Protest: होटल वालों ने कश्मीरियों को कमरा देने से किया इनकार

c

आगरा। पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर आतंकी हमले के बाद देशभर में लोगों में गुस्सा है। अब अपने गुस्से का इजहार करने के लिए उत्तर प्रदेश के आगरा जनपद के कई होटल संचालकों ने अपने होटल में कश्मीर के लोगों को कमरा नहीं देने का एलान किया है।

Hotel Owners Not Giving Room To Kashmiris :

होटलों ने रिशेप्सन पर लिखवा भी दिया है कि कश्मीरीज आर नॉट अलाउड। ईदगाह क्षेत्र के होटल रिज, होटल किशन समेत शहर के 12 से ज्यादा होटलों ने कश्मीरी पर्यटकों को होटल में जगह देने से इंकार कर दिया है। किशन टूरिस्ट लॉज के मैनेजर रजब अली का कहना है कि कश्मीर में हमारी सेना, सुरक्षाबलों पर कश्मीरी लोग पत्थर फेंक रहे हैं।

उन पर आतंकी हमले करने वालों का साथ दे रहे हैं, इसलिए उनके होटल में कश्मीरियों को पनाह नहीं दी जाएगी। हम ऐसा करके अपने वीर जवानों को श्रद्धांजलि दे रहे हैं। होटल रिज के मैनेजर रोहित के मुताबिक जब तक कश्मीर के लोग पत्थरबाजों और आतंकियों का समर्थन बंद नहीं करते तब तक हम उन्हें अपने होटल में ठहरने की इजाजत नहीं दे सकते।

केवल ईदगाह ही नहीं बल्कि शहर में कई अन्य होटल भी कश्मीरियों को जगह नहीं दे रहे हैं। हालांकि इसके लिए वह अपने यहां ऐसा कोई बोर्ड नहीं लगा रहे। वह होटल फुल बताकर कश्मीरियों को कमरा देने से बच रहे हैं। कई होटल मालिक खुले तौर पर तो नहीं लेकिन कश्मीरियों को कमरा न देने को ठीक कदम बता रहे हैं।

उनका तर्क है कि होटल में रुकने वाले किसी व्यक्ति का सामान चेक नहीं किया जाता। पुलवामा के आतंकी हमले में स्थानीय लोगों ने ही आतंकियों को सहयोग किया होगा। ऐसा तो नहीं कि कई कश्मीरी यहां घूमने के नाम पर रुकने आ जाएं इसलिए उनसे बचा जा रहा है।

आगरा। पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर आतंकी हमले के बाद देशभर में लोगों में गुस्सा है। अब अपने गुस्से का इजहार करने के लिए उत्तर प्रदेश के आगरा जनपद के कई होटल संचालकों ने अपने होटल में कश्मीर के लोगों को कमरा नहीं देने का एलान किया है। होटलों ने रिशेप्सन पर लिखवा भी दिया है कि कश्मीरीज आर नॉट अलाउड। ईदगाह क्षेत्र के होटल रिज, होटल किशन समेत शहर के 12 से ज्यादा होटलों ने कश्मीरी पर्यटकों को होटल में जगह देने से इंकार कर दिया है। किशन टूरिस्ट लॉज के मैनेजर रजब अली का कहना है कि कश्मीर में हमारी सेना, सुरक्षाबलों पर कश्मीरी लोग पत्थर फेंक रहे हैं। उन पर आतंकी हमले करने वालों का साथ दे रहे हैं, इसलिए उनके होटल में कश्मीरियों को पनाह नहीं दी जाएगी। हम ऐसा करके अपने वीर जवानों को श्रद्धांजलि दे रहे हैं। होटल रिज के मैनेजर रोहित के मुताबिक जब तक कश्मीर के लोग पत्थरबाजों और आतंकियों का समर्थन बंद नहीं करते तब तक हम उन्हें अपने होटल में ठहरने की इजाजत नहीं दे सकते। केवल ईदगाह ही नहीं बल्कि शहर में कई अन्य होटल भी कश्मीरियों को जगह नहीं दे रहे हैं। हालांकि इसके लिए वह अपने यहां ऐसा कोई बोर्ड नहीं लगा रहे। वह होटल फुल बताकर कश्मीरियों को कमरा देने से बच रहे हैं। कई होटल मालिक खुले तौर पर तो नहीं लेकिन कश्मीरियों को कमरा न देने को ठीक कदम बता रहे हैं। उनका तर्क है कि होटल में रुकने वाले किसी व्यक्ति का सामान चेक नहीं किया जाता। पुलवामा के आतंकी हमले में स्थानीय लोगों ने ही आतंकियों को सहयोग किया होगा। ऐसा तो नहीं कि कई कश्मीरी यहां घूमने के नाम पर रुकने आ जाएं इसलिए उनसे बचा जा रहा है।