अधूरा रह जाएगा अखिलेश यादव का होटल बनाने का सपना, हाईकोर्ट ने लगाई रोंक

akhilesh yadav- highcourt
अधूरा रह जाएगा अखिलेश यादव का होटल बनाने का सपना, हाईकोर्ट ने लगाई रोंक

Highcourt Stay On Ex Cm Akhilesh Yadavs Hotel Hibiscas Heritage Project

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का होटल बनाने का सपना अधूरा ही रह जाएगा। हजरतगंज में विक्रमादित्य मार्ग पर प्रस्तावित इस होटल को लेकर कोर्ट में दाखिल की गई याचिका पर शनिवार को हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने सुनवाई की गई। इस मामले का कोर्ट ने स्वतः संज्ञान लेते हुए फिलहाल होटल के निर्माण पर रोक लगा दी है। यही नही याचिका दाखिल करने वाले अधिवक्ता शिशिर चतुर्वेदी को सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश भी न्यायालय ने दिया है।

बता दें कि इस होटल निर्माण की जो ​जगह चिन्हित की गई थी वो वीवीआईपी हाई सिक्योरिटी जोन में है। ऐसे में कोर्ट ने पूछा कि ऐसी संवेनदनशील जगह पर होटल निर्माण की इजाजत किस ​अधिकारी ने दी है। फिलहाल कोर्ट अब इस मामले की अगली सुनवाई आगामी पांच सितंबर को करेगी।

बताया जा रहा है कि अधिवक्त शिशिर चतुर्वेदी ने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, उनकी पत्नी डिंपल यादव, पिता मुलायम सिंह यादव और जनेश्वर मिश्र ट्रस्ट समेत 13 लोगों को पार्टी बनाते हुए कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। उनका कहना था कि उनके उपर पीआईएल वापस लेने का भी दबाव बनाया जा रहा है, साथ ही उनकी जान को भी खतरा है। जिसके बाद कोर्ट ने सरकार को अधिवक्ता शिशिर चतुर्वेदी को सुरक्षा मुहैया कराने का भी आदेश दिया। ये पूरा बवाल अखिलेश यादव और उनकी पत्नी डिंपल यादव द्वारा एलडीए में होटल निर्माण के लिए आवेदन करने के बाद मचा था।

लखनऊ विकास प्राधिकरण के अधिशासी अभियंता ने उनके प्रस्‍तावित होटल के संशोधित मानचित्र पर अनापत्ति के लिए विभिन्‍न विभागों को पत्र लिखा था। इसमें लिखा गया कि ‘कृपया पक्ष श्रीमती डिंपल यादव और अखिलेश यादव द्वारा भूखंड संख्‍या 1ए विक्रमादित्‍य मार्ग लखनऊ में प्रस्‍तावित होटल हिबिस्‍कस हेरीटेज के निर्माण संबंधी संशोधित मानचित्र स्‍वीकृति हेतु जमा किया गया है। जिस पर आपके विभाग की अनापत्ति आवश्‍यक है’।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का होटल बनाने का सपना अधूरा ही रह जाएगा। हजरतगंज में विक्रमादित्य मार्ग पर प्रस्तावित इस होटल को लेकर कोर्ट में दाखिल की गई याचिका पर शनिवार को हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने सुनवाई की गई। इस मामले का कोर्ट ने स्वतः संज्ञान लेते हुए फिलहाल होटल के निर्माण पर रोक लगा दी है। यही नही याचिका दाखिल करने वाले अधिवक्ता शिशिर चतुर्वेदी को सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश भी न्यायालय ने…