1. हिन्दी समाचार
  2. कुलभूषण केस में ICJ ने PAK को फटकारा, कहा- वियना संधि का हुआ उल्लंघन

कुलभूषण केस में ICJ ने PAK को फटकारा, कहा- वियना संधि का हुआ उल्लंघन

By रवि तिवारी 
Updated Date

Icj Rebukes Pak In Kulbhushan Case Says Vienna Treaty Violation

नई दिल्ली। कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान को अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) की ओर से एक और झटका लगा है। आईसीजे के अध्यक्ष जज अब्दुलाक़ावी यूसुफ़ ने यूएन जनरल असेंबली को बताया कि कुलभूषण मामले में पाकिस्तान ने वियना कन्वेंशन केनियमों की अनदेखी की है। आईसीजे ने कहा कि इस गिरफ्तारी की सूचना भारतीय दूतावास को भी नहीं दी गई थी। यहां तक कि भारत के कई बार अपील के बाद भी कुलभूषण जाधव को काउंसुलर एक्सेस नहीं दिया गया।

पढ़ें :- Lamborghini ने इलेक्ट्रिक वाहनों की योजना किया ऐलान, पहली इलेक्ट्रिक सुपरकार को 2030 तक किया जाएगा पेश

भारत ने भी लगाया था यही आरोप

भारत लगातार यह भी कहता रहा है कि पाकिस्तान वियना संधि का उल्लंघन कर रहा है। इससे पहले जब इस मामले की सुनवाई के दौरान पाकिस्तान की ओर से जाधव की दी गई फांसी की सजा को समीक्षा करने की बात कही थी।

बुधवार को 193 सदस्यीय महासभा को आईसीजे की रिपोर्ट पेश करते हुए अब्दुलकावी यूसुफ ने जाधव के मामले में अदालत के फैसले के कई पहलुओं पर विस्तार से बताया। इससे पहले अब्दुलकावी यूसुफ ने मंगलवार को कहा कि वह ‘खुश’ हैं कि भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव (Kulbhushan Jadhav) के मामले में आए फैसले से भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव कम हुआ।

अब्दुलकावी यूसुफ ने क्या कहा था?

पढ़ें :- 612 अंक उछलकर सेंसेक्स 50200 के करीब और निफ्टी 15100 के पार हुआ बंद

पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने ‘जासूसी और आतंकवाद’ के आरोप में भारत के सेवानिवृत्त नौसेना अधिकारी (Retired Navy Officer) को 2017 में मौत की सजा सुनाई थी। यूसुफ की अध्यक्षता वाली पीठ ने जाधव की दोषसिद्धि और सजा की ‘‘प्रभावी समीक्षा और पुनर्विचार’’ करने का आदेश दिया था।

उन्होंने कहा, ‘हमारे पास एशियाई देशों के कई मामले हैं. मिसाल के तौर पर अदालत ने जुलाई में भारत एवं पाकिस्तान के बीच एक विवाद को लेकर एक निर्णय सुनाया, जो एक बेहद नाजुक और संवेदनशील मुद्दा था। यह एक व्यक्ति के जीवन से जुड़ा मामला था, जिसे पाकिस्तान में मृत्युदंड (Death Sentence) दिया गया था। इसे लेकर दोनों देशों में काफी तनाव (Tension) पैदा हो गया था। और हम इस बात को लेकर खुश हैं कि अदालत के फैसले ने उसके बाद से तनाव को घटाने ओर कम करने में योगदान दिया।’  

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X