कैसे कोरिया चली गई अयोध्या की राजकुमारी, सच्चाई उड़ा देगी होश

ayodhya ki rajkumari

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली द्वारा ‘भगवान राम का जन्म नेपाल में हुआ’ का विवादित बयान चर्चा में हैं। जिसके चलते अब कई तरह की स्टोरी सामने आने लगी है। आज हम अयोध्या की ऐसी महारानी की बात आपको बताने जा रहें हैं जिसके बारे में शायद ही आप जानते हों।

How Princess Of Ayodhya Went To Korea :

आपको बता दें, अयोध्या की एक ऐसी राजकुमारी भी थी जिसकी शादी कोरिया के राजा के साथ हुई थी। हालांकि, आपको यह बात नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के बयान की तरह ही थोड़ी अजीब लग रही होगी, लेकिन यह बिल्कुल सच है। दक्षिण कोरिया के लोग भी इस बात को मानते हैं और अक्सर अयोध्या आते रहते हैं।

राजकुमारी रीरत्ना नाम जानी जाती थी

इस महारानी का नाम हियो ह्वांग-ओक था, जो प्राचीन कोरियाई राज्य कारक के संस्थापक राजा किम सू-रो की भारतीय पत्नी थीं। अयोध्या में सरयू नदी के किनारे कोरिया की उस महारानी का स्मारक भी है, जो कभी यहां की राजकुमारी थीं। आपको बता दें, अयोध्या में इस राजकुमारी को रीरत्ना के नाम से भी जाना जाता है।

कोरिया के इतिहास के मुताबिक, महारानी हियो ह्वांग-ओक यानी राजकुमारी सुरीरत्ना भारत से दक्षिण कोरिया के ग्योंगसांग प्रांत के किमहये शहर गई थीं और वहीं की होकर रह गईं।

इस गोत्र के तकरीबन 60 लाख

कहा जाता है कि महारानी हियो ह्वांग-ओक और राजा किम सू-रो के कुल 12 बच्चे थे। आज कोरिया में कारक गोत्र के तकरीबन 60 लाख लोग खुद को राजा किम सू-रो और अयोध्या की राजकुमारी के वंश का बताते हैं। किमहये शहर में महारानी हियो ह्वांग-ओक की एक बड़ी प्रतिमा भी है।

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली द्वारा 'भगवान राम का जन्म नेपाल में हुआ' का विवादित बयान चर्चा में हैं। जिसके चलते अब कई तरह की स्टोरी सामने आने लगी है। आज हम अयोध्या की ऐसी महारानी की बात आपको बताने जा रहें हैं जिसके बारे में शायद ही आप जानते हों। आपको बता दें, अयोध्या की एक ऐसी राजकुमारी भी थी जिसकी शादी कोरिया के राजा के साथ हुई थी। हालांकि, आपको यह बात नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के बयान की तरह ही थोड़ी अजीब लग रही होगी, लेकिन यह बिल्कुल सच है। दक्षिण कोरिया के लोग भी इस बात को मानते हैं और अक्सर अयोध्या आते रहते हैं।

राजकुमारी रीरत्ना नाम जानी जाती थी

इस महारानी का नाम हियो ह्वांग-ओक था, जो प्राचीन कोरियाई राज्य कारक के संस्थापक राजा किम सू-रो की भारतीय पत्नी थीं। अयोध्या में सरयू नदी के किनारे कोरिया की उस महारानी का स्मारक भी है, जो कभी यहां की राजकुमारी थीं। आपको बता दें, अयोध्या में इस राजकुमारी को रीरत्ना के नाम से भी जाना जाता है। कोरिया के इतिहास के मुताबिक, महारानी हियो ह्वांग-ओक यानी राजकुमारी सुरीरत्ना भारत से दक्षिण कोरिया के ग्योंगसांग प्रांत के किमहये शहर गई थीं और वहीं की होकर रह गईं।

इस गोत्र के तकरीबन 60 लाख

कहा जाता है कि महारानी हियो ह्वांग-ओक और राजा किम सू-रो के कुल 12 बच्चे थे। आज कोरिया में कारक गोत्र के तकरीबन 60 लाख लोग खुद को राजा किम सू-रो और अयोध्या की राजकुमारी के वंश का बताते हैं। किमहये शहर में महारानी हियो ह्वांग-ओक की एक बड़ी प्रतिमा भी है।