आप भी हैं प्रेग्नेंट तो बारिश में ऐसे रखें खुद का ख्याल, नहीं तो हो सकती हैं कई बीमारियां की शिकार

बारिश के मौसम में वातावरण में अच्छी-खासी नमी रहती है। इस वजह से कई तरह के बीमारी फैलाने वाले बैक्टीरिया काफी एक्टिव हो जाते हैं, जिससे तमाम तरच्ह की बीमारियों का खतरा बना रहता है। ऐसे मौसम में उन महिलाओं को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत होती है जो मां बनने वाली होती हैं। प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं में कई तरह के हार्मोनिक परिवर्तन होते रहते हैं। इस वजह से उन्हें कोई भी चीज अच्छी नहीं लगती है। ऐसे मौसम में मां और बच्चे दोनों की अच्छी सेहत के लिए कुछ सावधानियां बरतने की जरूरत है। आज हम कुछ ऐसे ही टिप्स पर चर्चा करेंगे जिसे अपनाकर प्रेग्नेंसी के दौरान बीमारियों से बचा जा सकता है।

बारिश के मौसम में पसीने और गीलेपन से बचने के लिए आप बड़े साइज के सूती कपड़े पहन सकती हैं। इसके अलावा बारिश की फिसलन भरी जमीन पर चलने के लिए रबर के सोल वाले जूते का इस्तेमाल न करें। इससे फिसलने का खतरा बना रहता है। मानसून के मौसम में सड़कों के किनारे बिकने वाले खाने से परहेज करें। यह आपके होने वाले बच्चे की सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है। जर्म्स और बैक्टीरिया से शरीर की सुरक्षा के लिए आप नीम-जल से नहा सकती हैं। इसके लिए आपको नीम की पत्तियों को पानी में उबालना है और फिर पानी को छानकर अलग कर लेना है। इस पानी से स्नान करने पर आप कई तरह की बैक्टिरिया जनित रोगों से अपना बचाव कर सकती हैं।

बरसात के मौसम में कच्चे फलों के सेवन से दूरी बनाकर रखें तो ज्यादा बेहतर है। खासकर वह फल जिनमें जल की मात्रा कुछ ज्यादा होती है। ऐसे फलों में नमी अधिक होने के कारण उनमें बैक्टीरिया के पनपने का खतरा ज्यादा बना रहता है। मानसून में शरीर से भारी मात्रा में टॉक्सिन और नमी बाहर जाती रहती है। ऐसे में शरीर में इनकी कमी की भरपाई के लिए खूब पानी पिएं। पानी की स्वच्छता को सुनिश्चित करने के लिए आप उसे उबालकर और फिर ठंडा करके पी सकती हैं।