गृह मंत्रालय में उच्चस्तरीय बैठक आज, AGMUT कैडर के IAS-IPS के तबादलों पर लग सकती है मुहर

HM
गृह मंत्रालय में उच्चस्तरीय बैठक आज, एजीएमयूटी कैडर के IAS-IPS के तबादले पर लग सकती है मुहर

नई दिल्ली। केन्द्र शासित प्रदेशों के एजीएमयूटी कैडर में आईएएस—आईपीएस अधिकारियों के तबादले को लेकर गृह मंत्रालय ने आज उच्चस्तरीय बैठक बुलाई है। बैठक में जम्मू-कश्मीर में कई आईपीएस अधिकारियों को बाहर से बुलाने और कई अधिकारियों को बाहर भेजने पर भी फैसला हो सकता है। केन्द्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला की अध्यक्षता में होने वाली इस बैठक में गोवा पुलिस के अगले प्रमुख की तैनाती पर भी फैसला हो सकता है। गोवा के डीजीपी प्रणब नंदा के निधन के बाद से यह पद रिक्त चल रहा है।

High Level Meeting In Home Ministry Today Agmut Cadre Ias Ips Transfer Can Be Approved :

बताया यह भी जा रहा है कि जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह को भी प्रदेश से बाहर भेजा जा सकता है। उनकी जगह दूसरे आईपीएस अधिकारी को तैनाती दी जा सकती है। वहीं आईएएस अधिकारियों को भी यहां भेजा जा सकता है। इस पूरी प्रक्रिया के बाद जम्मू-कश्मीर में प्रशासन, पुलिस विभाग में व्यापक पैमाने पर फेरबदल हो सकता है।

गृह मंत्रालय ने बैठक में दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक को विशेष तौर पर बुलाया है। तीस हजारी कोर्ट में वकीलों से झड़प और जामिया में छात्रों पर पुलिस कार्रवाई जैसे मामलों को लेकर दिल्ली पुलिस कुछ महीनों से सवालों के घेरे में है। गृहमंत्रालय के शीर्ष अधिकारी ने भी पहले कहा था कि दिल्ली पुलिस को आगाह किया गया है कि कानून-व्यवस्था में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

नई दिल्ली। केन्द्र शासित प्रदेशों के एजीएमयूटी कैडर में आईएएस—आईपीएस अधिकारियों के तबादले को लेकर गृह मंत्रालय ने आज उच्चस्तरीय बैठक बुलाई है। बैठक में जम्मू-कश्मीर में कई आईपीएस अधिकारियों को बाहर से बुलाने और कई अधिकारियों को बाहर भेजने पर भी फैसला हो सकता है। केन्द्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला की अध्यक्षता में होने वाली इस बैठक में गोवा पुलिस के अगले प्रमुख की तैनाती पर भी फैसला हो सकता है। गोवा के डीजीपी प्रणब नंदा के निधन के बाद से यह पद रिक्त चल रहा है। बताया यह भी जा रहा है कि जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह को भी प्रदेश से बाहर भेजा जा सकता है। उनकी जगह दूसरे आईपीएस अधिकारी को तैनाती दी जा सकती है। वहीं आईएएस अधिकारियों को भी यहां भेजा जा सकता है। इस पूरी प्रक्रिया के बाद जम्मू-कश्मीर में प्रशासन, पुलिस विभाग में व्यापक पैमाने पर फेरबदल हो सकता है। गृह मंत्रालय ने बैठक में दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक को विशेष तौर पर बुलाया है। तीस हजारी कोर्ट में वकीलों से झड़प और जामिया में छात्रों पर पुलिस कार्रवाई जैसे मामलों को लेकर दिल्ली पुलिस कुछ महीनों से सवालों के घेरे में है। गृहमंत्रालय के शीर्ष अधिकारी ने भी पहले कहा था कि दिल्ली पुलिस को आगाह किया गया है कि कानून-व्यवस्था में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।