1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. करना है भगवान शिव और हनुमान जी को प्रसन्न तो रखें भौम प्रदोष व्रत, ग्रह संबंधी दोष होंगे दूर

करना है भगवान शिव और हनुमान जी को प्रसन्न तो रखें भौम प्रदोष व्रत, ग्रह संबंधी दोष होंगे दूर

व्रत उपवास की श्रृंखला में प्रदोष व्रत को महत्वपूर्ण माना गया है। प्रत्येक माह के दोनों पक्षों में त्रयोदशी के दिन प्रदोष व्रत रखा जाता है। इस बार प्रदोष व्रत मंगलवार को पड़ रहा है इसलिए इसे भौम प्रदोष व्रत कहते हैं।

By अनूप कुमार 
Updated Date

लखनऊ : व्रत उपवास की श्रृंखला में प्रदोष व्रत को  महत्वपूर्ण माना गया है। प्रत्येक माह के दोनों पक्षों में त्रयोदशी के दिन प्रदोष व्रत रखा जाता है। इस बार प्रदोष व्रत मंगलवार को पड़ रहा है इसलिए इसे भौम प्रदोष व्रत कहते हैं। भौम प्रदोष व्रत की महिमा बहुत अधिक हैै।

पढ़ें :- सावन सोमवार 2021: सावन का पहला सोमवार है आज, भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए करें ये काम

कुंडली में मंगल ग्रह संबंधी दोष हो जाते हैं समाप्त
ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव के साथ- साथ हनुमानजी की पूजा करने का भी फल मिलता है। 22 जून 2021 को इस बार भौम प्रदोष व्रत पड़ रहा है। हनुमानजी को भगवान शिव का 11वां अवतार माना गया है, इसलिए प्रदोष व्रत करने से हनुमानजी भी प्रसन्न होते हैं। इसके अलावा अगर किसी व्यक्ति के कुंडली में मंगल ग्रह संबंधी दोष है तो समाप्त हो जाते हैं।

भौम प्रदोष व्रत शुभ मुहूर्त
ज्येष्ठ महीने के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि 22 जून 2021 को पड़ रही है। ज्येष्ठ महीने के त्रयोदशी तिथि आरंभ 10 बजकर 22 मिनट से 23 जून को सुबह 06 बजकर 23 मिनट तक रहेगा। भौम प्रदोष व्रत पूजा का शुभ मुहूर्त- 22 जून को शाम 07 बजकर 22 मिनट से रात 09 बजकर 23 मिनट पर होगा।

बन रहा है सिद्धि और साध्य योग
भौम प्रदोष व्रत के दिन सिद्धि और साध्य योग बन रहा है। इस योग में शुभ काम करना अच्छा होता है। इस दिन भगवान शिव की विधि- विधान से पूजा करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है. साथ ही रोग- दोष से मुक्ति मिलती है।

पढ़ें :- सोमवार को करें भगवान शिव के दर्शन और शिव चालीसा का पाठ, ऊर्जा से रहेंगे लबालब
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...