1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. अंतिम किसान तक गेहूं की खरीद यदि ‘जुमला’ नहीं, तो अंतिम बढ़ाए योगी सरकार : प्रियंका गांधी

अंतिम किसान तक गेहूं की खरीद यदि ‘जुमला’ नहीं, तो अंतिम बढ़ाए योगी सरकार : प्रियंका गांधी

कांग्रेस पार्टी की महासचिव व यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा कि यूपी में गेहूं खरीद की अंतिम तारीख निकल गई है। अभी कई किसानों के गेहूं की सरकारी खरीद नहीं हो पाई है। उन्होंने कहा कि यदि अंतिम किसान तक गेहूं की खरीद यदि जुमला नहीं था। तो भाजपा सरकार गेहूं खरीद की तिथि आगे बढ़ाकर अधिकतम खरीद सुनिश्चित करे। अन्यथा बारिश में किसानों का गेहूं बर्बाद होगा।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी की महासचिव व यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा कि यूपी में गेहूं खरीद की अंतिम तारीख निकल गई है। अभी कई किसानों के गेहूं की सरकारी खरीद नहीं हो पाई है। उन्होंने कहा कि यदि अंतिम किसान तक गेहूं की खरीद यदि जुमला नहीं था। तो भाजपा सरकार गेहूं खरीद की तिथि आगे बढ़ाकर अधिकतम खरीद सुनिश्चित करे। अन्यथा बारिश में किसानों का गेहूं बर्बाद होगा।

पढ़ें :- CM उद्धव ठाकरे के बयान से शिवसेना और BJP के साथ आने की बढ़ी अटकलें, जानिए क्या कहा...
Jai Ho India App Panchang

पढ़ें :- UP Election 2022: कांग्रेस ने गठित की स्क्रीनिंग कमेटी, जितेंद्र सिंह को बनाया अध्यक्ष

बता दें कि प्रियंका गांधी वाड्रा ने इस पहले यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बीते सोमवार को पत्र लिखा था। उन्होंने इस पत्र के माध्यम से किसानों से गेहूं की खरीद सुनिश्चित करने की मांग कर चुकी हैं। श्रीमती वाड्रा ने कहा कि प्रदेश में किसानों को गेहूं की खरीद में परेशानियां उठानी पड़ रही हैं। पहली अप्रैल से गेहूं की खरीद शुरू हो चुकी है, लेकिन कोरोना केे कारण पहले क्रय केंद्रों पर ताले लगे रहे और अब जैसे ही किसानों क्रय केंद्रों पहुंच रहे हैं तो गेहूं खरीद कम करके आधा कर दी गयी है।

उन्होंने कहा कि पंजाब, हरियाणा जैसे प्रदेशों में गेहूं की सरकारी ख़रीद कुल उत्पादन का 80-85 फीसदी तक होता है, जबकि उत्तर प्रदेश में 378 लाख टन उत्पादित गेहूं का 14 प्रतिशत ही सरकारी केंद्रों पर खरीदा जाता है। इससे सभी किसान अपना गेहूं बेच नहीं पाते हैं और क्रय केंद्रों पर गेहूं खरीद में सरकारी फरमानों के कारण अधिकारी मनमानी कर रहे हैं।कांग्रेस की उत्तर प्रदेश की प्रभारी महासचिव ने कहा कि कई गांवों में क्रय केंद्र बंद हो चुके हैं और किसानों को दूर मंडियों में जाने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।

प्रदेश के कई हिस्सों में लगातार बारिश होने से नमी के कारण गेहूं के सड़ने का खतरा पैदा हो गया है। इस स्थिति में किसान अपनी गाढ़ी पसीने की कमाई को औने पौने दाम पर बेचने को मजबूर होंगे।श्रीमती वाड्रा ने अपने पत्र में लिखा कि कोरोना महामारी और महंगाई के कारण किसानों की हालत और ज्यादा ख़राब हो गयी है। फसल की खरीद नहीं मिलने तथा अपनी फसल औने-पौने दामों में बेचने के लिए मजबूर होने की स्थिति से किसानों कहीं का नहीं रहेगा।

उन्होंने सरकार से क्रय केंद्रों पर 15 जुलाई तक किसानों के गेहूं खरीद की गारंटी की मांग करते हुए मुख्यमंत्री से आग्रह किया कि प्रत्येक क्रय केंद्र पर खरीद की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए ताकि किसानों को अनाज बेचने के लिए भटकना न पड़े।श्रीमती वाड्रा ने कहा कि कई जिलों से खबरें आ रहीं हैं कि एक किसान से एक बार में अधिकम 30 या 50 कुंतल गेहूं खरीदा जा रहा है। इससे किसान बहुत परेशान हैं। इस पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाकर किसानों से अधिकतम खरीद की जाए।

पढ़ें :- जिलाधिकारी के ड्राइवर की बहू के साथ मारपीट व नशीली दवाइया दे पागल बनाने की कोशिश, Video हो रहा वायरल
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...