IAF ने बालाकोट में बमवर्षा कर तबाह किए थे आतंकी ठिकाने, विडियो जारी

balacot
IAF ने बालाकोट में बमवर्षा कर तबाह किए थे आतंकी ठिकाने, विडियो जारी

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना ने बालाकोट एयरस्ट्राइक का वह वीडियो जारी कर दिया है, जिसमें भारत ने आतंकियों के ठिकानों को बमबारी से तबाह कर दिया था। पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमले के जवाब में भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट स्थित जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों को तबाह कर दिया था। शुक्रवार को भारतीय वायुसेना के नवनियुक्त चीफ राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने बालाकोट एयरस्ट्राइक का एक प्रमोशनल वीडियो जारी किया।

Iaf Destroyed The Terrorist Hideout By Bombing The Sky Video Released :

एयर चीफ मार्शल राकेश सिंह भदौरिया ने कहा है कि वायु सेना ने पिछले एक साल में कई महत्वपूर्ण मील के पत्थर हासिल किए हैं, जिसमें 26 फरवरी को बालाकोट एयर स्ट्राइक भी शामिल हैं, जब हमने बालाकोट में आतंकी शिविरों को सफलतापूर्वक निशाना बनाया था।

एयर चीफ मार्शल ने कहा कि 27 फरवरी को पाकिस्तान द्वारा किए गए हवाई हमले के बाद हुए लड़ाई में भारतीय वायु सेना ने एक मिग-21 खो दिया और पाकिस्तान ने एक एफ-16 खो दिया था। श्रीनगर में 27 फरवरी को एमआई-17 चॉपर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, जिस पर वायुसेना प्रमुख ने कहा कि कोर्ट ऑफ इंक्वायरी पूरी हो चुकी है और इस दुर्घटना में हमारी गलती थी क्योंकि हमारी मिसाइल ने हमारे ही हेलिकॉप्टर को निशाना बनाया था।

पाकिस्तान द्वारा भारतीय सीमा में हथियार छोड़ने के लिए ड्रोन का प्रयोग किए जा रहे हैं सवाल पर वायुसेना प्रमुख ने कहा कि छोटे ड्रोन एक नया खतरा हैं और इस मुद्दे से निपटने के लिए कुछ खरीद पहले से ही प्रक्रिया में हैं। यह क्षेत्र उल्लंघन का मुद्दा है और इस पहलू पर आवश्यक कार्रवाई शुरू कर दी गई है।

भारतीय वायुसेना द्वारा जारी इस वीडियो में देखा जा सकता है कि कैसे जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में शहीद 40 जवान की घटना ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था। इस घटना की जिम्मेदारी पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने ली थी। जिसके बाद 48 साल में पहली बार भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान से वायुक्षेत्र में घुसते हुए उसके खैबर पख्तूनख्वा स्थित बालाकोट में जैश के आतंकी शिविर को ध्वस्त कर दिया था।

90 सेकेंड में पूरा हुआ था मिशन

भारतीय वायु सेना (IAF) की तरफ से पाकिस्तान स्थित बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के आतंकी शिविर पर ‘मिशन’ को सिर्फ 90 सेकेंड के भीतर अंजाम दिया गया था और इस ऑपरेशन के लिए जिस तरह की गोपनियता रखी गई थी उसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसे अंजाम देने वाले पायलट के परिवार के सदस्यों को भी इस बारे में कुछ नहीं मालूम था। 26 फरवरी को 12 मिराज विमानों ने बालाकोट शहर में मौजूद जैश के आतंकी ठिकानों पर मिसाइल बरसाने के लिए उड़ानें भरी थीं। बालाकोट पाक के खैबर पख्तूनवा प्रांत में आता है।

राफेल और S-400 का इंतजार

एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने कहा कि राफेल और S-400 का इंतजार है। इनके आने के बाद एयरफोर्स की ताकत कई गुना बढ़ जाएगी। IAF चीफ ने 27 फरवरी को बडगाम में एमआई-17 चॉपर क्रैश की घटना का जिक्र करते हुए कहा, ‘कोर्ट ऑफ इन्क्वॉयरी पूरी हो चुकी है। हमारी ही मिसाइल से हमारा चॉपर क्रैश हुआ, यह हमारी ही गलती थी। हम दो अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। हम स्वीकार करते हैं कि यह हमारी बड़ी चूक थी और आश्वस्त करते हैं कि ऐसी गलती भविष्य में फिर से नहीं होगी।

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना ने बालाकोट एयरस्ट्राइक का वह वीडियो जारी कर दिया है, जिसमें भारत ने आतंकियों के ठिकानों को बमबारी से तबाह कर दिया था। पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमले के जवाब में भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट स्थित जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों को तबाह कर दिया था। शुक्रवार को भारतीय वायुसेना के नवनियुक्त चीफ राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने बालाकोट एयरस्ट्राइक का एक प्रमोशनल वीडियो जारी किया। एयर चीफ मार्शल राकेश सिंह भदौरिया ने कहा है कि वायु सेना ने पिछले एक साल में कई महत्वपूर्ण मील के पत्थर हासिल किए हैं, जिसमें 26 फरवरी को बालाकोट एयर स्ट्राइक भी शामिल हैं, जब हमने बालाकोट में आतंकी शिविरों को सफलतापूर्वक निशाना बनाया था। एयर चीफ मार्शल ने कहा कि 27 फरवरी को पाकिस्तान द्वारा किए गए हवाई हमले के बाद हुए लड़ाई में भारतीय वायु सेना ने एक मिग-21 खो दिया और पाकिस्तान ने एक एफ-16 खो दिया था। श्रीनगर में 27 फरवरी को एमआई-17 चॉपर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, जिस पर वायुसेना प्रमुख ने कहा कि कोर्ट ऑफ इंक्वायरी पूरी हो चुकी है और इस दुर्घटना में हमारी गलती थी क्योंकि हमारी मिसाइल ने हमारे ही हेलिकॉप्टर को निशाना बनाया था। पाकिस्तान द्वारा भारतीय सीमा में हथियार छोड़ने के लिए ड्रोन का प्रयोग किए जा रहे हैं सवाल पर वायुसेना प्रमुख ने कहा कि छोटे ड्रोन एक नया खतरा हैं और इस मुद्दे से निपटने के लिए कुछ खरीद पहले से ही प्रक्रिया में हैं। यह क्षेत्र उल्लंघन का मुद्दा है और इस पहलू पर आवश्यक कार्रवाई शुरू कर दी गई है। भारतीय वायुसेना द्वारा जारी इस वीडियो में देखा जा सकता है कि कैसे जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में शहीद 40 जवान की घटना ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था। इस घटना की जिम्मेदारी पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने ली थी। जिसके बाद 48 साल में पहली बार भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान से वायुक्षेत्र में घुसते हुए उसके खैबर पख्तूनख्वा स्थित बालाकोट में जैश के आतंकी शिविर को ध्वस्त कर दिया था।

90 सेकेंड में पूरा हुआ था मिशन

भारतीय वायु सेना (IAF) की तरफ से पाकिस्तान स्थित बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के आतंकी शिविर पर 'मिशन' को सिर्फ 90 सेकेंड के भीतर अंजाम दिया गया था और इस ऑपरेशन के लिए जिस तरह की गोपनियता रखी गई थी उसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसे अंजाम देने वाले पायलट के परिवार के सदस्यों को भी इस बारे में कुछ नहीं मालूम था। 26 फरवरी को 12 मिराज विमानों ने बालाकोट शहर में मौजूद जैश के आतंकी ठिकानों पर मिसाइल बरसाने के लिए उड़ानें भरी थीं। बालाकोट पाक के खैबर पख्तूनवा प्रांत में आता है।

राफेल और S-400 का इंतजार

एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने कहा कि राफेल और S-400 का इंतजार है। इनके आने के बाद एयरफोर्स की ताकत कई गुना बढ़ जाएगी। IAF चीफ ने 27 फरवरी को बडगाम में एमआई-17 चॉपर क्रैश की घटना का जिक्र करते हुए कहा, 'कोर्ट ऑफ इन्क्वॉयरी पूरी हो चुकी है। हमारी ही मिसाइल से हमारा चॉपर क्रैश हुआ, यह हमारी ही गलती थी। हम दो अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। हम स्वीकार करते हैं कि यह हमारी बड़ी चूक थी और आश्वस्त करते हैं कि ऐसी गलती भविष्य में फिर से नहीं होगी।