सूर्य के सामने खड़े होकर करें इन 21 नामों का उच्चारण, मनोकामनाएँ होंगी पूरी

सूर्य देव , सूर्य के 12 नाम
सूर्य के सामने खड़े होकर करें इन 12 नामों का उच्चारण, मनोकामनाएँ होंगी पूरी

लखनऊ। सूर्य देव ही एकमात्र ऐसे देवता है जो प्रत्यक्ष रूप से दिखाई देते है। सूर्य देव की आराधना बेहद फलदायी मानी जाती है। सूर्य को ग्रहों का राजा भी माना जाता है और सूर्य पंच देवों में से एक है। इसी वजह से इनकी पूजा से कुंडली के सभी दोष भी दूर हो सकते हैं और परेशानियों से छुटकारा भी मिल सकता है। सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए रोजाना सुबह इनके 21 नामों का जाप करें। इससे सूर्यदेव आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं।

How To Worship Lord Sun :

रोज बोलें सूर्य के ये 21 नाम

विकर्तन
विवस्वान
मार्तण्ड
भास्कर
रवि
लोकप्रकाशक
श्रीमान
लोकचक्षु
गृहेश्वर
लोकसाक्षी
त्रिलोकेश
कर्ता
हर्ता
तमिस्त्रहा
तपन
तापन
शुचि
सप्ताश्ववाहन
गभस्तिहस्त
ब्रह्मा
सर्वदेवनमस्कृत।

ऐसे जपें सूर्य के ये 21 नाम
रोज सुबह जल्दी उठें और स्नान के बाद साफ वस्त्र धारण करें। इसके बाद सूर्यदेव को तांबे के लोटे से जल चढ़ाएं और सूर्य के इन 21 नामों का जाप करें। नाम जाप के बाद अपनी परेशानियां दूर करने की प्रार्थना सूर्य से करें।

मान-सम्मान का कारक गृह भी होता है सूर्य
ज्योतिष के अनुसार सूर्य को मान-सम्मान का कारक ग्रह माना जाता है। जिन लोगों की कुंडली में सूर्य अशुभ स्थिति में होता है, उन्हें घर-परिवार और समाज में मान-सम्मान नहीं मिल पाता है। ऐसी स्थिति में रोजाना सूर्य को जल चढ़ाना चाहिए।

लखनऊ। सूर्य देव ही एकमात्र ऐसे देवता है जो प्रत्यक्ष रूप से दिखाई देते है। सूर्य देव की आराधना बेहद फलदायी मानी जाती है। सूर्य को ग्रहों का राजा भी माना जाता है और सूर्य पंच देवों में से एक है। इसी वजह से इनकी पूजा से कुंडली के सभी दोष भी दूर हो सकते हैं और परेशानियों से छुटकारा भी मिल सकता है। सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए रोजाना सुबह इनके 21 नामों का जाप करें। इससे सूर्यदेव आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं।रोज बोलें सूर्य के ये 21 नामविकर्तन विवस्वान मार्तण्ड भास्कर रवि लोकप्रकाशक श्रीमान लोकचक्षु गृहेश्वर लोकसाक्षी त्रिलोकेश कर्ता हर्ता तमिस्त्रहा तपन तापन शुचि सप्ताश्ववाहन गभस्तिहस्त ब्रह्मा सर्वदेवनमस्कृत।ऐसे जपें सूर्य के ये 21 नाम रोज सुबह जल्दी उठें और स्नान के बाद साफ वस्त्र धारण करें। इसके बाद सूर्यदेव को तांबे के लोटे से जल चढ़ाएं और सूर्य के इन 21 नामों का जाप करें। नाम जाप के बाद अपनी परेशानियां दूर करने की प्रार्थना सूर्य से करें।मान-सम्मान का कारक गृह भी होता है सूर्य ज्योतिष के अनुसार सूर्य को मान-सम्मान का कारक ग्रह माना जाता है। जिन लोगों की कुंडली में सूर्य अशुभ स्थिति में होता है, उन्हें घर-परिवार और समाज में मान-सम्मान नहीं मिल पाता है। ऐसी स्थिति में रोजाना सूर्य को जल चढ़ाना चाहिए।