1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Sukhwinder Singh Sukhu Jeevan Parichay: कभी दूध और अखबार बेचते थे हिमाचल के नए CM सुखविंदर सिंह सुक्खू, ऐसे चढ़ी राजनीति की सीढ़ियां

Sukhwinder Singh Sukhu Jeevan Parichay: कभी दूध और अखबार बेचते थे हिमाचल के नए CM सुखविंदर सिंह सुक्खू, ऐसे चढ़ी राजनीति की सीढ़ियां

हिमाचल के नए मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू कुछ देर में शपथ ग्रहण करेंगे। सुखविंदर सिंह सुक्खू के शपथ ग्रहण में शामिल होने के लिए कांग्रेस के दिग्गज नेता पहुंच रहे हैं। राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, सचिन पायलट समेत अन्य नेता वहां पर पहुंचे हैं।

By शिव मौर्या 
Updated Date

Sukhwinder Singh Sukhu Jeevan Parichay: हिमाचल के नए मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू  (Sukhwinder Singh Sukhu) कुछ देर में शपथ ग्रहण करेंगे। सुखविंदर सिंह सुक्खू   (Sukhwinder Singh Sukhu) के शपथ ग्रहण में शामिल होने के लिए कांग्रेस के दिग्गज नेता पहुंच रहे हैं। राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, सचिन पायलट समेत अन्य नेता वहां पर पहुंचे हैं। हिमाचल के नए मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू   (Sukhwinder Singh Sukhu) के बारे में आइए जानते हैं कि उन्होंने राजनीति की सीढ़ियां चढ़ने से पहले कैसे संघर्ष किया और यहां तक पहुंचे…

पढ़ें :- Parliament Session Live : अदाणी मुद्दे पर विपक्ष का जोरदार हंगामा, लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित

दूध और अखबार बेचते थे सुखविंदर सिंह सुक्खू
हिमाचल के नए सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू   (Sukhwinder Singh Sukhu) पढ़ाई के दौरान से ही संघर्ष करते आए हैं। कॉलेज के दिनों में सुक्खू छोटा शिमला बाजार में दूध और अखबार बेचने का काम करते थे। इसके बाद कॉलेज जाते थे। उनका परिवार पहले कसुम्पटी में रहता था, बाद में छोटा शिमला शिफ्ट हो गया। बताया जाता है कि सुक्खू आम नागरिक की तरह अपने जीवन को जीया है। ऐसे में उन्हें पता है कि आम जनता की क्या परेशानियां रहती हैं? लोगों का कहना है कि, सुक्खू काफी संघर्षशील और मेहनती हैं। प्रदेश को उनके सीएम बनने से फायदा होगा।

छात्र राजनीति से की शुरूआत
बता दें कि, सुखविंदर सिंह सुक्खू   (Sukhwinder Singh Sukhu) छात्र राजनीति से अपने जीवन की शुरूआत की थी। छात्र राजनीति के बाद सुक्खू ने साल 1992 में नगर निगम शिमला में पार्षद पद पर अपना पहला चुनाव लड़ा था। यह चुनाव छोटा शिमला वार्ड से लड़ा गया। पहले चुनाव में इन्हें जीत हासिल हुई थी। इसके बाद साल 1997 में दूसरी बार छोटा शिमला वार्ड से पार्षद का चुनाव लड़ा और फिर बड़े अंतर से जीत हासिल की। इस दौरान वह अक्सर जनता से जुड़े मुद्दों को उठाते थे। इसके बाद सुक्खू विधायक बने।

 

पढ़ें :- UP News: स्वामी प्रसाद मौर्य बोले-गौमांस खाने वालों को हिंदू बनाकर उन्हें भी अपमानित करने का इरादा है क्या?
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...