हैदराबाद एनकाउंटर : तेलंगाना सरकार ने गठित की SIT, सुप्रीम कोर्ट मामले की सुनवाई को तैयार

sc
हैदराबाद एनकाउंटर : तेलंगाना सरकार ने गठित की एसआईटी, सुप्रीम कोर्ट मामले की सुनवाई को तैयार

नई दिल्ली। हैदराबाद में महिला चिकित्सक के साथ दरिंदगी करने वाले आरोपियों को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया था। एनकाउंटर के बाद कई सवाल भी उठे थे और मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया था। वहीं, अब सुप्रीम कोर्ट भी इस मामले की सुनवाई को तैयार हो गया है। इसके साथ ही तेलंगाना सरकार ने एसआईटी गठित कर दी है।

Hyderabad Encounter Telangana Government Constituted Sit Supreme Court Ready To Hear Case :

एसआईटी का नेतृत्व राचकोंडा के पुलिस आयुक्त महेश एम भागवत करेंगे। बता दें कि, इस एनकाउंटर के बाद पूरे देश भर के लोगों ने पुलिस का समर्थन किया था और इस फैसले को सही बताया था। हालांकि कुछ लोगों ने इसको लेकर सवाल भी उठाए थे। वहीं आज साइबराबाद पुलिस के खिलाफ एक शिकायत दर्ज करवाई गई है जिसमें कहा गया है कि हैदराबाद एनकाउंटर फर्जी था।

बता दें कि शुक्रवार सुबह हैदराबाद के एनएच 44 पर पुलिस ने जांच के दौरान क्राइम सीन रीकंस्ट्रक्ट करने के लिए आरोपी को अपराध स्थल पर लाई थी। यहां पर आरोपियों ने पुलिसकर्मियों से हथियार छीन लिए और पुलिस पर गोलीबारी शुरू कर दी। इस पर पुलिस ने उन्हें आत्मसमर्पण के लिए कहा लेकिन वह पुलिस पर फायरिंग करते रहे। इस दौरान पुलिस की जवाबी कार्रवाई में चारो आरोपी मार गिराये गए। मुठभेड़ के दौरान पुलिस के दो जवान घायल हो गए। उन्हें स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया।

नई दिल्ली। हैदराबाद में महिला चिकित्सक के साथ दरिंदगी करने वाले आरोपियों को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया था। एनकाउंटर के बाद कई सवाल भी उठे थे और मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया था। वहीं, अब सुप्रीम कोर्ट भी इस मामले की सुनवाई को तैयार हो गया है। इसके साथ ही तेलंगाना सरकार ने एसआईटी गठित कर दी है। एसआईटी का नेतृत्व राचकोंडा के पुलिस आयुक्त महेश एम भागवत करेंगे। बता दें कि, इस एनकाउंटर के बाद पूरे देश भर के लोगों ने पुलिस का समर्थन किया था और इस फैसले को सही बताया था। हालांकि कुछ लोगों ने इसको लेकर सवाल भी उठाए थे। वहीं आज साइबराबाद पुलिस के खिलाफ एक शिकायत दर्ज करवाई गई है जिसमें कहा गया है कि हैदराबाद एनकाउंटर फर्जी था। बता दें कि शुक्रवार सुबह हैदराबाद के एनएच 44 पर पुलिस ने जांच के दौरान क्राइम सीन रीकंस्ट्रक्ट करने के लिए आरोपी को अपराध स्थल पर लाई थी। यहां पर आरोपियों ने पुलिसकर्मियों से हथियार छीन लिए और पुलिस पर गोलीबारी शुरू कर दी। इस पर पुलिस ने उन्हें आत्मसमर्पण के लिए कहा लेकिन वह पुलिस पर फायरिंग करते रहे। इस दौरान पुलिस की जवाबी कार्रवाई में चारो आरोपी मार गिराये गए। मुठभेड़ के दौरान पुलिस के दो जवान घायल हो गए। उन्हें स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया।