मुस्लिम देश 3 तलाक खत्म कर सकते हैं तो भारत क्यों नहीं: रविशंकर प्रसाद

पटना| केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने यहां शुक्रवार को कहा कि जब एक दर्जन से ज्यादा इस्लामिक देश तीन बार तलाक प्रणाली को खत्म कर सकते हैं तो भारत जैसे धर्मनिरपेक्ष देश के लिए इसे गलत कैसे माना जा सकता है। उन्होंने हालांकि समान नागरिक संहिता के मुद्दे पर किसी प्रकार की टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।




पटना में उन्होंने कहा, “पाकिस्तान, ट्यूनीशिया, मोरक्को, ईरान और मिस्र जैसे एक दर्जन से ज्यादा इस्लामी देशों ने एक साथ तीन तलाक का विनियमन किया है। अगर इस्लामी देश कानून बनाकर चलन का विनियमन कर सकते हैं तो यह भारत में कैसे गलत हो सकता है, जो धर्मनिरपेक्ष देश है।” उन्होंने कहा कि यह मुद्दा महिलाओं को समान अधिकार दिए जाने का है। उन्होंने कहा कि कोई भी फैसला जल्दबाजी में नहीं लिया जाएगा।

समान नागरिक संहिता के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के संवाददाता सम्मेलन के एक दिन बाद पत्रकारों द्वारा समान नागरिक संहिता के विषय में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि विधि आयोग इस पर विचार कर रहा है और उसने समाज के विभिन्न तबकों से राय मांगी है। उन्होंने कहा कि यह एक विचाराधीन मामला है, इसलिए उन्हें कोई टिप्पणी नहीं करनी है।



Loading...