1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. Kanwar Yatra 2020: कोरोना के चलते नहीं ले जा रहे कांवड़ तो ऐसे करें भगवान शिव का जलाभिषेक

Kanwar Yatra 2020: कोरोना के चलते नहीं ले जा रहे कांवड़ तो ऐसे करें भगवान शिव का जलाभिषेक

By आस्था सिंह 
Updated Date

लखनऊ। हिन्दू धर्म में श्रावण मास का बेहद खास महत्त्व होता है इसी माह से ही व्रत और पर्वों की शुरुआत हो जाती है। इस बार सावन माह की शुरुआत 6 जुलाई से होने वाली है लेकिन इस बार कोरोना वायरस के चलते लोग कांवड़ यात्रा नहीं ले जा सकेंगे। हर साल सावन के महीने में लाखों की तादाद में कांवड़िये सुदूर स्थानों से आकर गंगा जल से भरी कांवड़ लेकर पदयात्रा करके अपने घर वापस लौटते हैं। सावन माह की चतुर्दशी के दिन उस गंगा जल से अपने निवास के आसपास शिव मंदिरों में भगवान शिव का जलाभिषेक किया जाता है।

बता दें कि हर वर्ष आयोजित होने वाले इन मेलों और कांवड़ यात्रा पर भी कोरोना का ग्रहण लग गया है। दरअसल, इस वर्ष कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए कांवड़ यात्रा पर रोक लगा दी गई गई है। राज्य सरकारों का कहना है कि इस बार कोई भी शिव भक्त गंगाजल लेने के लिए कांवड़ यात्रा नहीं करेगा, इस मामले पर पंडित राकेश कुमार झा ने बताया कि कांवड़ यात्रा का मुख्य उद्देश्य गंगा या नर्मदा नदी से जल लेकर बाबा भोलेनाथ का जलाभिषेक करना होता है। इस यात्रा में शिव भक्त कांवड़ लेकर गंगा जल लेने के लिए गंगा के किनारे पहुंचते हैं। उसके बाद वापस आकर अपने इलाके में मौजूद शिव मंदिरों में भगवान शिव पर जल चढ़ाते हैं या उनका जलाभिषेक करते हैं।

उन्होंने कहा कि कोरोना की वजह से इस साल ये यात्रा रोक दी गई है और ऐसे में शिव भक्त घर में मौजूद गंगा जल से ही भगवान शिव का जलाभिषेक कर सकते हैं। कोरोना की वजह से घर में भी पूजा की जा सकती है और घर के आसपास मौजूद मंदिर में भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पूजा की जा सकती है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...