गृह मंत्रालय में J&K और लद्दाख को लेकर उच्चस्तरीय बैठक जारी, NSA, LG, सेना प्रमुख और CRPF डीजी मौजूद

HM
गृह मंत्रालय में उच्चस्तरीय बैठक आज, एजीएमयूटी कैडर के IAS-IPS के तबादले पर लग सकती है मुहर

नई दिल्ली। अनुच्छेद 370 हटाने के बाद नवगठित केन्द्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर और लद्दाख में परिसम्पत्तियों और प्रशासनिक अमले के विभाजन पर मंथन चल रहा है। इसी को लेकर आज मंगलवार को गृह मंत्रालय ने उच्च स्तरीय बैठक बुलाई है।

High Level Meeting On Jk And Ladakh Continues In Home Ministry Nsa Lg Army Chief And Crpf Dg Present :

बैठक में जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल जीसी मुर्मू, थल सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत और सीआरपीएफ डीजी राजीव राय भटनागर उच्च स्तरीय बैठक के लिए गृह मंत्रालय पहुंचे हैं। इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भी गृह मंत्रालय पहुंचे हैं।

माना जा रहा है कि इस बैठक में लद्दाख में पुलिस प्रमुख के पद पर किसे भेजना है इसपर चर्चा होगी। लद्दाख में पुलिस प्रमुख की कमान संभालने के लिए दिल्ली पुलिस में तैनात किसी आला अनुभवी आईपीएस अधिकारी को ही भेजा जाएगा क्योंकि लद्दाख नवगठित है और भौगोलिक नजरिये से बेहद संवेदनशील है।

सूत्रों ने बताया कि जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी पद पर भी बदलाव होना है। ऐसे में यह बैठक कई मायनों में एहम है। साथ ही लगातार सीमा पर घुसपैठ और सीजफायर का उल्लंघन हो रहा है। इसे लेकर भी इस बैठक में चर्चा होनी है।

नई दिल्ली। अनुच्छेद 370 हटाने के बाद नवगठित केन्द्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर और लद्दाख में परिसम्पत्तियों और प्रशासनिक अमले के विभाजन पर मंथन चल रहा है। इसी को लेकर आज मंगलवार को गृह मंत्रालय ने उच्च स्तरीय बैठक बुलाई है। बैठक में जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल जीसी मुर्मू, थल सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत और सीआरपीएफ डीजी राजीव राय भटनागर उच्च स्तरीय बैठक के लिए गृह मंत्रालय पहुंचे हैं। इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भी गृह मंत्रालय पहुंचे हैं। माना जा रहा है कि इस बैठक में लद्दाख में पुलिस प्रमुख के पद पर किसे भेजना है इसपर चर्चा होगी। लद्दाख में पुलिस प्रमुख की कमान संभालने के लिए दिल्ली पुलिस में तैनात किसी आला अनुभवी आईपीएस अधिकारी को ही भेजा जाएगा क्योंकि लद्दाख नवगठित है और भौगोलिक नजरिये से बेहद संवेदनशील है। सूत्रों ने बताया कि जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी पद पर भी बदलाव होना है। ऐसे में यह बैठक कई मायनों में एहम है। साथ ही लगातार सीमा पर घुसपैठ और सीजफायर का उल्लंघन हो रहा है। इसे लेकर भी इस बैठक में चर्चा होनी है।