Jio Phone! सेटअप करने के लिए 7 ज़रूरी टिप्स और ट्रिक्स

io Phone के कारण एक बार फिर फीचर फोन में लोगों की रुचि बढ़ी है। लेकिन इस फोन में कई ऐसे फीचर हैं जो आपको स्मार्टफोन में मिलेंगे। अगर आपको जियो फोन मिल गया है तो अब तक आप इसके यूज़र इंटरफेस से बहुत हद तक रूबरू हो गए होंगे। लेकिन कई ऐसे फीचर हैं जिन्हें सीधे-सीधे एक्सेस नहीं किया जा सकता। इन तक पहुंचने के लिए आपको सेटिंग्स के कई विकल्पों में खोजबीन करनी होगी। हमने आपकी सुविधा के लिए जियो फोन से संबंधित कई टिप्स और ट्रिक्स की सूची तैयार की है ताकि हैंडसेट को इस्तेमाल करने के दौरान आपको किसी प्रकार की समस्या ना हो।

जीमेल कॉन्टेक्ट को जियो फोन में इंपोर्ट करने का तरीका
अपने नए जियो फोन को सेटअप करने के दौरान सबसे पहले आप अपने कॉन्टेक्ट को इंपोर्ट करना चाहेंगे। अगर आपके जियो सिम में पहले से कॉन्टेक्ट मौज़ूद हैं तो आप उन्हें फोन पर कॉपी कर सकते हैं। अगर आपके कॉन्टेक्ट गूगल या माइक्रोसॉफ्ट अकाउंट पर मौज़ूद हैं तो उन्हें जियो फोन पर कॉपी करना आसान नहीं होगा।

{ यह भी पढ़ें:- Reliance Jio प्लान की वैधता और बैलेंस जांचने का तरीका }

गूगल अकाउंट से जियो फोन पर कॉन्टेक्ट इंपोर्ट करने के लिए सबसे पहले कॉन्टेक्ट ऐप को खोलें। इसके बाद दायीं तरफ नज़र आ रहे सेटिंग्स विकल्प को चुनें। इसके बाद नीचे स्क्रॉल करके इंपोर्ट कॉन्टेक्ट्स तक पहुंचे। यहां पर जीमेल का विकल्प चुनें। इसके बाद आपसे जीमेल आईडी और पासवर्ड के बारे में पूछा जाएगा। आप ये ब्योरा सबसे पहले दें। इसके बाद आपको काई ओएस को एक्सेस की मंजूरी देनी होगी। इसके बाद आप जब भी कॉन्टेक्ट अकाउंट खोलेंगे गूगल कॉन्टेक्ट जियो फोन में दिखने लगेंगे। बता दें कि यहां कॉन्टेक्ट एक बार इंपोर्ट होता है। स्मार्टफोन की तरह आपके जीमेल एड्रेस बुक से बार-बार सिंक नहीं होता।

इसी तरह से आउटलुक कॉन्टेक्ट से भी कॉन्टेक्ट को इंपोर्ट किया जा सकता है। आपको इंपोर्ट कॉन्टेक्ट वाले विकल्प में आउटलुक को चुनना होगा। कॉन्टेक्ट पाने के लिए अपनी आउटलुक आईडी और पासवर्ड का इस्तेमाल करें।

{ यह भी पढ़ें:- Jio Phone और Airtel के 4जी 'स्मार्टफोन' में कौन है ज़्यादा फायदे का सौदा? }

इंटरफेस भाषा बदलने का तरीका
जियो फोन में 22 भाषाओं के लिए सपोर्ट मौज़ूद है। इनमें अंग्रेजी, हिंदी, मराठी और बंगाली जैसी अन्य भाषाएं शामिल हैं। इंटरफेस की भाषा अपनी पसंद का करने के लिए सेटिंग्स ऐप के अंदर पर पर्सनलाइज़ेशन टैब में जाएं। इसके बाद लैंगवेज विकल्प तक स्क्रॉल करें। इसके बाद ओके पर क्लिक करें। फिर अपनी पसंद की भाषा को चुन लें। आप जैसे ही नई भाषा को चुनेंगे, हैंडसेट का पूरा इंटरफेस उसी भाषा में तब्दील हो जाएगा।

कॉल फॉरवर्ड करने का तरीका
अगर आप अपने जियो फोन में कॉल फॉरवर्डिंग फीचर को इस्तेमाल में लाना चाहते हैं तो नेटवर्क एंड कनेक्टिविटी टैब में कॉल सेटिंग्स को खोलें। अब स्क्रॉल करके कॉल फॉरवर्डिंग तक पहुंचे। यहां पर अपनी पसंद के विकल्प को चुनें। इस फीचर को ऑन करने के लिए आपको एक दूसरा नंबर भी देना होगा।

स्क्रीन लॉक सेटअप करें
अगर आप चाहते हैं कि कोई दूसरा शख्स मर्जी बिना आपका जियो फोन ना एक्सेस कर पाए तो आप पासकोड लॉक लगा सकते हैं। इसके लिए सेटिंग्स ऐप को खोलें। अब Privacy & Security तक जाएं और स्क्रीन लॉक को चुनें। यहां पर स्क्रीन लॉक को एक्टिव करने का विकल्प चुनें। इसके बाद हैंडसेट को आपको नया स्क्रीन लॉक चुनने के लिए कहेगा। इसके बाद आप चार आंकड़े वाला पासकोड चुन लें जिसे आप याद रख सकते हैं। हो गया। आपने पासकोड सेट कर दिया है। अब फोन को अनलॉक करने के लिए इसी पासवर्ड को इस्तेमाल में लाना होगा।

{ यह भी पढ़ें:- एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया को Reliance Jio ने फिर पीछे छोड़ा: ट्राई }

यूएसबी के ज़रिए Jio Phone का इस्तेमाल फाइल स्टोरेज के लिए
जब आप जियो फोन पाएंगे तो आप इसमें किसी स्टोरेज डिवाइस से फाइल ट्रांसफर नहीं कर पाएंगे। क्योंकि यह फीचर डिफॉल्ट में एक्टिव नहीं होता। इसे इनेबल करने के लिए सेटिंग्स में स्टोरेज टैब को चुनें। इसके बाद यूएसबी स्टोरेज विकल्प को चुनें। यहां इनेबल विकल्प को चुनें। इसके बाद आप यूएसबी केबल के ज़रिए फाइल ट्रांसफर कर पाएंगे। हालांकि, अगर आपने फोन को लॉक करने के लिए पासकोड सेट कर दिया है तो आपको फोन पर फाइल ट्रांसफर करने के लिए उसे अनलॉक करना होगा।

वेबसाइट को खुद को ट्रैक करने से रोकें
जियो फोन का डिफॉल्ट वेब ब्राउज़र किसी अन्य ब्राउज़र की तरह आपकी ऑनलाइनल एक्टिविटी को रिकॉर्ड करता है। आधिकारिक ऐप में आपको अपनी हिस्ट्री मिटाने का विकल्प नहीं मिलेगा। इसके लिए भी आपको सेटिंग्स ऐप में जाना होगा। इसके बाद Privacy & Security टैब तक स्क्रॉल करें। यहां ब्राउज़िंग प्राइवेसी विकल्प को चुनें। यहां पर आप ब्राउज़िंग हिस्ट्री और स्टोर किए गए डेटा को हटा सकते है। यहीं पर डू नॉट ट्रैक विकल्प से आप वेबसाइट या ऐप पर ट्रैक करने पर रोक लगा सकते हैं।

सॉफ्टवेयर अपडेट जांचने का तरीका
जियो फोन एक ऐसा फीचर फोन है जो कई स्मार्ट फीचर के साथ आता है। लेकिन ये सभी स्मार्ट फीचर अभी पूरी तरह से काम नहीं करते, जैसे कि डिजिटल पेमेंट। हैंडसेट में हार्डवेयर तो मौज़ूद है लेकिन सॉफ्टवेयर फीचर को ओटीए अपडेट के ज़रिए दिया जाएगा। अगर आप जांचना चाहते हैं कि आपके फोन को सॉफ्टवेयर अपडेट मिला है या नहीं। आपको सेटिंग्स ऐप में जाना होगा। यहां डिवाइस टैब को चुनें। इसके बाद डिवाइस इंफॉर्मेशन को चुनें। अब LYF Software Update तक स्क्रॉल डाउन करें। यहां पर आप ओटीए अपडेट के बारे में जानकारी हासिल कर सकते हैं।

{ यह भी पढ़ें:- Jio Phone बुकिंग स्टेटस जांचने का तरीका }

Loading...