1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. शराब, कोकेन, हिरोइन कैस करती है बॉडी मे असर, हो जाती है ये गंभीर समस्या

शराब, कोकेन, हिरोइन कैस करती है बॉडी मे असर, हो जाती है ये गंभीर समस्या

How Alcohol Cocaine Heroin Affect The Body Becomes A Serious Problem

By आराधना शर्मा 
Updated Date

नई दिल्ली: नशा करना आज के यूथ के लिए एक फैशन बनता जा रहा है। दरअसल, नशे को अपनी मर्जी से शौकिया तौर पर लेना प्रारंभ करते हैं पर जल्द ही नशा इन्हें अपने गिरफ्त में ले लेता है और उसके बिना इनका जीना मुश्किल हो जाता है। इस अवस्था को नशे का लत लग जाना कहते हैं।

पढ़ें :- हरी मिर्च खाने के गज़ब फायदे, वजन कम करने के साथ साथ दूर करता है गंभीर समस्या...

आपको बता दें, नशे की लत को अगर हम वैज्ञानिक दृष्टि से समझने की कोशिश करेंगे तो पहले हमे यह जानना होगा की आखिर कोई भी नशा हमारे दिमाग या हमारे शरीर पर किस प्रकार असर करता है। नशा करने पर हमारे मस्तिष्क के वे हिस्से सक्रीय हो जाते जो की हमे खुशी देन के लिए जिम्मेदार होते हैं।

हमें खुशी का अनुभव मस्तिष्क के इन्ही हिस्सों के सक्रीयता के कारण होता है जैसे कुछ स्वादिष्ट खाने पर या अपने किसी प्रियजन के मिलने पर। इसके पीछे डोपामीन नाम के एक हॉर्मोन का हाथ होता। जो नशे का आदी होता है उसके शरीर पर अलग-अलग तरीके से काम करता है ये अलग अलग नशा…

शराब

शराब का शरीर पर कई तरह का असर पड़ता है। यह व्यक्ति का लिवर और किडनी को क्षति तो पहुंचाता ही है दिमाग पर भी इसका बेहद बुरा असर पड़ता है। शराब दिमाग में डोपामीन की मात्रा को 40 से 360 फीसदी तक बढ़ा दैता है। एकबार शराब चखने वाले 22 प्रतिशत लोग शराब के लत के शिकार हो जाते हैं।

पढ़ें :- साइनस जैसी गंभीर समस्या को कहना चाहतें हैं अलविदा, अपनाएं ये गजब घरेलू नुस्खे

 निकोटीन

इस नशीले द्रव्य को लोग मुख्य रुप से तंबाकू के जरिए लेते हैं। चाहे वह सिगरेट-बीडी हो या गुटखा-खैनी, सब में निकोटीन की भारी मात्रा होती है। यहां तक की चाय में भी नीकोटीन पाया जाता है। निकोटीन की लत बड़ी आसानी से लग जाती है। सिगरेट पीने पर धुंएं के जरिए निकोटीन फेफड़ों के जरीए दिमाग तक पहुंचता है। सिगरेट अजमाने वाले दो तिहाई लोगों को अंतत: सिगरेट की लत लग जाती है।

 कोकेन

कोकेन मनुष्य के मस्तिष्क में मौजूद न्यूरॉन के कार्य में बाधा डालता है। न्यूरॉन वे तंतु होते हैं जो दिमाग से संदेश को शरीर के किसी दूसरे हिस्से में पहुंचाने के लिए जिम्मेवार रहते हैं। कोकेन दिमाग में डोपामीन के स्तर को 3 गुणा बढ़ा देता है। क्रिस्टल कोकेन का पाउडर लेने वाले ज्यादा असानी से लती बन जाते हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...