refer header नवाबों के शहर का नाम कैसे पड़ा लखनऊ, इतिहास जान दंग रह जाएंगे आ...
  1. हिन्दी समाचार
  2. ख़बरें जरा हटके
  3. नवाबों के शहर का नाम कैसे पड़ा लखनऊ, इतिहास जान दंग रह जाएंगे आप

नवाबों के शहर का नाम कैसे पड़ा लखनऊ, इतिहास जान दंग रह जाएंगे आप

How The City Of Nawabs Got Its Name From Lucknow You Will Be Stunned By History

By आराधना शर्मा 
Updated Date

लखनऊ: भारत में कई तरह-तरह की जगह है जो की बेहद ही सुंदर है। वहीं, उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के बारे में तो आप जानते ही होंगे, जिसे ‘तहजीब का शहर’ या ‘नवाबों के शहर’ के नाम से भी जाना जाता है।

पढ़ें :- पढाई का ऐसा जुनून रोज बॉर्डर पार करके स्कूल जाते है बच्चे, साथ रखते हैं पासपोर्ट

हालांकि वर्ष 1850 में अवध के अंतिम नवाब वाजिद अली शाह ने ब्रिटिश अधीनता स्वीकार कर ली, जिसके बाद लखनऊ के नवाबों का शासन हमेशा-हमेशा के लिए समाप्त हो गया।

हालांकि, लखनऊ उस क्षेत्र में स्थित है, जिसे एतिहासिक रूप से अवध क्षेत्र के नाम से जाना जाता था। क्या आप जानते हैं कि नवाबों के इस शहर का नाम लखनऊ कैसे पड़ा था। इसके पीछे कई कहानियां प्रचलित हैं, जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं जो की रोचक है।

ऐसे पड़ा लखनऊ नाम

बता दें की पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक, अयोध्या के राजा भगवान श्रीराम ने अपने भाई लक्ष्मण को यह क्षेत्र सौंप दिया था। लक्ष्मण ने गोमती नगर के तट पर एक नगर बसाया, जिसे लक्ष्मणावती, लक्ष्मणपुर या लखनपुर के नाम से जाना गया। यही नाम बाद में बदल कर लखनऊ हो गया। नगर के पुराने भाग में एक ऊंचा टीला मौजूद है, जिसे आज भी ‘लक्ष्मण टीला’ कहा जाता है।

पढ़ें :- कुछ ऐसे बैग के अंदर गिरि एक्ट्रेस, सूटकेस हुआ बंद और फिर... देखें video

लखनऊ के नामकरण को लेकर एक और कहानी खूब प्रचलित है। कहते हैं कि इस शहर का नाम महाराजा लाखन भर, जो कि ‘लखन किले’ के मुख्य कलाकार थे, उनके नाम पर रखा गया था। अब इसमें कितनी सच्चाई है, ये तो कहने-सुनने वाले लोग ही जानें।

दरअसल, लखनऊ अपनी विरासत में मिली संस्कृति को आधुनिक जीवनशैली के संग बड़ी सुंदरता के साथ आज भी संजोये हुए है। यहां के समाज में नवाबों के वक्त से ही ‘पहले आप’ वाली शैली समायी हुई है। हालांकि वक्त के साथ अब बहुत कुछ बदल चुका है, लेकिन यहां की एक तिहाई जनसंख्या इस तहजीब को आज भी संभाले हुए  राखी है।

इसके अलावा लखनवी पान तो यहां की संस्कृति का एक अभिन्न अंग है।  इसके बिना तो लखनऊ अधूरा सा लगता है। लखनऊ में एक घंटाघर है, जिसे भारत का सबसे ऊंचा घंटाघर माना जाता है। इसके अलावा यहां 19वीं शताब्दी में बनी एक पिक्चर गैलरी भी है. यहां लखनऊ के लगभग सभी नवाबों की तस्वीरें मौजूद हैं।

पढ़ें :- शख्स कर रहा था नाले की सफाई, मिला कुछ ऐसा देख आपके भी उड़ जाएंगे होश

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...