अगर आप भी है मोबाइल की लत से परेशान तो स्वास्थ्य विभाग अब करेगा आपकी मदद, जाने कैसे

mobile addiction
अगर आप भी है मोबाइल की लत से परेशान, स्वास्थ्य विभाग इसपर अब ऐसे करेगा काम

नई दिल्ली। अगर आपको भी मोबाइल फोन की लत लग चुकी है और इस लत के कारण आप कई समस्याओं से जूझ रहें हैं तो परेशान ना हो, क्योंकि स्वास्थ्य विभाग इसमें अब आपकी मदद करेगा। स्वास्थ्य विभाग इस लत को छुड़ाने के लिए एक योजना लेकर आया है। मोबाइल का इस्तेमाल इतना ज़्यादा बढ़ चुका है कि बढ़े हो या बच्चे हर कोई इस लत की चपेट में आ चुका है। जिससे उनमें कई प्रकार की समस्याएं उत्पन्न हो रहीं हैं। मोबाइल की लत छुड़ाने के लिए स्वास्थ विभाग ने हर जिला अस्पतालों में मन कक्ष बनवाने का ऐलान किया है।

If You Are Also Troubled By Mobile Addiction The Health Department Will Do This Now :

बता दें कि इस निर्देश को स्वास्थ्य निदेशक मधु सक्सेना ने जारी किया है। इसके निर्देश के तहत जिला अस्पताल में मन कक्ष की स्थापना की जाएगी जिसमें मनोचिकित्सक और काउंसलर की टीम मोबाइल की लत छोड़ने की सलाह दी जाएगी। इसके बाद औषधि भी दी जाएगी। यह कक्ष इसी महीने शुरू हो जाएगा।

वहीं, सीएमओ का कहना है कि, ‘मोबाइल की लत इस प्रकार हो चुकी है कि अगर किसी बच्चे के हाथ से मोबाइल छीन लिया जाए तो वह आक्रमक हो जाता है। वह अपने अभिभावकों को आत्महत्या करने तक की धमकी दे देता है। ऐसे विकार दूर करने के लिए जिला अस्पताल में इसी महीने मन कक्ष की स्थापना करेगा।

इसमें मनोचिकित्सक के अलावा काउंसलिंग करने वाले विशेषज्ञों को तैनात किया जाएगा। जिला अस्पताल की मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. वंदना शर्मा का कहना है कि अस्पताल में मनो कक्ष है, जिसमें मानसिक बीमारियों से पीड़ित मरीजो का इलाज किया जाता है। मन कक्ष के लिए यदि शासन या सीएमओ की ओर से निर्देश मिलता है तो उसे बनवाया जाएगा।

मन कक्ष में मोबाइल की लत छुड़ाने के लिए इस प्रकार की सलाह दी जाएगी:
  • 2 से 5 साल के बच्चों को मोबाइल पर 01 घंटे से ज्यादा समय ना गुजारने दें।
  • किशोरों के लिए, रात 9 बजे के बाद फोन इस्तेमाल ना करें, अगर वो फोन इस्तेमाल करते हैं तो 2 घंटे से ज़्यादा इस्तेमाल ना करें।
अगर आप इस बात से अंजान है कि आपको मोबाइल कि लत लगी है या नहीं तो ऐसे करें पहचान:
  • दिन में 8 से 12 घंटे तक मोबाइल का इस्तेमाल करना
  • हर 10 मिनट बाद मोबाइल की स्क्रीन देखने की चाहत
  • सोशल मीडिया पर दिन में 8 घंटे से अधिक का समय देना
  • अपने पोस्ट पर कमेंट, लाइक के लिए बार-बार मोबाइल देखना
मोबाइल स्क्रीन से निकलने वाली किरणों से होने वाले नुकसान:
  • अनिद्रा का खतरा
  • आंखों को नुकसान
  • मोटापा व डायबिटीज का खतरा
नई दिल्ली। अगर आपको भी मोबाइल फोन की लत लग चुकी है और इस लत के कारण आप कई समस्याओं से जूझ रहें हैं तो परेशान ना हो, क्योंकि स्वास्थ्य विभाग इसमें अब आपकी मदद करेगा। स्वास्थ्य विभाग इस लत को छुड़ाने के लिए एक योजना लेकर आया है। मोबाइल का इस्तेमाल इतना ज़्यादा बढ़ चुका है कि बढ़े हो या बच्चे हर कोई इस लत की चपेट में आ चुका है। जिससे उनमें कई प्रकार की समस्याएं उत्पन्न हो रहीं हैं। मोबाइल की लत छुड़ाने के लिए स्वास्थ विभाग ने हर जिला अस्पतालों में मन कक्ष बनवाने का ऐलान किया है। बता दें कि इस निर्देश को स्वास्थ्य निदेशक मधु सक्सेना ने जारी किया है। इसके निर्देश के तहत जिला अस्पताल में मन कक्ष की स्थापना की जाएगी जिसमें मनोचिकित्सक और काउंसलर की टीम मोबाइल की लत छोड़ने की सलाह दी जाएगी। इसके बाद औषधि भी दी जाएगी। यह कक्ष इसी महीने शुरू हो जाएगा। वहीं, सीएमओ का कहना है कि, 'मोबाइल की लत इस प्रकार हो चुकी है कि अगर किसी बच्चे के हाथ से मोबाइल छीन लिया जाए तो वह आक्रमक हो जाता है। वह अपने अभिभावकों को आत्महत्या करने तक की धमकी दे देता है। ऐसे विकार दूर करने के लिए जिला अस्पताल में इसी महीने मन कक्ष की स्थापना करेगा। इसमें मनोचिकित्सक के अलावा काउंसलिंग करने वाले विशेषज्ञों को तैनात किया जाएगा। जिला अस्पताल की मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. वंदना शर्मा का कहना है कि अस्पताल में मनो कक्ष है, जिसमें मानसिक बीमारियों से पीड़ित मरीजो का इलाज किया जाता है। मन कक्ष के लिए यदि शासन या सीएमओ की ओर से निर्देश मिलता है तो उसे बनवाया जाएगा।
मन कक्ष में मोबाइल की लत छुड़ाने के लिए इस प्रकार की सलाह दी जाएगी:
  • 2 से 5 साल के बच्चों को मोबाइल पर 01 घंटे से ज्यादा समय ना गुजारने दें।
  • किशोरों के लिए, रात 9 बजे के बाद फोन इस्तेमाल ना करें, अगर वो फोन इस्तेमाल करते हैं तो 2 घंटे से ज़्यादा इस्तेमाल ना करें।
अगर आप इस बात से अंजान है कि आपको मोबाइल कि लत लगी है या नहीं तो ऐसे करें पहचान:
  • दिन में 8 से 12 घंटे तक मोबाइल का इस्तेमाल करना
  • हर 10 मिनट बाद मोबाइल की स्क्रीन देखने की चाहत
  • सोशल मीडिया पर दिन में 8 घंटे से अधिक का समय देना
  • अपने पोस्ट पर कमेंट, लाइक के लिए बार-बार मोबाइल देखना
मोबाइल स्क्रीन से निकलने वाली किरणों से होने वाले नुकसान:
  • अनिद्रा का खतरा
  • आंखों को नुकसान
  • मोटापा व डायबिटीज का खतरा