मोदी सरकार का बड़ा फैसला, बिना UPSC पास किए ऐसे बने IAS अफसर

नई दिल्ली। बिना यूपीएससी की सिविल सर्विस परीक्षा पास किए आप भी पूरा कर सकते हैं अपना आईएएस बनने का सपना। दरअसल, केंद्र की मोदी सरकार ने प्रशासनिक व्यवस्था में एंट्री को लेकर बड़ा बदलाव का फैसला किया है। जिसके तहत लैटरल एंट्री के जरिये अब यूपीएसई पास किए बिना भी योग्य उम्मीदवार सरकार में वरिष्ठ अधिकारी बन सकते हैं।

Ias Officer Without Upsc Modi Government Opens 10 Vacancies For Joint Secretary Level Posts :

‘टैलेंटेड और मोटिवेटेड’ भारतीयों की होगी भर्ती

मोदी सरकार को लैटरल एंट्री के तहत 10 ज्वॉइंट सेक्रेटरी के पोस्ट के लिए ‘टैलेंटेड और मोटिवेटेड’ भारतीयों की तलाश है। इन पदों पर नियुक्ति के लिए सरकार ने डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल एंड ट्रेनिंग (DOPT) के लिए विस्तार से गाइडलाइंस के साथ अधिसूचना जारी की है। DOPT की अधिसूचना के तहत राजस्व, वित्तीय सेवा, आर्थिक मामले, कृषि, किसान कल्याण, सड़क परिवहन और हाइवे, शिपिंग, पर्यावरण विभाग में ज्वॉइंट सेक्रेटरी के लिए आवेदन मांगे गए हैं।

न्यूनतम उम्र और योग्यता

इन पदों पर आवेदन के लिए न्यूनतम उम्र कम से कम 40 साल होनी चाहिए हालांकि अधिकतम उम्र की कोई सीमा नहीं है। 1 जुलाई 2018 के आधार पर उम्र का निर्धारण किया जाएगा। आवेदक का किसी प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन हुआ हो। किसी सरकारी या पब्लिक सेक्टर यूनिट या यूनिवर्सिटी के अलावा किसी प्राइवेट कंपनी में 15 साल काम का अनुभव रखने वाला भी इन पदों के लिए आवेदन कर सकता है।

नियुक्ति प्रक्रिया

ज्वॉइंट सेक्रेटरी के पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया के लिए कोई लिखित परीक्षा नहीं है। बता दें कि शॉर्टलिस्टेड कैंडिडेट्स का सिर्फ इंटरव्यू होगा। बता दें कि कैबिनेट सेक्रटरी के नेतृत्व में बनने वाली कमिटी सभी कैंडिडेट्स का इंटरव्यू लेगी।

आवेदन की लास्ट डेट

ज्वॉइंट सेक्रेटरी के पदों के लिए आवेदन करने की लास्ट डेट 30 जुलाई शाम 5 बजे तक है। अधिसूचना के मुताबिक, सभी ज्वॉइंट सेक्रेटरी का कार्यकाल 3 साल का होगा। अगर प्रदर्शन अच्छा हुआ, तो इसे बढ़ाकर 5 साल तक के लिए इनकी नियुक्ति की जा सकती है।

नई दिल्ली। बिना यूपीएससी की सिविल सर्विस परीक्षा पास किए आप भी पूरा कर सकते हैं अपना आईएएस बनने का सपना। दरअसल, केंद्र की मोदी सरकार ने प्रशासनिक व्यवस्था में एंट्री को लेकर बड़ा बदलाव का फैसला किया है। जिसके तहत लैटरल एंट्री के जरिये अब यूपीएसई पास किए बिना भी योग्य उम्मीदवार सरकार में वरिष्ठ अधिकारी बन सकते हैं। 'टैलेंटेड और मोटिवेटेड' भारतीयों की होगी भर्ती मोदी सरकार को लैटरल एंट्री के तहत 10 ज्वॉइंट सेक्रेटरी के पोस्ट के लिए 'टैलेंटेड और मोटिवेटेड' भारतीयों की तलाश है। इन पदों पर नियुक्ति के लिए सरकार ने डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल एंड ट्रेनिंग (DOPT) के लिए विस्तार से गाइडलाइंस के साथ अधिसूचना जारी की है। DOPT की अधिसूचना के तहत राजस्व, वित्तीय सेवा, आर्थिक मामले, कृषि, किसान कल्याण, सड़क परिवहन और हाइवे, शिपिंग, पर्यावरण विभाग में ज्वॉइंट सेक्रेटरी के लिए आवेदन मांगे गए हैं। न्यूनतम उम्र और योग्यता इन पदों पर आवेदन के लिए न्यूनतम उम्र कम से कम 40 साल होनी चाहिए हालांकि अधिकतम उम्र की कोई सीमा नहीं है। 1 जुलाई 2018 के आधार पर उम्र का निर्धारण किया जाएगा। आवेदक का किसी प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन हुआ हो। किसी सरकारी या पब्लिक सेक्टर यूनिट या यूनिवर्सिटी के अलावा किसी प्राइवेट कंपनी में 15 साल काम का अनुभव रखने वाला भी इन पदों के लिए आवेदन कर सकता है। नियुक्ति प्रक्रिया ज्वॉइंट सेक्रेटरी के पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया के लिए कोई लिखित परीक्षा नहीं है। बता दें कि शॉर्टलिस्टेड कैंडिडेट्स का सिर्फ इंटरव्यू होगा। बता दें कि कैबिनेट सेक्रटरी के नेतृत्व में बनने वाली कमिटी सभी कैंडिडेट्स का इंटरव्यू लेगी। आवेदन की लास्ट डेट ज्वॉइंट सेक्रेटरी के पदों के लिए आवेदन करने की लास्ट डेट 30 जुलाई शाम 5 बजे तक है। अधिसूचना के मुताबिक, सभी ज्वॉइंट सेक्रेटरी का कार्यकाल 3 साल का होगा। अगर प्रदर्शन अच्छा हुआ, तो इसे बढ़ाकर 5 साल तक के लिए इनकी नियुक्ति की जा सकती है।