नही रूक रही हैवानियत, हंथिनी के बाद अब गर्भवती गाय को खिलाया विस्फोटक पदार्थ

explosive material fed to cow
नही रूक रही हैवानियत, हंथिनी के बाद अब गाय को खिलाया विस्फोटक पदार्थ

बिलासपुर। हाल ही में केरल के मलप्पुरम में एक गर्भवती हथिनी की विस्फोटक खाने से हुई मौत का मामला ठंडा भी नही हुआ था कि अब हिमाचल प्रदेश से भी ऐसा ही हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. हिमाचल प्रदेश के जिला बिलासपुर के झंडुत्ता इलाके में गर्भवती गाय को किसी ने विस्फोटक का गोला बनाकर खिला दिया, जिससे गाय बुरी तरह से जख्मी हो गई है.

Humanity Is Not Stopping After Hanthini Now Explosive Material Fed To Cow :

गाय के मालिक ने घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर डाला है, जो तेजी से वायरल हो रहा है. पुलिस ने इस मामले के संबंध में केस दर्ज कर लिया है. पूरे मामले की गहनता से छानबीन की जा रही है. लोगों में इस घटना के बाद से काफी आक्रोश है.

इससे पहले मलप्पुरम में एक गर्भवती हथिनी को शरारती तत्वों ने अनानास में पटाखे भरकर खिला दिया था, जिससे उसका मुंह और जबड़ा बुरी तरह से जख्मी हो गया था. गंभीर रूप से जख्मी होने के बाद हथिनी वेलियार नदी पहुंची, जहां तीन दिन तक पानी में मुंह डाले खड़ी रही. बाद में उसकी और गर्भ में पल रहे बच्चे की मौत हो गई. इस घटना के बाद लोगों ने नाराजगी जताई थी. केरल सरकार पूरे मामले की जांच करा रही है. इस मामले पर खुद पर्यावरण मंत्रालय भी संज्ञान ले चुका है.

गर्भवती हथिनी की हत्या के मामले में एक शख्स को गिरफ्तार किया गया है. वन मंत्री के राजू ने कहा कि हत्या में कई लोग शामिल थे और सभी लोगों को गिरफ्तार किया जाएगा. पुलिस और वन विभाग जांच कर रहा है.

बिलासपुर। हाल ही में केरल के मलप्पुरम में एक गर्भवती हथिनी की विस्फोटक खाने से हुई मौत का मामला ठंडा भी नही हुआ था कि अब हिमाचल प्रदेश से भी ऐसा ही हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. हिमाचल प्रदेश के जिला बिलासपुर के झंडुत्ता इलाके में गर्भवती गाय को किसी ने विस्फोटक का गोला बनाकर खिला दिया, जिससे गाय बुरी तरह से जख्मी हो गई है. गाय के मालिक ने घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर डाला है, जो तेजी से वायरल हो रहा है. पुलिस ने इस मामले के संबंध में केस दर्ज कर लिया है. पूरे मामले की गहनता से छानबीन की जा रही है. लोगों में इस घटना के बाद से काफी आक्रोश है. इससे पहले मलप्पुरम में एक गर्भवती हथिनी को शरारती तत्वों ने अनानास में पटाखे भरकर खिला दिया था, जिससे उसका मुंह और जबड़ा बुरी तरह से जख्मी हो गया था. गंभीर रूप से जख्मी होने के बाद हथिनी वेलियार नदी पहुंची, जहां तीन दिन तक पानी में मुंह डाले खड़ी रही. बाद में उसकी और गर्भ में पल रहे बच्चे की मौत हो गई. इस घटना के बाद लोगों ने नाराजगी जताई थी. केरल सरकार पूरे मामले की जांच करा रही है. इस मामले पर खुद पर्यावरण मंत्रालय भी संज्ञान ले चुका है. गर्भवती हथिनी की हत्या के मामले में एक शख्स को गिरफ्तार किया गया है. वन मंत्री के राजू ने कहा कि हत्या में कई लोग शामिल थे और सभी लोगों को गिरफ्तार किया जाएगा. पुलिस और वन विभाग जांच कर रहा है.