1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. Haunted जगहों पर गुमने के हैं शौकीन, तो राजस्थान के इन सबसे भुतहे Picnic spot पर जाना न भूलें

Haunted जगहों पर गुमने के हैं शौकीन, तो राजस्थान के इन सबसे भुतहे Picnic spot पर जाना न भूलें

दुनियाभर में 18 जून का दिन अंतरराष्ट्रीय पिकनिक दिवस (International Picnic Day) के रूप में मनाया जाता है। दरअसल ऐसा कहा जाता है कि पिकनिक शब्द फ्रेंच भाषा से आया है, जिसका मतलब होता है प्रकृति के बीच बैठकर भोजन का आनंद उठाना।

By आराधना शर्मा 
Updated Date

Haunted Picnic Spot:  दुनियाभर में 18 जून का दिन अंतरराष्ट्रीय पिकनिक दिवस (International Picnic Day) के रूप में मनाया जाता है। दरअसल ऐसा कहा जाता है कि पिकनिक शब्द फ्रेंच भाषा से आया है, जिसका मतलब होता है प्रकृति के बीच बैठकर भोजन का आनंद उठाना।

पढ़ें :- Fathers Day Special: इन ख़ास डेस्टिनेशन पर फादर्स डे को बनाये स्पेशल

आप सभी को बता दें कि पिकनिक डे मनाने का मकसद लोगों को प्रकृति के प्रति जागरुक करना और अपने बिजी शेड्यूल से समय निकालकर कुछ देर प्रकृति की गोद में बिताना है।

वैसे भारत में कई खूबसूरत पिकनिक स्पॉट हैं, इसी के साथ भारत के कई डरावने पिकनिक स्पॉट भी है जिनके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं। यहाँ आ घूमने जा सकते हैं।

बड़ोग टन, हिमाचल प्रदेश

यूनेस्को के वर्ल्ड हेरिटेज साइट में शामिल कालका-शिमला रेल लाइन में बनी बड़ोग टनल भी बेहद डरावनी है। दरअसल कालका से 41 किमी की दूरी पर स्थित बड़ोग स्टेशन के पास यह टनल है और इस टनल का नाम ब्रिटिश इंजीनियर कर्नल बड़ोग के नाम पर पड़ा है।

कहते है कि इस सुरंग को बनाने की जिम्मेदारी कर्नल बड़ोग को मिली थी। इस सुरंग को बनाने के लिए कर्नल ने दोनों छोर पर निशान लगाते हुए सुरंग खोदने का ऑर्डर दिए।

पढ़ें :- क्या वेरिएंट के खिलाफ प्रभावी है कोविशील्ड और कोवैक्सीन ? जानें क्या है डेल्टा प्लस वेरिएंट और लक्षण

दरअसल उन्हें लगता था कि यह टनल बीच में आकर मिल जाएगी, पर ऐसा नहीं हुआ। उसके बाद कर्नल बड़ोग की गलती पर ब्रिटिश सरकार ने उन्हें फटकार लगाते हुए जुर्माना भी ठोंक दिया और इससे दुखी होकर कर्नल ने इसी सुरंग के पास जाकर खुद को गोली मार ली। दरअसल ऐसा कहा जाता है कि उसके बाद से लेकर अब तक कर्नल की आत्मा यहां भटकती है।

कुलधरा गांव जैसलेमर, राजस्थान

कुलधरा गांव राजस्थान के जैसलमेर जिले में स्थित है। दरअसल यह भारत की सबसे डरावनी जगहों में से एक है और इसे भूतों का गांव भी कहते हैं। कहते हैं कि इस गांव में जो भी शख्स आता है, वो बेहद उदास सा रहने लगता है। ऐसा भी कहा जाता है कि जैसलमेर से सिर्फ 18 किमी दूरी पर बसे इस गांव में कभी 600 लोगों का परिवार रहता था।

दरअसल 18वीं शताब्दी में सालम सिंह गांव की एक लड़की से शादी करना चाहता था, हालाँकि गांववाले अय्याश सालम को अपनी बेटी देने को तैयार नहीं थे। वहीं इसके बाद सभी ने रातोंरात गांव छोड़ दिया और जाते-जाते इस जगह को शापित कर गए। उसके बाद से यहां कोई नहीं रहता। दरअसल लोगों का कहना है कि यहां आज भी औरतों की पायलों और चूड़ियों की आवाजें आती हैं।

भानगढ़ का किला, अलवर, राजस्थान

राजस्थान के अलवर जिले में सरिस्का रिजर्व से लगा भानगढ़ का किला भारत की सबसे डरावनी जगहों में से एक है। दरअसल इस किले को साल 1583 में आमेर के राजा भगवंत दास ने बनवाया था। इस किले को लेकर कहा जाता है कि शाम होने के बाद यहां किसी का भी जाना मना है। इसी के साथ कुछ स्थानीय लोगों का कहना है कि यहां कई लोग गायब भी हो चुके हैं। वैसे, इस किले के बाहर साफ लिखा है कि शाम होने के बाद यहां न रुकें।

 

पढ़ें :- योग दुनिया को भारत की ओर से दिया गया एक अमूल्य उपहार :आनंदीबेन पटेल

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...