होली के त्योहार पर मां लक्ष्मी को कैसे करें प्रसन्न? जाने उपाय

lakshmi puja
होली के त्योहार पर मां लक्ष्मी को कैसे करें प्रसन्न? जाने उपाय

लखनऊ। हिन्दू धर्म में होली और दिवाली सबसे प्रमुख त्योहार माने जाते हैं और दोनो ही त्योहार काफी हर्षोल्लास के साथ मनाये जाते हैं। इस बार होली पर काफी शुभ संयोग बन रहे हैं, जो सालों पहले बने थे। दिवाली की तरह होली पर भी मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के उपाय किए जाते हैं। इस बार होली पर गजकेसरी योग है। इसके अलावा ध्वज योग भी रहेगा जो सभी राशि के लोगों के बहुत ही शुभ होगा। इस योग के कारण होलिका दहन पर विभिन्न राशि के लोगों को कई तरह की परेशानियों से मुक्ति मिलेगी।

How To Please Mother Lakshmi On The Festival Of Holi Known Measures :

यही नहीं इस योग से रोगों का नाश होगा और धन संपत्ति में वृद्धि भी होगी। इस होलीपर ग्रहों का योग भी अच्छा फल देने वाला है। होली पर शुक्र मेष राशि, मंगल और केतु धनु, राहु मिथुन, सूर्य और बुध कुंभ और चंद्र सिंह राशि में रहेगा। ग्रहों के इन योगों में होली आने से यह शुभ फल देने वाली रहेगी। होलिका दहन के दिन भद्राकाल सुबह सूर्योदय से शुरू होकर दोपहर करीब डेढ़ बजे ही खत्म हो जाएगा। वहीं शाम को प्रदोष काल में शाम 6:30 से 7:20 तक होगा। पूर्णिमा तिथि रात 11 बजे तक रहेगी।

कहा जाता है कि होली पर पीली सरसों के जरिए मां लक्ष्मी को प्रसन्न किया जा सकता है। इसके लिए होलिका दहन पर पीली सरसों से हवन करें। ऐसा कहा जाता है कि इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और घर में धन संपत्ति और भंडारे भरती हैं। इसके लिए दोपहर में होलिका दहन की पूजा करने जाएं और शाम को होलिका दहन के समय सरसों के कुछ दानें समर्पित कर दें।ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।

 

लखनऊ। हिन्दू धर्म में होली और दिवाली सबसे प्रमुख त्योहार माने जाते हैं और दोनो ही त्योहार काफी हर्षोल्लास के साथ मनाये जाते हैं। इस बार होली पर काफी शुभ संयोग बन रहे हैं, जो सालों पहले बने थे। दिवाली की तरह होली पर भी मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के उपाय किए जाते हैं। इस बार होली पर गजकेसरी योग है। इसके अलावा ध्वज योग भी रहेगा जो सभी राशि के लोगों के बहुत ही शुभ होगा। इस योग के कारण होलिका दहन पर विभिन्न राशि के लोगों को कई तरह की परेशानियों से मुक्ति मिलेगी। यही नहीं इस योग से रोगों का नाश होगा और धन संपत्ति में वृद्धि भी होगी। इस होलीपर ग्रहों का योग भी अच्छा फल देने वाला है। होली पर शुक्र मेष राशि, मंगल और केतु धनु, राहु मिथुन, सूर्य और बुध कुंभ और चंद्र सिंह राशि में रहेगा। ग्रहों के इन योगों में होली आने से यह शुभ फल देने वाली रहेगी। होलिका दहन के दिन भद्राकाल सुबह सूर्योदय से शुरू होकर दोपहर करीब डेढ़ बजे ही खत्म हो जाएगा। वहीं शाम को प्रदोष काल में शाम 6:30 से 7:20 तक होगा। पूर्णिमा तिथि रात 11 बजे तक रहेगी। कहा जाता है कि होली पर पीली सरसों के जरिए मां लक्ष्मी को प्रसन्न किया जा सकता है। इसके लिए होलिका दहन पर पीली सरसों से हवन करें। ऐसा कहा जाता है कि इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और घर में धन संपत्ति और भंडारे भरती हैं। इसके लिए दोपहर में होलिका दहन की पूजा करने जाएं और शाम को होलिका दहन के समय सरसों के कुछ दानें समर्पित कर दें।ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।