गृह मंत्रालय का आदेश- हाइवेज पर बसों और ट्रकों की आवाजाही न रोकें राज्य

A family of a migrant worker sits along a highway as they wait for a bus to return to their village, during a 21-day nationwide lockdown to limit the spreading of coronavirus disease (COVID-19), in Ghaziabad

नई दिल्ली: देश में हाल के दिनों में कोरोना के मामलों में बहुत तेजी आई है। खासकर 31 मई को लॉकडाउन खत्म होने के बाद देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ी है। इसके मद्देनजर गृह मंत्रालय ने आज साफ किया कि 8 जून से शुरू हुए अनलॉक-1 के दौरान पूरे देश में लोगों के रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक घर से बाहर निकलने पर रोक जारी रहेगी। लेकिन हाइवेज पर यात्रियों से भरी बसों और सामान से लदे ट्रकों की आवाजाही पर कोई पाबंदी नहीं है।

Home Ministry Order States Should Not Stop The Movement Of Buses And Trucks On Highways :

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने राज्यों को भेजे एक निर्देश में कहा कि रात के समय लोगों को घरों से नहीं निकलने देने की वजह भीड़भाड़ से बचना और सामाजिक दूरी बनाए रखना है। लेकिन इससे सप्लाई चेन और लॉजिस्टिक्स में दिक्कत नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय ने दिशानिर्देश जारी कर पूरे देश में रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक लोगों की आवाजाही पर रोक लगाई थी। केवल जरूरी कामों के लिए ही लोगों को आनेजाने की छूट दी गई थी। भल्ला ने कहा कि कुछ राज्य और केंद्रशासित प्रदेश रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक हाइवेज पर लोगों और वाहनों को रोक रहे हैं जिससे उन्हें दिक्कत हो रही है।

उन्होंने कहा, ‘मैं साफ करना चाहता हूं कि रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक लोगों की आवाजाही पर रोक का मकसद लोगों की भीड़भाड़ से बचना और सोशल डिस्टेंसिंग कायम करना है। राज्यीय और राष्ट्रीय राजमार्गों पर माल ढुलाई, यात्री बसों और ट्रकों की आवाजाही पर कोई रोक नहीं है। बसों, ट्रेनों और विमानों से आने वाले लोगों की आवाजाही पर भी कोई रोक नहीं है।‘ उन्होंने कहा कि राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को इन दिशानिर्देशों के मुताबिक काम करना चाहिए। इस बारे में जिला और स्थानीय अधिकारियों को भी जरूरी आदेश जारी किया जाना चाहिए।

देश में कोरोना वायरस के प्रकोप को रोकने लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नें 24 मार्च को 21 दिन का लॉकडाउन लगाने की घोषणा की थी। इस लॉकडाउन को पहले 3 मई और फिर 17 मई तक बढ़ाया गया। फिर इसे बढ़ाकर 31 मई कर दिया गया। अब पूरे देश में केवल कंटेनमेंट जोन में ही लॉकडाउन है जो 30 जून तक रहेगा। देश में 8 जून से लागू अनलॉक-1 के तहत पाबंदियों में कई तरह की छूट दी गई है।

कोरोना का कहर देश में 3 लाख पार, अकेले महाराष्ट्र में 1 लाख

नई दिल्ली: देश में हाल के दिनों में कोरोना के मामलों में बहुत तेजी आई है। खासकर 31 मई को लॉकडाउन खत्म होने के बाद देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ी है। इसके मद्देनजर गृह मंत्रालय ने आज साफ किया कि 8 जून से शुरू हुए अनलॉक-1 के दौरान पूरे देश में लोगों के रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक घर से बाहर निकलने पर रोक जारी रहेगी। लेकिन हाइवेज पर यात्रियों से भरी बसों और सामान से लदे ट्रकों की आवाजाही पर कोई पाबंदी नहीं है। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने राज्यों को भेजे एक निर्देश में कहा कि रात के समय लोगों को घरों से नहीं निकलने देने की वजह भीड़भाड़ से बचना और सामाजिक दूरी बनाए रखना है। लेकिन इससे सप्लाई चेन और लॉजिस्टिक्स में दिक्कत नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय ने दिशानिर्देश जारी कर पूरे देश में रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक लोगों की आवाजाही पर रोक लगाई थी। केवल जरूरी कामों के लिए ही लोगों को आनेजाने की छूट दी गई थी। भल्ला ने कहा कि कुछ राज्य और केंद्रशासित प्रदेश रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक हाइवेज पर लोगों और वाहनों को रोक रहे हैं जिससे उन्हें दिक्कत हो रही है। उन्होंने कहा, ‘मैं साफ करना चाहता हूं कि रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक लोगों की आवाजाही पर रोक का मकसद लोगों की भीड़भाड़ से बचना और सोशल डिस्टेंसिंग कायम करना है। राज्यीय और राष्ट्रीय राजमार्गों पर माल ढुलाई, यात्री बसों और ट्रकों की आवाजाही पर कोई रोक नहीं है। बसों, ट्रेनों और विमानों से आने वाले लोगों की आवाजाही पर भी कोई रोक नहीं है।‘ उन्होंने कहा कि राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को इन दिशानिर्देशों के मुताबिक काम करना चाहिए। इस बारे में जिला और स्थानीय अधिकारियों को भी जरूरी आदेश जारी किया जाना चाहिए। देश में कोरोना वायरस के प्रकोप को रोकने लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नें 24 मार्च को 21 दिन का लॉकडाउन लगाने की घोषणा की थी। इस लॉकडाउन को पहले 3 मई और फिर 17 मई तक बढ़ाया गया। फिर इसे बढ़ाकर 31 मई कर दिया गया। अब पूरे देश में केवल कंटेनमेंट जोन में ही लॉकडाउन है जो 30 जून तक रहेगा। देश में 8 जून से लागू अनलॉक-1 के तहत पाबंदियों में कई तरह की छूट दी गई है। कोरोना का कहर देश में 3 लाख पार, अकेले महाराष्ट्र में 1 लाख