ऐसे चाणक्य नीति से परखें सामने वाले व्यक्ति का स्वभाव

ऐसे चाणक्य नीति से परखें सामने वाले व्यक्ति का स्वभाव
ऐसे चाणक्य नीति से परखें सामने वाले व्यक्ति का स्वभाव
लखनऊ। किसी भी व्यक्ति को हम एक बार में नहीं समझ पाते हैं। किसी का स्वभाव तभी मालूम होता है, जब हम उससे लगातार मिलते रहते हैं। स्त्री हो या पुरुष किसी भी व्यक्ति से पहली बार मिलते समय अगर कुछ बातों को ध्यान रखा जाए तो इंसान के स्वभाव को समझा जा सकता है। आज हम आपको आचार्य चाणक्य ने कुछ ऐसी बातें बताएंगे जिनसे इंसान के स्वभाव की परख हो सकती है। चाणक्य कहते हैं कि जिस प्रकार…

लखनऊ। किसी भी व्यक्ति को हम एक बार में नहीं समझ पाते हैं। किसी का स्वभाव तभी मालूम होता है, जब हम उससे लगातार मिलते रहते हैं। स्त्री हो या पुरुष किसी भी व्यक्ति से पहली बार मिलते समय अगर कुछ बातों को ध्यान रखा जाए तो इंसान के स्वभाव को समझा जा सकता है। आज हम आपको आचार्य चाणक्य ने कुछ ऐसी बातें बताएंगे जिनसे इंसान के स्वभाव की परख हो सकती है।

  • चाणक्य कहते हैं कि जिस प्रकार सोने को रगड़ने, काटने, तपाने और पीटने से उसकी परख होती है ठीक इसी प्रकार इंसान की परख के लिए त्याग, विनम्रता, गुण और कर्मों को देखना चाहिए।
  • आचार्य चाणक्य कहते हैं कि सोने की शुद्धता जांचने की प्रक्रियां में चार चरण होते हैं।
  • पहले चरण में सोने को घीसकर देखा जाता है, फिर काटकर देखा जाता है, इसके बाद आग में तपाकर सोने की परख की जाती है। चौथे चरण में सोने को कूटकर उसकी शुद्धता मालूम की जाती है।
  • इस प्रक्रिया से गुजरने के बाद सोना शुद्ध है या नहीं, हमें मालूम हो जाता है।
  • ठीक इसी प्रकार इंसान की परख के लिए भी चार बातों का ध्यान रखना चाहिए। किसी भी व्यक्ति से मिलते समय ध्यान रखना चाहिए कि व्यक्ति बोलने में विनम्र है या नहीं। विनम्रता सज्जन व्यक्ति की पहचान है। ऐसे लोग हमेशा मान-सम्मान देने वाले और संस्कारवान होते हैं।
  • इसके अलावा व्यक्ति के गुण कैसे हैं, यह भी देखना चाहिए। बात करते समय किसी भी व्यक्ति के आचार-विचार और व्यवहार भी काफी कुछ बता देते हैं।
  • साथ ही, व्यक्ति की त्याग भावना भी देखनी चाहिए। अगर कोई व्यक्ति दूसरों के सुख के लिए खुद के सुख का त्याग करने वाला है तो वह अच्छा इंसान होता है।

{ यह भी पढ़ें:- ल्यूकोरिया की समस्या को दूर भगाने के लिए अपनाएं ये उपाय }

Loading...