बिहार में हिंदुस्तान पावर का 10 मेगावॉट का नया सौर संयंत्र चालू

नई दिल्ली: हिंदुस्तान पावर की स्वच्छ ऊर्जा इकाई ने बिहार के गया जिले के शेरघाटी इलाके में 10 मेगावाट क्षमता की सौर ऊर्जा संयंत्र का शुभारंभ किया है जिसका राज्य की वर्तमान 100 मेगावाट सौर ऊर्जा क्षमता में अहम योगदान है। कंपनी ने शुक्रवार को जारी एक बयान में कहा कि 56 एकड़ भूखंड में कुल 34920 मॉड्यूल्स से निर्मित 81 करोड़ रुपये की लागत वाला यह संयंत्र नवंबर 2016 से यह संयंत्र रोजाना 45000 यूनिट स्वच्छ ऊर्जा का उत्पादन कर रहा है। 10 मेगावाट की इस परियोजना के लिए बिहार स्टेट पावर होल्डिंग कारपोरेशन लिमिटेड के साथ करार किया गया है और संयंत्र से 33 केवी क्षमता के शेरघाटी विद्युत उप केंद्र को बिजली भेजी जाती है।




हिंदुस्तान पावर के चेयरमैन रतुल पुरी ने बताया, “वर्ष 2022 तक 100 गीगावाट सौर ऊर्जा उत्पादन का लक्ष्य हासिल करने के लिए राज्यों को ऐसे नीतिगत प्रारूप पर काम करना होगा जो उद्योग के अनुकूल हो और साथ ही लोगों को भी इससे लाभ हो। हाल के वर्षो में बिहार ने संशोधित सौर लक्ष्य की घोषणा कर और सौर क्षमता के संवर्धन के लिए आवश्यक ढांचागत सहयोग प्रदान कर बेहद सकारात्मक शुरुआत की है।”

हिंदुस्तान पावर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (डोमिस्टिक सोलर) राज्या घई ने कहा, “बिहार में काम करने का हमारा अनुभव काफी अच्छा रहा है। हमें काफी कुछ सीखने का मौका मिला। स्थानीय प्रशासन और बिहार स्टेट पावर होल्डिंग कारपोरेशन लिमिटेड के अधिकारियों ने इस परियोजना को समय पर पूरा कराने में बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।”




हिंदुस्तान क्लीन एनर्जी लिमिटेड सोलर फार्म विकसित करने के मामले में अग्रणी है और साथ ही यह वैश्विक अक्षय ऊर्जा बाजार में भी अग्रणी कंपनियों में शामिल है। साल 2009 में इस कंपनी की स्थापना भारत और शेष दुनिया में अक्षय ऊर्जा परियोजनाओं के विकास के उद्देश्य से हुआ था। प्रौद्योगिकी एवं वैश्विक विशेषज्ञता की गहरी समझ वाली इस कंपनी का लक्ष्य है स्वच्छ ऊर्जा के लिए सर्वश्रेष्ठ सौर संयंत्रों की स्थापना करना। भारत के पहले 5 मेगावाट सौर संयंत्र की स्थापना से लेकर एशिया के प्रथम 30 मेगावाट सौर संयंत्र की स्थापना कर चुकी हिंदुस्तान क्लीन एनर्जी भारतीय सौर ऊर्जा क्षेत्र में एक अग्रणी कंपनी है।