशियल इन्क्वॉयरी पूरी होने से पहले किसी भी पुलिसकर्मी के खिलाफ कोई कड़ी कारवाई नही की जा सकती। वहीं कोर्ट के इस बयान के बाद अब शायद पुलिस वालो की गिरफ्तारी की मांग को लेकर चल रही वकीलों की हड़ताल खत्म हो जाये।

आपको बता दें कि दिल्ली पुलिस ने आरोपी पुलिसवालों के खिलाफ कोई कार्रवाई ना करने की याचिका दाखिल की थी। पुलिस याचिका में ये हवाला दिया था कि इस मामले में जिस तरह से कोर्ट ने वकीलो की गिरफ्तारी पर रोक लगा रखी है, उसी तरह से पुलिसकर्मियों को भी गिरफ्तारी से राहत दी जाए। हालांकि इस याचिका पर वकील ऐतराज कर रहे हैं।

नई दिल्ली। देश की राजधानी में तीस हजारी कोर्ट में वकीलों और पुलिस के बीच हुए मामले में दिल्ली पुलिस को हाईकोर्ट से राहत मिली है। कोर्ट ने पुलिस की याचिका पर सुनवाई करते हुए आरोपित पुलिस कर्मियों की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। यही नही कोर्ट ने मामले की सुनवाई के लिए अब अगली तारीख 23 दिसम्बर दी है, जिसके लिए हाईकोर्ट ने सभी बार काउंसिल को नोटिस भी जारी किया है। हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डीएन पटेल और जस्टिस सी हरिशंकर की बेंच के सामने इस मामले की सुनवाई हुई। इस दौरान कोर्ट ने कहा कि ज्यूडिशियल इन्क्वॉयरी पूरी होने से पहले किसी भी पुलिसकर्मी के खिलाफ कोई कड़ी कारवाई नही की जा सकती। वहीं कोर्ट के इस बयान के बाद अब शायद पुलिस वालो की गिरफ्तारी की मांग को लेकर चल रही वकीलों की हड़ताल खत्म हो जाये। आपको बता दें कि दिल्ली पुलिस ने आरोपी पुलिसवालों के खिलाफ कोई कार्रवाई ना करने की याचिका दाखिल की थी। पुलिस याचिका में ये हवाला दिया था कि इस मामले में जिस तरह से कोर्ट ने वकीलो की गिरफ्तारी पर रोक लगा रखी है, उसी तरह से पुलिसकर्मियों को भी गिरफ्तारी से राहत दी जाए। हालांकि इस याचिका पर वकील ऐतराज कर रहे हैं।