होटल मालिक की हत्या की साजिश का पर्दाफाश, पुलिस ने शूटआट में आठ शार्प शूटर पकड़े

नई दिल्ली: साउथ डिस्ट्रिक पुलिस ने एक शूटआउट में आठ शार्प शूटर गिफ्तार कर आगरा के एक पांच सितारा होटल के मालिक की हत्या की साजिश को नाकाम कर दिया। पुलिस के मुताबिक पकड़े गए बदमाशों को होटल मालिक की हत्या के लिए एक करोड़ रपए की सुपारी दी गई थी। बदमाश तय रकम में से दस लाख रपए बतौर पेशगी भी ले चुके थे, लेकिन पुलिस ने एक सूचना के आधार पर जाल बिछाकर सभी शार्प शूटर गिरफ्तार कर लिए। हालांकि, इस घटना में गोली किसी को नहीं लगी। पकड़े गए शार्प शूटरों के नाम हरिराम उर्फ मिन्टू (31), चेनपाल गुर्जर उर्फ चेनू (23), संदीप कुमार (32), संजय कुमार, अशोक कुमार, चमन प्रकाश, मनीष खारी व बिजेन्द्र हैं। सभी गुरुग्राम, फतेहपुर बेरी और सेक्टर 86 नोएडा के रहने वाले हैं।




पुलिस ने आरोपियों से आठ पिस्टल, 22 कारतूस, मारुति स्विफ्ट कार, स्कूटी, बाइक और पचास हजार रपए बरामद किए गए हैं। अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त चिन्मय बिसवाल के मुताबिक सभी आरोपी अनिल दुजाना गैंग, हरिन्द्र उर्फ दरबारीपुर गैंग, रविरुपा व मंजीत नागर गैंग के बदमाश हैं। 29 अप्रैल की दोपहर एएटीएस इंस्पेक्टर रिचपाल सिंह को सूचना मिली थी कि गैंग आगरा के एक होटल मालिक का र्मडर करने की प्लानिंग में हैं। हत्या के लिए गैंग ने एक करोड़ रपए की सुपारी ले रखी है। सूचना के आधार पर बदमाशों की जानकारी जुटाकर पुलिस ने इजराइल कैम्प और रुचि विहार के बीच टी प्वाइंट पर जाल बिछा दिया। देर शाम इजराइल कैम्प की तरफ से एक मारुति स्विफ्ट कार टी प्वाइंट के पास आकर रुकी। कुछ ही मिनट बाद बाइक और स्कूटी पर तीन अन्य लोग वहां पहुंच गए।




कुछ देर बातचीत के बाद सभी वहां से निकलने वाले ही थे कि पुलिस ने उनको चेतावनी देकर आत्मसमर्पण करने को कहा। खुद को फंसते देख बदमाशों ने दो राउंड फायरिंग की। इसमें से एक गोली इंस्पेक्टर की बुलेट प्रूफ जैकेट पर लगी। जवाब में पुलिस ने कार के टायर पंचर करने के लिए गोली चलाई। पुलिस की ओर से चार राउंड फायर की गई। एक गोली बदमाशों की कार के सामने के बम्पर पर लगी। पुलिस ने सभी बदमाशों को पकड़ लिया। पुलिस पूछताछ में पता चला कि बदमाशों ने हत्या के लिए तय रकम में से दस लाख रपए बतौर पेशगी लिए थे।

हत्या की वारदात अंजाम देने के लिए बदमाशों ने होटल मालिक के बारे में पर्याप्त जानकारी जुटा ली थी। मसलन उसके घर का पता, दिल्ली में ऑफिस से वह कौन सी कार में चलता है आदि। पर वह अपने मंसूबे में सफल हो पाते इससे पहले ही पुलिस ने उनकी साजिश से पर्दा उठा दिया।