Holi 2019: इस दिन पड़ रही है होली, जाने होलिका दहन का सही समय

Holi 2019: इस दिन पड़ रही है होली, जाने होलिका दहन का सही समय
Holi 2019: इस दिन पड़ रही है होली, जाने होलिका दहन का सही समय

फाल्गुन माह के शुरू होते ही सभी घरों में होली की तैयारियां शुरू होने लगती हैं। बाज़ारों में भी अलग सी रौनक नज़र आने लगती हैं। होली के दिन सभी गुलाल लगाकर एक-दूसरे से गले मिलते हैं और पुराने गिले-शिकवों को दूर करते हैं। जानिए इस बार होली किस दिन पड़ रही है होलिका दहन का शुभ मुहूर्त के बारे में….   

Holi 2019 Date And Time Of Holika :

इस दिन पड़ रही है होली

ज्योतिषों के अनुसार इस साल 20 मार्च को होलिका दहन होगी और 21 मार्च को होली मनाई जाएगी।

होलिका दहन का शुभ मुहूर्त

होलिका दहन के समय को लेकर हर कोई संशय में रहता है। क्योंकि ऐसा माना जाता है कि शुभ मूहर्त पर ही होलिका दहन करना फलित होता है। बता दें कि इस बार होलिका दहन का शुभ मुहूर्त शाम 20:57 से 00:28 मिनट तक है।

होलिका मनाने के पीछे एक कहानी है। भक्त प्रह्लाद के पिता हिरण्यकश्यप अपने बेटे से बहुत नफरत करता था। उसने प्रह्लाद पर हजारों हमले करवाए। फिर भी प्रह्लाद सकुशल रहा। हिरण्यकश्यप ने प्रह्लाद को मारने के लिए अपनी बहन होलिका को भेजा। होलिका को वरदान था कि वह आग से नहीं जलेगी।

हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका को बोला कि वह प्रह्लाद को लेकर आग में बैठ जाए। होलिका प्रह्लाद को लेकर आग में कूद गई। लेकिन हुआ इसका उल्टा। होलिका प्रह्लाद को लेकर जैसे ही आग में गई वह जल गई वह प्रह्लाद बच गए। प्रह्लाद अपने आराध्य विष्णु का नाम जपते हुए आग से बाहर आ गए। तब से होलिका दहन की रीत शुरू हो गई. इसके अगले दिन रंगों का त्योहार मनाया जाता है।

फाल्गुन माह के शुरू होते ही सभी घरों में होली की तैयारियां शुरू होने लगती हैं। बाज़ारों में भी अलग सी रौनक नज़र आने लगती हैं। होली के दिन सभी गुलाल लगाकर एक-दूसरे से गले मिलते हैं और पुराने गिले-शिकवों को दूर करते हैं। जानिए इस बार होली किस दिन पड़ रही है होलिका दहन का शुभ मुहूर्त के बारे में....   

इस दिन पड़ रही है होली

ज्योतिषों के अनुसार इस साल 20 मार्च को होलिका दहन होगी और 21 मार्च को होली मनाई जाएगी।

होलिका दहन का शुभ मुहूर्त

होलिका दहन के समय को लेकर हर कोई संशय में रहता है। क्योंकि ऐसा माना जाता है कि शुभ मूहर्त पर ही होलिका दहन करना फलित होता है। बता दें कि इस बार होलिका दहन का शुभ मुहूर्त शाम 20:57 से 00:28 मिनट तक है।

होलिका मनाने के पीछे एक कहानी है। भक्त प्रह्लाद के पिता हिरण्यकश्यप अपने बेटे से बहुत नफरत करता था। उसने प्रह्लाद पर हजारों हमले करवाए। फिर भी प्रह्लाद सकुशल रहा। हिरण्यकश्यप ने प्रह्लाद को मारने के लिए अपनी बहन होलिका को भेजा। होलिका को वरदान था कि वह आग से नहीं जलेगी।

हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका को बोला कि वह प्रह्लाद को लेकर आग में बैठ जाए। होलिका प्रह्लाद को लेकर आग में कूद गई। लेकिन हुआ इसका उल्टा। होलिका प्रह्लाद को लेकर जैसे ही आग में गई वह जल गई वह प्रह्लाद बच गए। प्रह्लाद अपने आराध्य विष्णु का नाम जपते हुए आग से बाहर आ गए। तब से होलिका दहन की रीत शुरू हो गई. इसके अगले दिन रंगों का त्योहार मनाया जाता है।