दिमाग को दुश्मन बता कर इस न्यूज़ ऐंकर ने किया सुसाइड

anchor,न्यूज़ ऐंकर ने किया सुसाइड ,सुसाइड
दिमाग को दुश्मन बता कर इस न्यूज़ ऐंकर ने किया सुसाइड

हैदराबाद। हैदराबाद के मूसापेट इलाके में एक टीवी न्यूज़ चैनल में बतौर ऐंकर काम करने वाली 36 वर्षीय महिला ने बिल्डिंग से कूदकर जान दे दी। मौके पर सुसाइड नोट भी मिला जिससे पता चला है कि डिप्रेशन से गुजर रही थी, इसी वजह से उन्होंने अपनी जिंदगी खत्म करने का फैसला लिया है। उन्होंने अपने इस नोट में लिखा है कि मेरी मौत के लिए किसी और को दोषी ना ठहराया जाए। राधिका ने नोट के अंत में लिखा है कि मेरा दिमाग ही मेरा दुश्मन है।

Hyderabad Anchor Commits Suicide :

कुक्कटपल्ली पुलिस स्टेशन के उपनिरीक्षक मजीद ने मीडिया को बताया कि V6 न्यूज़ चैनल की ऐंकर राधिका रेड्डी ने ऑफिस से घर लौटने के थोड़ी देर बाद ही आत्महत्या कर ली। पुलिस के अनुसार ऑफिस से घर लौटने के बाद राधिक अपने घर की टेरिस पर गईं और वहां से कूद गईं जिससे एंकर के सिर पर कई चोटें आईं और उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई। राधिका का छह महीने पहले ही तलाक हुआ था और उनका 14 साल का एक बेटा भी है, अपने नाना-नानी के साथ रहता है।

दिमाग ही था दुश्मन

जांच के दौरान पुलिस को एंकर के बैग से एक सुसाइड नोट मिला जिसमें पता चला कि वह डिप्रेशन का शिकार थीं। नोट में लिखा था कि ‘मेरी मौत के लिए किसी और को दोषी ना ठहराया जाए। राधिका ने नोट के अंत में लिखा है कि मेरा दिमाग ही मेरा दुश्मन है।’

हैदराबाद। हैदराबाद के मूसापेट इलाके में एक टीवी न्यूज़ चैनल में बतौर ऐंकर काम करने वाली 36 वर्षीय महिला ने बिल्डिंग से कूदकर जान दे दी। मौके पर सुसाइड नोट भी मिला जिससे पता चला है कि डिप्रेशन से गुजर रही थी, इसी वजह से उन्होंने अपनी जिंदगी खत्म करने का फैसला लिया है। उन्होंने अपने इस नोट में लिखा है कि मेरी मौत के लिए किसी और को दोषी ना ठहराया जाए। राधिका ने नोट के अंत में लिखा है कि मेरा दिमाग ही मेरा दुश्मन है।कुक्कटपल्ली पुलिस स्टेशन के उपनिरीक्षक मजीद ने मीडिया को बताया कि V6 न्यूज़ चैनल की ऐंकर राधिका रेड्डी ने ऑफिस से घर लौटने के थोड़ी देर बाद ही आत्महत्या कर ली। पुलिस के अनुसार ऑफिस से घर लौटने के बाद राधिक अपने घर की टेरिस पर गईं और वहां से कूद गईं जिससे एंकर के सिर पर कई चोटें आईं और उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई। राधिका का छह महीने पहले ही तलाक हुआ था और उनका 14 साल का एक बेटा भी है, अपने नाना-नानी के साथ रहता है।दिमाग ही था दुश्मनजांच के दौरान पुलिस को एंकर के बैग से एक सुसाइड नोट मिला जिसमें पता चला कि वह डिप्रेशन का शिकार थीं। नोट में लिखा था कि 'मेरी मौत के लिए किसी और को दोषी ना ठहराया जाए। राधिका ने नोट के अंत में लिखा है कि मेरा दिमाग ही मेरा दुश्मन है।'