1. हिन्दी समाचार
  2. हैदराबाद दरिंदगी: दिल्ली पुलिस ने स्वाति मालीवाल को अनशन पर बैठने से रोका, PM को लिखी चिट्ठी

हैदराबाद दरिंदगी: दिल्ली पुलिस ने स्वाति मालीवाल को अनशन पर बैठने से रोका, PM को लिखी चिट्ठी

Hyderabad Rape Delhi Police Prevented Swati Maliwal From Sitting On Hunger Strike Letter To Pm

नई दिल्ली। हैदराबाद की बेटी के साथ हुई हैवानियत के खिलाफ पूरे देश में आक्रोश की भावना है। उस बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए जब दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल आमरण अनशन पर बैठने के लिए जंतर मंतर पंहुची तो दिल्ली पुलिस ने उन्हे अनशन पर बैठने से रोक दिया। वहीं स्वाति मालीवाल का कहना है कि हर हाल में उनका अनशन जारी रहेगा और उन्होने पीएम को चिट्ठी भी लिखी है। उनका कहना है कि तब तक वो अनशन करती रहेंगी जब तक महिलाओं को सुरक्षा की गारंटी न मिल जाए। उन्होने मांग की है कि बलात्कारियों को हर हाल में 6 महीने में फांसी दी जाए।

पढ़ें :- इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले टेस्ट सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान, इनको मिली जगह

 

आपको बता दें कि 7 साल पहले हुए निर्भया कांड के बाद भी स्वाति मालीवाल निर्भया को इंसाफ दिलाने के लिए अनशन पर बैठी थीं। अब स्वाति मालीवाल हैदराबाद में हैवानियत की शिकार हुई बेटी के इंसाफ के लिए अनशन पर बैठी हैं। लेकिन आज जब वो जंतर मंतर पंहुची तो दिल्ली पुलिस ने उन्हें रोक दिया है। स्वाति मालीवाल ने ट्वीट करते हुए इस बात की जानकारी दी। उनका आरोप है, ‘पुलिस हमें जंतर मंतर पर बैठने नहीं दे रही। रातभर पुलिस ने पूरा जंतर-मंतर बैरिकेडिंग करके टेंट, माइक और टॉयलेट नहीं लगने दिया। साफ बोल रहे हैं कि अनशन नहीं करने देंगे। देश में एक महिला शांति से अनशन भी नहीं कर सकती? केंद्र सरकार को ऐसा भी क्या डर? क्या सच में लोकतंत्र है?.’


इसके बाद स्वाति मालीवाल ने एक और ट्वीट करते हुए कहा, ‘चाहे कुछ हो जाए, पुलिस और केंद्र कितनी भी कोशिश कर ले, मेरा आमरण अनशन हर हाल में जारी रहेगा। जब तक केंद्र पूरे देश के लिए ऐसा सिस्टम नहीं बनाती की रेपिस्ट को हर हाल में 6 महीने में फांसी हो, तब तक मैं नही उठूंगी। पहले राजघाट और फिर सीधे जंतर मंतर जा रही हूं. जय हिंद.’

 

यही नही स्वाति मालीवाल ने पीएम मोदी को एक पत्र भी लिखा है। मालीवाल ने पत्र ट्वीट करते हुए लिखा, ‘मैं आमरण अनशन करूंगी जब तक वो अपने वादे पूरा न करते। देश में पुलिस के संसाधन जवाबदेही बढाई जाए और फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाए जाएं। दिल्ली पुलिस को 66,000 पुलिसकर्मी तुरंत दिए जाएं और 45 फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट दिल्ली में स्थापित हो। दोषी को हर हाल में & तुरंत सज़ा दो.’

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...