चीनी सैनिकों की दादागिरी का भारत ने दिया मुंहतोड़ जवाब, सीमा पर उतारा विशालकाय C-17 ग्लोबमास्टर

नई दिल्ली| चीनी सैनिकों ने अपनी दादागिरी दिखाते हुए बुधवार को एलएसी के करीब भारतीय इलाके में चल रहे नहर के काम को रुकवा दिया| जिसके बाद भारत ने भी आक्रामक रुख अपनाते हुए अपना विशालकाय सी-17 ग्लोबमास्टर विमान गुरुवार को चीन-भारत सीमा से महज 29 किलोमीटर दूर मेचुका एडवांस्ड लैंडिंग ग्राउंड पर उतार दिया|




भारतीय वायुसेना के लिए ग्लोबमास्टर की सफल लैंडिंग इसलिए भी खास है क्योंकि पिछले 2 दिनों से लद्दाख के डेमचोक इलाके में भारत और चीन के बीच टकराव चल रहा है| कहा जा रहा है कि भारतीय सेना ने अपनी ताकत दिखाने के लिए ऐसा किया है| मेचुका एडवांस लैंडिग ग्राउंड पर सी-17 ग्लोबमास्टर के उतरने से सीमा पर बेहद आसानी से सैनिकों की आवाजाही हो सकेगी| साथ ही सेना को रसद, राशन, हथियार और दूसरे उपकरण भी चीना सीमा पर भेजने में आसानी हो जाएगी|

जिस हवाई पट्टी मेचुका एडवांस लैंडिंग ग्राउंड यानि एएलजी पर ये लैंडिंग हुई वो जमीन से साढ़े छह हजार फीट की उंचाई पर है| इस एयर-स्ट्रीप की लंबाई मात्र 4200 फीट है| ऐसे में इतने बड़े एयरक्राफ्ट को इतने छोटे लैंडिंग ग्राउंड पर उतारना मायने रखता है| बता दें कि साल 2013 में सीमा पर सैनिकों और टैंकों एवं उपकरणों को जल्द से जल्द पहुंचाने की भारतीय वायुसेना की क्षमता को मजबूती देने के मकसद से इस विमान को वायुसेना के बेड़े में शामिल किया गया था| इस विमान में 80 टन भार धोने की क्षमता है| साथ ही यह150 सैनिकों को इधर से उधर ले जा सकता है|



Loading...